बिहार चुनाव: कांग्रेस ने खुद को माना महागठबंधन में कमजोर कड़ी, तारिक अनवर बोले- आत्मचिंतन की जरूरत

बिहार में चुनावी रैली के दौरान कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और तेजस्वी यादव (फाइल फोटो)
बिहार में चुनावी रैली के दौरान कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और तेजस्वी यादव (फाइल फोटो)

Bihar Assembly Election Results: बिहार विधानसभा चुनावों में महागठबंधन को मिली हार के बाद कांग्रेस के महासचिव तारिक अनवर ने कहा कि कांग्रेस के कमजोर प्रदर्शन के कारण राज्य में महागठबंधन की सरकार नहीं बन सकी और हमें सच को स्वीकारना चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 12, 2020, 6:08 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections) में एक बार फिर से एनडीए की जीत हुई. राज्य में महागठबंधन सरकार बनाने से चूक गया जिसका प्रमुख कारण कांग्रेस का खराब प्रदर्शन बताया जा रहा है. कांग्रेस ने भी इस बात को स्वीकार कर लिया है. कांग्रेस (Congress) के 19 सीटों पर सिमट जाने के बाद पार्टी महासचिव तारिक अनवर (Party General Seceratary) ने गुरुवार को कहा कि इस सच्चाई को स्वीकार करना चाहिए कि कांग्रेस के कमजोर प्रदर्शन के कारण ही महागठबंधन (Mahagathbandhan) की सरकार नहीं बन पाई. अनवर ने कहा कि ऐसे में उनकी पार्टी को आत्मचिंतन करना चाहिए कि उससे चूक कहां हुई. उन्होंने यह भी कहा कि बिहार में एआईएमआईएम (AIMIM) का प्रवेश शुभ संकेत नहीं है. असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) की पार्टी ने सीमांचल क्षेत्र की पांच सीटें जीती हैं.

कटिहार से कई बार लोकसभा सदस्य रह चुके अनवर ने ट्वीट किया, ‘भले ही भाजपा गठबंधन येन केन प्रकारेण चुनाव जीत गया, परंतु सही में देखा जाए तो ‘बिहार’ चुनाव हार गया. इस बार बिहार परिवर्तन चाहता था.15 वर्षों की निकम्मी सरकार से छुटकारा और बदहाली से निजात चाहता था.’’

ये भी पढ़ें- बिहार चुनाव परिणाम: चिराग ने नीतीश ही नहीं तेजस्वी का भी खेल कर दिया खराब !
पूर्व केंद्रीय मंत्री ने इस बात पर जोर दिया, ‘‘हमें सच को स्वीकार करना चाहिए. कांग्रेस के कमज़ोर प्रदर्शन के कारण महागठबंधन की सरकार से बिहार महरूम रह गया. कांग्रेस को इस विषय पर आत्म चिंतन ज़रूर करना चाहिए कि उस से कहां चूक हुई ?’’मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) पर तंज कसते हुए उन्होंने कहा, ‘‘भाजपा की मेहरबानी रही तो नीतीश जी इस बार अंतिम रूप से मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे. देखते हैं कि बकरे की मां कब तक खैर मनाएगी.’’




गौरतलब है कि बिहार विधानसभा चुनाव में एनडीए 125 सीटें हासिल करके एक बार फिर से सरकार बनाने जा रहा है. राजद की अगुआई वाले महागठबंधन को 110 सीटों से ही संतोष करना पड़ा. इस गठबंधन में 70 सीटों पर चुनाव लड़ने वाली कांग्रेस को सिर्फ 19 सीटों पर जीत मिली.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज