लाइव टीवी

बीदर राजद्रोह केस: राज्य की हाईकोर्ट में सफाई- पूछताछ नहीं छात्रों की काउंसलिंग कर रही थी पुलिस

News18Hindi
Updated: February 19, 2020, 8:18 PM IST
बीदर राजद्रोह केस: राज्य की हाईकोर्ट में सफाई- पूछताछ नहीं छात्रों की काउंसलिंग कर रही थी पुलिस
सोशल मीडिया पर छात्रों से बात करती पुलिस की यह फोटो वायरल हुई थी

नाटक के लिए स्कूल के प्रिंसिपल और एक छात्र के माता-पिता को भी राजद्रोह के आरोप में गिरफ्तार किया गया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 19, 2020, 8:18 PM IST
  • Share this:
(स्टेसी परेरा)

बेंगलुरु. बीदर (Bidar) के शाहीन स्कूल में पुलिस द्वारा की जा रही पूछताछ को लेकर राज्य सरकार ने कर्नाटक हाईकोर्ट में जानकारी दी कि बच्चों की काउंसलिंग की जा रही थी. सरकार ने कहा कि जुवेनाइल जस्टिस एक्ट (Juvenile Justice Act) के तहत न तो यह पूछताछ थी न ही बच्चों से सवाल जवाब किए गए.

राज्य की रिपोर्ट सौंपते हुए, महाधिवक्ता (एजी) प्रभुलिंग नवदगी ने दलील दी कि याचिकाकर्ता ने केवल समाचार पत्रों की रिपोर्ट के आधार पर मामला दर्ज किया था, उन्होंने यह याचिका खारिज करने का अनुरोध भी किया. उन्होंने अदालत को बताया कि पुलिस ने कुल 17 छात्रों की जांच की थी - सात छात्र जिन्होंने नाटक में भाग लिया था और 10 जिन्होंने इसे देखा था.

पीआईएल में उठे थे ये सवाल



कर्नाटक हाईकोर्ट अधिवक्ता नयना झावर द्वारा दायर की गई एक जनहित याचिका पर सुनवाई कर रहा था. जिसमें जांच अधिकारी के आचरण पर सवाल उठाए गए थे और पूछा गया था कि क्या स्कूल प्रबंधन द्वारा एक सीएए विरोधी नाटक के प्रदर्शन के लिए राजद्रोह के आरोप के साथ नाबालिग छात्रों से पूछताछ के दौरान नियमों का पालन किया गया था.

इस नाटक के लिए स्कूल के प्रिंसिपल और एक छात्र के माता-पिता को भी राजद्रोह के आरोप में गिरफ्तार किया गया था.

नियमों का हुआ पालन
एजी ने कहा राज्य ने अपनी रिपोर्ट में प्रस्तुत किया कि इसमें पुलिस मैनुअल और जुविनाइल जस्टिस एक्ट और नियमों में निर्धारित नियमों और नियमों का उल्लंघन किए बिना उचित प्रक्रिया का पालन किया गया था. जांच अधिकारी ने जुविनाइल जस्टिस एक्ट के अनुरूप जिला बाल संरक्षण अधिकारी की उपस्थिति में विशेष किशोर पुलिस इकाई के साथ छात्रों की काउंसलिंग की.

राज्य ने यह भी बताया कि जांच अधिकारी ने काउंसलिंग के समय सिविल ड्रेस पहनी थी और याचिकाकर्ता के कथित आरोपों के मुताबिक वह अपने साथ कोई हथियार या बंदूक नहीं ले गए थे. हालांकि, वर्दी में पूछताछ करने वाले छात्रों में पुलिस अधिकारियों की एक वायरल तस्वीर की काफी समय से आलोचना हो रही है.

ये भी पढ़ें-
राकेश मारिया की किताब में शीना बोरा मर्डर इन्वेस्टिगेशन को गुमराह करने का आरोप

ट्रंप की भारत यात्रा में कश्मीर पर होगी बात? अमेरिकी विदेश विभाग ने दिया जवाब

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 19, 2020, 8:08 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर