Home /News /nation /

बिहार में सबसे अधिक पकड़ा गया गांजा, यूपी, नागालैंड समेत ये राज्‍य भी रहे आगे

बिहार में सबसे अधिक पकड़ा गया गांजा, यूपी, नागालैंड समेत ये राज्‍य भी रहे आगे

बड़ी मात्रा में पकड़ा गया गांजा. (File pic)

बड़ी मात्रा में पकड़ा गया गांजा. (File pic)

2020-21 में बिहार में 12 मामलों में कुल 13,446 किलोग्राम गांजा जब्त किया गया, जबकि नागालैंड में दस मामलों से 9,001 किलोग्राम और उत्‍तर प्रदेश में तस्‍करी के छह मामलों से 8,386 किलोग्राम गांजा जब्त किया गया. कुल मिलाकर डीआरआई ने देश में लगभग 45 मीट्रिक टन गांजा जब्त किया है.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्‍ली. राजस्व खुफिया निदेशालय (DRI) की ओर से भारत में तस्करी (Smuggling) पर आधारित एक ताजा रिपोर्ट जारी की गई है. इसके अनुसार एक साल के अंतराल के बाद बिहार (Bihar) फिर से सबसे अधिक गांजा (Ganja) की बरामदगी के साथ देश का टॉप राज्‍य बना है. 2020-21 में बिहार में 12 मामलों में कुल 13,446 किलोग्राम गांजा जब्त किया गया, जबकि नागालैंड में दस मामलों से 9,001 किलोग्राम और उत्‍तर प्रदेश में तस्‍करी के छह मामलों से 8,386 किलोग्राम गांजा जब्त किया गया.

    कुल मिलाकर डीआरआई ने देश में लगभग 45 मीट्रिक टन गांजा जब्त किया है. छत्तीसगढ़, तेलंगाना, महाराष्ट्र और आंध्र प्रदेश में भी बड़ी मात्रा में गांजे की बरामदगी दर्ज हुई है. डीआरआई की रिपोर्ट के अनुसार सोने और नशीले पदार्थों की तस्करी को पकड़ने में कोरोना महामारी चुनौती के रूप में आई है. रिपोर्ट में कहा गया है कि 2020-21 में तस्करों ने कुरियर और पोस्टल कार्गो को ड्रग्स की तस्‍करी के लिए सबसे अधिक इस्‍तेमाल किया.

    डीआरआई ने इसे राष्ट्रीय सुरक्षा चिंता के रूप में बताया है. डीआरआई की रिपोर्ट में कहा गया है, ‘डीआरआई ने वित्त वर्ष 2020-21 में भी गांजे की जब्ती जारी रखी, जो भारत में गांजा के उत्पादन और खपत के अनुरूप है.’ 2018-19 में बिहार, आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र और असम में सर्वाधित गांजा बरामदगी हुई थी. 2019-20 में सूची में शीर्ष पर रहने वाले राज्य यूपी, महाराष्ट्र, तेलंगाना और तमिलनाडु थे. वहीं 2019-20 में डीआरआई ने तस्करी के 412 मामलों का पता लगाया था. 1,949 करोड़ रुपये के पदार्थ की जब्ती हुई थी.

    यह भी पढ़ें: 6 दिसंबर को JNU में फिर कथित रूप से हुई नारेबाजी, देशद्रोह का केस दर्ज करने की मांग

    गांजा को नारकोटिक्स ड्रग्स एंड साइकोट्रोपिक सब्सटेंस (एनडीपीएस) अधिनियम के तहत कंट्रोल किया जाता है. रिपोर्ट में कहा गया है कि यह एक राष्ट्रीय सुरक्षा चिंता का विषय भी है क्योंकि गांजे की तस्करी गतिविधियों में शामिल क्षेत्र वामपंथी उग्रवाद से प्रभावित हैं. रिपोर्ट में कहा गया है कि गांजे की तस्करी से होने वाली अवैध आय का इस्तेमाल ऐसे चरमपंथी समूहों द्वारा राष्ट्र विरोधी गतिविधियों की फंडिंग के लिए किया जाता है.

    Tags: Drugs trade

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर