Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    बिप्लव देव ने कहा, मुगल त्रिपुरा की सांस्कृतिक विरासत को नष्ट करना चाहते थे

    देव (Deb) ने रविवार को यहां एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए लोगों से कहा कि वे राज्य की सुंदरता और सांस्कृतिक विरासत को बढ़ावा देने के लिए सोशल मीडिया (Social Media) का उपयोग करें.
    देव (Deb) ने रविवार को यहां एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए लोगों से कहा कि वे राज्य की सुंदरता और सांस्कृतिक विरासत को बढ़ावा देने के लिए सोशल मीडिया (Social Media) का उपयोग करें.

    देव (Deb) ने रविवार को यहां एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए लोगों से कहा कि वे राज्य की सुंदरता और सांस्कृतिक विरासत को बढ़ावा देने के लिए सोशल मीडिया (Social Media) का उपयोग करें.

    • News18Hindi
    • Last Updated: November 19, 2019, 8:00 AM IST
    • Share this:
    अगरतला. त्रिपुरा (Tripura) के मुख्यमंत्री बिप्लब देब (Biplab Kumar Deb) ने कहा कि मुगलों का इरादा अपनी कलाओं और वास्तुशिल्प को अत्यधिक बढ़ावा देकर राज्य की सांस्कृतिक विरासत को नष्ट करने का था. देव ने रविवार को यहां एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए लोगों से कहा, कि वे राज्य की सुंदरता और सांस्कृतिक विरासत को बढ़ावा देने के लिए सोशल मीडिया का उपयोग करें.

    एक आधिकारिक बयान में उनके हवाले से कहा गया कि त्रिपुरा में कई अद्भुत चीजें हैं, जिनके बारे में लोग नहीं जानते हैं... मुगल अपनी कला और वास्तुशिल्प को अत्यधिक बढ़ावा देकर त्रिपुरा की संस्कृति को नष्ट करना चाहते थे.

    उन्होंने कहा कि माताबारी की देवी इतनी दिव्य है कि कछुआ भी अपनी अंतिम सांस लेने से पहले मंदिर तक जाता है. ये सभी चमत्कार सोशल मीडिया पर साझा किए जाने के लायक हैं, क्योंकि कई लोग त्रिपुरा के चमत्कारों के बारे में नहीं जानते हैं.



    बिप्लब कुमार देब को त्रिपुरा में 9 मार्च 2019 को दसवें मुख्यमंत्री के रूप में नियुक्त किया गया था. देब ने जनता से जुड़ने के लिए अभी कुछ ही समय पहले एक नया तरीका निकाला था. वो बिना बताये जनता के घर जाकर उनके साथ खाना खाते थे और हाल-चाल जानते थे.
    उन्होंने ट्वीट कर अपना अनुभव शेयर किया है. उन्होंने कहा कि मैंने बिना बताए लोगों के घर में पहुंच कर उनके साथ खाना खाया और प्रत्येक रविवार को मैं ऐसा दौरा करुंगा. मुझे राज्य के लोगों से काफी प्यार मिला. (भाषा इनपुट के साथ)

    ये भी पढ़ें : UP में रंग और नाम बदलने वाली सरकार, आखिरकार काम कब करेगी: अखिलेश यादव
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज