अपना शहर चुनें

States

सुप्रीम कोर्ट का आदेश, अब कोरोना मरीज के घर के बाहर नहीं लगेंगे यह पोस्टर

सुप्रीम कोर्ट ने कुछ शर्तों के साथ कोरोना मरीज के घर के बाहर पोस्टर लगाने की इजाज़त दी है.
सुप्रीम कोर्ट ने कुछ शर्तों के साथ कोरोना मरीज के घर के बाहर पोस्टर लगाने की इजाज़त दी है.

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) का कहना है कि पोस्टर लगाए जाने से कोरोना (Corona) मरीजों और उनके घर वालों को पड़ोसियों से दिक्कत हो रही है. यह उनकी निजता का हनन भी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 9, 2020, 11:45 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना मरीजों (Corona patients) के घर के बाहर पोस्टर (Poster) लगाने की कोई ज़रूरत नहीं है. लेकिन अगर लगाना ज़रूरी हो तो इसके लिए पहले संबंधित अधिकारी (केंद्र सरकार) (Central government) का आदेश होना चाहिए. ऐसा करने से मरीजों के साथ भेदभाव हो रहा है. यह कहना है सुप्रीम कोर्ट का. एक याचिका पर सुनवाई करते हुए आज सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने यह बात कही है. हालांकि इससे पहले की सुनवाई में कोर्ट ने सख्त टिप्पणी करते हुए कहा था कि इस तरह पोस्टर लगाने से मरीज अछूत समझे जा रहे हैं. ऐसे मरीजों से अछूतों जैसा व्यवहार किया जा रहा है.

इस मुद्दे पर पहली सुनवाई में यह हुई थी बहस
पहली सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने याचिका पर गौर करते हुए यह भी कहा था कि उन लोगों की निजता का हनन है जहां पोस्टर लगाए गए हैं. साथ ही पोस्टर लगाए जाने से मरीजों और उनके घर वालों को पड़ोसियों से दिक्कत हो रही है. वहीं सरकार की तरफ से पक्ष रखते हुए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने साफ किया कि केंद्र सरकार ने ऐसा कोई निर्देश नहीं दिया है.

इंटरनेशनल मिठाई बना गुड़, इतने देशों में Export हो रहा लाखों टन गुड़
पोस्टर लगाए जाने का फैसला राज्य सरकारों का है. उनका मकसद ये है कि मरीज के पड़ोसी या कोई और वहां उस घर में या आसपास जाने से बचें. इस तरह कोरोना से बचा जा सकता है. लेकिन इस पर भी सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि ज़मीनी हकीकत कुछ और है, पोस्टर लगाए जाने से लोग मरीजों को अछूत समझने लगे हैं.



एक्टिव केस के मामले में भारत अब 8वें स्थान पर
कोरोना के एक्टिव केस के मामले में भारत अब 7वें से 8वें नंबर पर पहुंच गया है. मतलब अब भारत दुनिया का 8वां देश है, जहां सबसे ज्यादा एक्टिव केस यानी ऐसे मरीज हैं जिनका इलाज चल रहा है. फिलहाल 3 लाख 78 हजार 909 मरीजों का इलाज चल रहा है. एक्टिव केस के मामले में सबसे खराब हालत अमेरिका की है. यहां अभी 60.96 लाख ऐसे मरीज हैं, जिनका इलाज चल रहा है. रिकवरी के मामले में भी भारत की स्थिति टॉप-10 संक्रमित देशों में सबसे बेहतर है. यहां हर 100 मरीजों में 95 लोग ठीक हो रहे हैं, जबकि एक की मौत हो रही है.

कोरोना से प्रभावित प्रमुख राज्यों का हाल
राजधानी दिल्ली में मंगलवार को 3188 लोग संक्रमित पाए गए. 3307 लोग रिकवर हुए और 57 की मौत हो गई. अब तक 5 लाख 97 हजार 112 लोग संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं. इनमें 22 हजार 310 मरीजों का इलाज चल रहा है. 5 लाख 65 हजार 39 लोग ठीक हो चुके हैं. संक्रमण से जान गंवाने वालों की संख्या अब 9763 हो गई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज