Bihar Chunav: असदुद्दीन ओवैसी की रैलियों में जुटते हैं पर AIMIM को वोट क्यों नहीं करते बिहार के मुसलमान?

बिहार चुनाव 2020 के तमाम एग्जिट पोल में ओवैसी की पार्टी वाले गठबंधन को 3-5 सीट ही मिलती दिख रही हैं.
बिहार चुनाव 2020 के तमाम एग्जिट पोल में ओवैसी की पार्टी वाले गठबंधन को 3-5 सीट ही मिलती दिख रही हैं.

बिहार विधानसभा चुनाव परिणाम 2020 (Bihar Assembly Election Result 2020) : CAA और NRC की पिच पर बिहार चुनाव लड़ने वाले असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) की पार्टी AIMIM एक बार फिर 2015 के जैसे हालात में पहुंच सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 10, 2020, 7:05 AM IST
  • Share this:
(संतोष चौबे)

नई दिल्ली/पटना. बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election 2020) में बड़ी उम्मीद लेकर उतरे ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) को एक बार फिर निराशा हाथ लग सकती है. 2019 के लोकसभा चुनाव और बाद में किशनगंज में उपचुनाव में जीत के बाद ओवैसी को बिहार विधानसभा के चुनाव से काफी उम्मीदें थीं, लेकिन तीन चरण में हुए चुनावों के बाद जारी हुए एग्जिट पोल (Exit Polls) के नतीजों में मुस्लिम वोटर्स उनका साथ देते नहीं दिख रहे है. तमाम एग्जिट पोल में ओवैसी की पार्टी वाले गठबंधन को महज़ 3-5 सीट ही मिलती दिख रही हैं.

2015 के बिहार विधानसभा चुनावों में ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) एक अनुपस्थित पार्टी के तौर पर थी. AIMIM ने भले ही मुस्लिम आबादी वाले सीमांचल क्षेत्र में चुनाव लड़ने का फैसला किया, लेकिन इससे कुछ फायदा नहीं मिला. सीमांचल क्षेत्र में ओवैसी की पार्टी छह सीटों पर लड़ी और पांच में हार का सामना करना पड़ा. पार्टी के लिए एकमात्र अच्छी बात यह थी कि कोचधामन निर्वाचन क्षेत्र में उपचुनाव हुआ था, जिसमें उसके उम्मीदवार को 26.14% वोट मिले थे.












लोकसभा चुनाव में प्रदर्शन से AIMIM ने खींचा ध्यान

आगे पढ़ें
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज