बिहार चुनाव के प्रत्याशियों की संपत्ति ब्रिटेन के पीएम से कहीं ज्यादा, यह आंकड़े दे रहे गवाही

तस्वीर-  Reuters/ news18.com
तस्वीर- Reuters/ news18.com

Bihar Assembly elections 2020: विधानसभा चुनाव में दो चरणों में 2529 में से 870 करोड़पति उम्मीदवार मैदान में हैं . इनकी औसतन संपत्ति ब्रिटेन के पीएम बोरिस जानसन से ज्यादा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 29, 2020, 10:03 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय राजनीति में नेताओं की आमदनी का मुद्दा किसी से छिपा हुआ नहीं है. उद्योग से ज्यादा एक बेहतर निवेश की जगह मानी जाने वाली राजनीति में भले ही दल गरीबों के लिए वादे और दावे करते रहें लेकिन उनका प्रत्याशी इतना अमीर होता ही है कि वह शायद ही गरीबों का दर्द समझ सके. एक रिपोर्ट के अनुसार बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar election 2020) के पहले चरण में हुए मतदान में 1066 प्रत्याशियों में से 375 उम्मीदवार करोड़पति है.

एडीआर के आंकड़ों के मुताबिक, बिहार चुनाव में इस बार 375 उम्मीदवार (कुल 35 प्रतिशत) करोड़पति हैं, यानी हर तीसरे उम्मीदवार की संपत्ति करोड़ में है. वहीं, सभी प्रत्याशियों की औसत संपत्ति 1.99 करोड़ है. इसमें 9 प्रतिशत उम्मीदवारों की संपत्ति 5 करोड़ से ज्यादा, 12 प्रतिशत उम्मीदवारों की संपत्ति 2 से 5 करोड़, 28 प्रतिशत उम्मीदवारों की संपत्ति 50 लाख से 2 करोड़ के बीच है.

भाजपा के 29 में 24 प्रत्याशी करोड़पति
बिहार इलेक्शन वॉच और एडीआर के मुताबिक, सबसे ज्यादा करोड़पति उम्मीदवार राष्ट्रीय जनता दल के पास हैं. पहले चरण में राजद 41 सीटों पर चुनाव लड़ रही है, जिसमें 39 उम्मीदवार (95 प्रतिशत) करोड़पति हैं. इसके बाद जनता दल यूनाइटेड में सबसे ज्यादा प्रत्याशी करोड़ों के मालिक हैं. प्रथम चरण में जदयू के 35 में से 31 (89 प्रतिशत) प्रत्याशियों के पास करोड़ों की संपत्ति है.
वहीं, भाजपा के 29 में 24 प्रत्याशी (83 प्रतिशत), लोजपा के 41 में 30 प्रत्याशी (73 प्रतिशत), कांग्रेस के 21 में से 14 प्रत्याशी (67 प्रतिशत) और बसपा के 26 में से 12 प्रत्याशी (46 प्रतिशत) करोड़पति हैं. अगर हम इसकी तुलना ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जानसन की सैलरी से करें तो उन्हें फिलहाल 1.44 करोड़ रुपए मिलते हैं. उससे ज्यादा औसत संपत्ति चुनाव में प्रत्याशियों की है.



दूसरे चरण में 495 उम्मीदवार करोड़पति
वहीं दूसरे चरण की बात करें तो  ADR रिपोर्ट के मुताबिक बिहार चुनाव के दूसरे फेज में कुल 495 करोड़पति उम्मीदवार सियासी रण में किस्मत आजमाने उतरे हैं. इनमें से 118 प्रत्याशियों ने अपने पास 5 करोड़ रुपए या उससे अधिक की संपत्ति घोषित की है. सबसे ज्यादा करोड़पति उम्मीदवार BJP की तरफ से मैदान में हैं. पार्टी के 46 में से 39 प्रत्याशी करोड़पति हैं. RJD के 56 में से 46, JDU के 43 में से 35 प्रत्याशी करोड़पति हैं. इसके अलावा LJP के 52 में से 38, Congress के 24 में से 20 और BSP के 33 में से 11 उम्मीदवार करोड़पति हैं.

रिपोर्ट के मुताबिक दूसरे चरण के चुनाव में सबसे ज्यादा संपत्ति वाले उम्मीदवारों की लिस्ट में Congress के वैशाली सीट से उम्मीदवार संजीव सिंह का नाम टॉप पर है. उनके पास 56 करोड़ रुपए से ज्यादा की संपत्ति है.

राज्यसभा में जहां एक सांसद की औसत संपत्ति 67 करोड़ रुपए
मौजूदा बिहार चुनाव से हटकर बीचे कुछ चुनावों की बात करें तो आंकड़े इस बात की तस्दीक करते हैं कि गरीबों के लिए नीति नियम तय करने वाले हमारे माननीय गरीब तो बिल्कुल ही नहीं है. एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार साल 2019 की मई में संपन्न हुए लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर दोबारा चुनाव लड़ने वाले 170 सांसदों की संपत्ति में औसतन 13 करोड़ से 17 करोड़ रुपए तक की वृद्धि दर्ज की गई.

पांच साल में एनसीपी के चार सांसदों की संपत्ति में 102 करोड़ रुपए तक का इजाफा हुआ जबकि कांग्रेस के 38 सांसदों की औसतन संपत्ति में 60 करोड़ की वृद्धि पाई गई. इसी समयावधि में बात अकाली दल के दो सांसदों की करें तो इनकी औसतन संपत्ति में 115 करोड़ रुपए तक बढ़ी.

बता दें राज्यसभा में कुल सांसदों में से 203 सांसद करोड़पति हैं. वहीं लोकसभा में 475 सांसद करोड़पति हैं. राज्यसभा में जहां एक सांसद की औसत संपत्ति 67 करोड़ रुपए है तो वहीं लोकसभा में यह 93 करोड़ रुपए है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज