होम /न्यूज /राष्ट्र /बिप्लब देब का इस्तीफा: त्रिपुरा में बीजेपी के पहले सीएम ने चुनाव से 1 साल पहले क्यों छोड़ा पद और आगे क्या है रास्ता

बिप्लब देब का इस्तीफा: त्रिपुरा में बीजेपी के पहले सीएम ने चुनाव से 1 साल पहले क्यों छोड़ा पद और आगे क्या है रास्ता

बतौर सीएम बिप्लब कुमार देब एक कार्यक्रम के दौरान बुजुर्ग महिला से बात करते हुए. (फाइल फोटो)

बतौर सीएम बिप्लब कुमार देब एक कार्यक्रम के दौरान बुजुर्ग महिला से बात करते हुए. (फाइल फोटो)

Biplab Deb Resign: बिप्लब देब का इस्तीफा उत्तराखंड, कर्नाटक और गुजरात में पार्टी के मुख्यमंत्रियों द्वारा इसी तरह से बा ...अधिक पढ़ें

नई दिल्ली/प्रज्ञा कौशिक. त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब के इस्तीफे के साथ ही भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने राज्य में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले एक और मुख्यमंत्री बदलने का फैसला किया है. बिप्लब कुमार देब ने शनिवार शाम को घोषणा की कि उन्होंने राज्यपाल एसएन आर्य को अपना इस्तीफा सौंप दिया है. देब ने गुरुवार को राष्ट्रीय राजधानी में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात की थी.

देब का इस्तीफा ऐसे समय में आया है, जबकि बीजेपी की त्रिपुरा इकाई में अंदरूनी कलह की अफवाहों का दौर चल रहा है. त्रिपुरा की 60 सीटों वाली विधानसभा में अगले साल चुनाव होने हैं. सूत्रों ने न्यूज़18 को बताया कि बिप्लब देब को संगठन में शामिल किए जाने की संभावना है और बाद में दिन में पार्टी की विधायक दल की बैठक में एक नए मुख्यमंत्री का चुनाव होने वाला है.

सूत्रों के मुताबिक केंद्रीय मंत्री भूपेंद्र यादव और वरिष्ठ नेता व पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव विनोद तावड़े को नए नेता के चयन के लिए केंद्रीय पर्यवेक्षक बनाया गया है. दोनों नेता फिलहाल, अगरतला में हैं और वे विधायक दल की बैठक में हिस्सा लेंगे. इन दोनों नेताओं के अलावा भाजपा सांसद व त्रिपुरा के प्रभारी विनोद सोनकर भी इस बैठक में मौजूद रहेंगे.

बिप्लब देब का इस्तीफा उत्तराखंड, कर्नाटक और गुजरात में पार्टी के मुख्यमंत्रियों द्वारा इसी तरह से बाहर निकलने के बाद आया है. सूत्रों ने कहा कि भाजपा के शीर्ष नेतृत्व द्वारा प्रशासन और रैंकों में असंतोष के बारे में प्रतिकूल रिपोर्ट प्राप्त करने के बाद देब का बाहर निकलना जरूरी हो गया था.

भाजपा की सहयोगी पार्टी को भी देब से थी नाराजगी

त्रिपुरा में भाजपा की सहयोगी पार्टी इंडिजिनस पीपुल्स फ्रंट ऑफ त्रिपुरा (आईपीएफटी) ने भी केंद्रीय नेतृत्व को देब के बारे में अपनी आपत्ति जताई थी. राज्य समिति के पुनर्गठन को लेकर आईपीएफटी में कलह ने चुनाव से एक साल पहले त्रिपुरा की राजनीति को झकझोर कर रख दिया है. कहा जा रहा है कि टीआईपीआरए मोठ के प्रद्युत किशोर देब बर्मन भी आदिवासी सीटों पर नजर गड़ाए हुए हैं.

त्रिपुरा में भाजपा के पहले सीएम थे बिप्लब

2018 में पार्टी के सत्ता में आने के बाद बिप्लब देब ने त्रिपुरा में भाजपा के पहले मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी. 2018 के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने राज्य में दो दशकों से अधिक समय तक शासन करने वाले सीपीआई (एम) सरकार को उखाड़ फेंका था.

Tags: Biplab Deb, BJP, Tripura

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें