गेम चेंजर: बायोलॉजिकल ई की स्‍वदेशी कोरोना वैक्‍सीन 90% तक हो सकती है प्रभावी

अक्‍टूबर तक आएगी बायोलॉजिकल ई की कोरोना वैक्‍सीन. (File pic)

Corona Vaccine: सरकार के कोविड वर्किंग ग्रुप के चेयरमैन डॉक्‍टर एनके अरोड़ा का कहना है कि बायोलॉजिकल ई की यह स्‍वदेशी कोरोना वैक्‍सीन कोविड 19 के खिलाफ गेम चेंजर साबित हो सकती है.

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. देश में कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) के मामले अब कम आ रहे हैं. साथ ही देश में अब बड़े स्‍तर पर कोरोना वायरस की वैक्‍सीन (Corona Vaccine) का टीकाकरण चल रहा है. इस दौरान अभी कोविशील्‍ड और कोवैक्सिन लगाई जा रही है. इसके साथ ही अब भारत की एक और स्‍वदेशी कोरोना वैक्‍सीन जल्‍द आने वाली है. इसे बायोलॉजिकल ई (Biological E) कंपनी बना रही है. इस वैक्‍सीन का नाम कोर्बेवैक्‍स (Corbevax) है. सरकारी एडवाइजरी पैनल के एक शीर्ष डॉक्‍टर का कहना है कि ऐसा माना जा रहा है कि बायोलॉजिकल ई की ये वैक्‍सीन कोरोना वायरस पर 90 फीसदी तक प्रभावी हो सकती है.

    सरकार के कोविड वर्किंग ग्रुप के चेयरमैन डॉक्‍टर एनके अरोड़ा का कहना है कि बायोलॉजिकल ई की यह स्‍वदेशी कोरोना वैक्‍सीन कोविड 19 के खिलाफ गेम चेंजर साबित हो सकती है. उन्‍होंने यह भी जानकारी दी है के इस स्‍वदेशी वैक्‍सीन का तीसरे चरण का ट्रायल शुरू होने जा रहा है. यह अक्‍टूबर तक उपलब्‍ध हो सकती है.

    डॉ. अरोड़ा के मुताबिक कोर्बेवैक्‍स बिलकुल नोवावैक्‍स की तरह ही होगी. कंपनी का भी दावा है कि यह 90 फीसदी से भी अधिक प्रभावी होगी. नोवावैक्‍स को भी भारत में सीरम इंस्‍टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा बनाया जाना है. सीरम इंस्‍टीट्यूट ही कोविशील्‍ड को बना रहा है.

    डॉ. अरोड़ा ने बताया है कि नोवावैक्‍स और कोर्बेवैक्‍स काफी बेहतर वैक्‍सीन हैं. ये सभी आयु वर्ग के लिए कारगर हैं. यह अक्‍टूबर तक भारत में उपलब्‍ध हो जाएगी. उनका मानना है कि दुनिया जल्‍द ही प्रभावी और किफायती कोरोना वैक्‍सीन के लिए भारत पर निर्भर हो सकती है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.