देश के 29 इलाकों में खतरे के निशान तक पहुंचा नदियों का जल स्तर, मंडरा रहा है बाढ़ का खतरा

देश के 29 इलाकों में खतरे के निशान तक पहुंचा नदियों का जल स्तर, मंडरा रहा है बाढ़ का खतरा
जानिए, कहां-कहां है बाढ़ का खतरा?

41 बांधों (Dam) से पानी छोड़ा जा सकता है. इसके चलते नदियों का जल स्तर बढ़ सकता है. बाढ़ की आशंका को लेकर केंद्रीय जल आयोग (Central water commission) ने फोरकास्ट जारी किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 24, 2020, 2:02 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश के 29 इलाकों में बाढ़ (Flood) का खतरा मंडरा रहा है. नदियों (River) का जल स्तर खतरे के निशान पर पहुंच गया है. सभी इलाकों को सीवियर कंडीशन (ऑरेंज ज़ोन) में रखा गया है. 30 अन्य इलाके भी येलो ज़ोन में आ गए हैं. यहां भी बाढ़ का खतरा 2 से 3 मीटर ही दूर है.

ओडिशा, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, उत्तर प्रदेश (UP), तेलंगाना, छत्तीसगढ़ और उत्तराखंड में रुक-रुककर तेज़ बारिश हो रही है. जिसके चलते 41 बैराज और बांधों (Dam) से पानी छोड़ा जा सकता है. इसके चलते भी नदियों के पानी में और उफान आ सकता है. बाढ़ की आशंका को लेकर केंद्रीय जल आयोग (Central water commission) ने फोरकास्ट जारी किया है.

देश में यहां बिगड़ सकते हैं बाढ़ के हालात
बाढ़ की आशंका को लेकर केंद्रीय जल आयोग की ओर से जारी किए गए फोरकास्ट के बाद 12 राज्यों में हड़कंप मच गया है. देश के 29 इलाकों में नदियों के पानी का उफान खतरे के निशान से सिर्फ एक से डेढ़ मीटर दूर रह गया है. इन 29 इलाकों में बिहार के 16, असम के 4, उत्तर प्रदेश के 4 और आंध्र प्रदेश, झारखंड, ओडिशा और पश्चिम बंगाल के 1-1 क्षेत्र शामिल हैं. वहीं 30 इलाके ऐसे भी हैं जहां नदियों का उफान खतरे के निशान से 2 से 3 मीटर दूर है. इनमें बिहार के 9, असम के 9, उत्तर प्रदेश के 6, तेलंगाना के 3, आंध्र प्रदेश के 2 और अरुणाचल प्रदेश में एक इलाका है.
ये भी पढ़ें : इन अस्‍पतालों में शुरू हो गया है मोबाइल OPD, यहां जानें कैसे उठा सकते हैं फायदा




41 बैराज-बांध से पानी छोड़े जाने से यहां बढ़ सकता है खतरा
बेशक अभी ऑरेंज ज़ोन के 29 और येेलो ज़ोन के 30 इलाकों में बाढ़ का खतरा कुछ ही दूरी पर है. लेकिन लगातार बारिश के चलते 41 बैराज और बांध में लगातार पानी बढ़ रहा है. एक तय सीमा तक पानी बढ़ने के बाद बैराज और बांध से पानी छोड़ा जा सकता है. जिसके चलते नदियों का जलस्तर और बढ़ सकता है.

केंद्रीय जल आयोग के अनुसार जिन 41 बैराज और बांधों से पानी छोड़ा जाना है उसमें कर्नाटक के 13, मध्य प्रदेश और आंध्र प्रदेश के 5-5, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, तेलंगाना और झारखंड के 3-3 और छत्तीसगढ़, गुजरात, ओडिशा के 1-1 बैराज के बारे में फोरकास्ट जारी किया है.

ये भी पढ़ें: जानिए, कानून बनने के बाद कहां घटे और कहां बढ़ रहे Triple talaq के मामले

इन इलाकों में जारी किया गया है अलर्ट
केंद्रीय जल आयोग का कहना है कि बारिश के मौजूदा हालात को देखते हुए गोदावरी नदी और उसकी सहायक नदियों जैसे इंद्रावती एवं सबरी का जल स्‍तर फिर से बढ़ने की संभावना है. ओडिशा के नवरंगपुर, कोरापुट, मलकानगिरी, छत्तीसगढ़ के बस्तर, सुकमा, नारायणपुर, दंतेवाड़ा, बीजापुर और महाराष्ट्र के गढ़चिरौली, चंद्रपुर ज़िलों में निरंतर पैनी निगरानी रखी जा रही है.


वहीं, कृष्णा नदी और उसकी सहायक नदियों जैसे तुंगभद्रा एवं भीमा में भी जलस्‍तर के बढ़ने की संभावना है. अधिकतर बांधों से भी भारी मात्रा में पानी छोड़े जाने की पूरी संभावना है. महाराष्ट्र के सतारा, कोल्हापुर, कर्नाटक के बागलकोट, विजयपुरा, रायचूर, बेलगावी, तेलंगाना के जोगुलम्बा, गडवाल और नलगोंडा, आंध्र प्रदेश के कुरनूल, गुंटूर और कृष्णा ज़िलों में निरंतर करीबी निगरानी रखी जा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज