भारत के साथ ही 10 यूरोपीय देशों में भी फैला है बर्ड फ्लू, जानिए दस प्रमुख बातें

डेनमार्क में पक्षियों को वैक्‍सीन दी जा रही है.

Bird Flu: पिछले कुछ दिनों में इस खतरनाक वायरस के कारण सैकड़ों पक्षियों की मौत हो चुकी है. देश के पांच राज्‍यों में इसके फैलने की पुष्टि हो चुकी है.

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. भारत में कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) के साथ ही बर्ड फ्लू (Bird Flu) भी तेजी से फैल रहा है. पिछले कुछ दिनों में इस खतरनाक वायरस के कारण सैकड़ों पक्षियों की मौत हो चुकी है. देश के पांच राज्‍यों में इसके फैलने की पुष्टि हो चुकी है. अब इसे लेकर राज्‍य सरकारों में हड़कंप मचा है. इसके प्रसार को कम करने के लिए हर जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं. वहीं बर्ड फ्लू सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि 10 यूरोपीय देशों में भी फैला है.

    केरल में बर्ड फ्लू के वायरस एच5एन8 स्ट्रेन के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए मुर्गे-मुर्गियों और बत्तखों को मारना शुरू कर दिया गया जबकि हिमाचल प्रदेश, राजस्थान और मध्य प्रदेश में फ्लू के मामले रिपोर्ट होने के बाद जम्मू-कश्मीर ने अलर्ट घोषित कर दिया है और प्रवासी पक्षियों के नमूने लेने शुरू कर दिए हैं. केरल में पक्षियों के संक्रामक रोग के प्रकोप के बाद पड़ोसी कर्नाटक और तमिलनाडु ने निगरानी बढ़ा दी है और दिशा-निर्देश जारी किए हैं. केरल में फ्लू के कारण करीब 1700 बत्तखों की मौत हो गई है. वहीं  केरल और अन्य दक्षिण भारतीय राज्यों से भेजी गई मुर्गे-मुर्गियों की कोई भी खेप अगले 10 दिन तक मध्य प्रदेश की सीमा में दाखिल नहीं हो सकेगी. मध्य प्रदेश सरकार ने इस पर रोक लगा दी है.



    जानिये प्रमुख बातें-
    Published by:Harshit Mishra
    First published:
    बर्ड फ्लू इंफ्लूएंजा टाइप ए वायरस से फैलता है. जिस तेजी से यह फैल रहा है उससे ऐसी आशंका जताई जा रही है कि कोरोना की तरह यह भी पूरे विश्‍व में फैल सकता है.
    बर्ड फ्लू के वायरस के कई स्‍ट्रेन होते हैं. लेकिन जो स्‍ट्रेन मौजूदा समय में फैला है, उसके बारे में कहा जा रहा है कि वो सिर्फ पक्षियों में फैलता है.
    भारत में बर्ड फ्लू की पुष्टि 5 राज्‍यों में हुई है. इनमें राजस्‍थान, केरल, हरियाणा, मध्‍य प्रदेश और हिमाचल प्रदेश हैं. हरियाणा के पोल्‍ट्री फार्मों में लाखों पक्षी मृत पाए गए हैं. हिमाचल में अप्रवासी पक्षी मरे मिले हैं और मध्‍य प्रदेश में सैकड़ों कौअे मरे मिले हैं.
    विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन का कहना है कि जो भी लोग बर्ड फ्लू से ग्रसित पक्षी के करीबी संपर्क में आते हैं, उनमें बर्ड फ्लू होने का खतरा अधिक होता है, लेकिन य‍ह इंसानों से इंसानों में सामान्‍य तौर पर नहीं फैलता है.
    पिछले कुछ हफ्तों में 10 यूरोपीय देशों में बर्ड फ्लू फैला है. इनमें नीदरलैंड, जर्मनी, फ्रांस, बेल्जियम, ब्रिटेन, डेनमार्क, स्‍वीडन, पोलैंड, क्रोशिया और यूक्रेन शामिल हैं.
    दक्षिण कोरिया और जापान में भी बर्ड फ्लू फैला है. इन देशों में यह अब तक का सबसे खतरनाक स्‍तर का है. दक्षिण कोरिया में पहली बार अक्‍टूबर में जानलेवा बर्ड फ्लू जंगली पक्षियों में फैला था. इसके बाद पूरे देश में इसे लेकर सख्‍त आदेश जारी किए गए.
    फ्रांस में बर्ड फ्लू को देखते हुए करीब 6 लाख पक्षियों को मारा जा रहा है. देश में अब तक 2 लाख पोल्‍ट्री फार्म के पक्षियों को मार दिया गया है.
    जर्मनी में 62 हजार टर्की पक्षियों और बत्‍तखों को मारा जाएगा. वहां भी कुछ फार्म में बर्ड फ्लू पाया गया है. पहले बर्ड फ्लू का H5N8 वायरस लोवर सैक्‍सोनी के क्‍लोपेनबर्ग क्षेत्र में पाया गया था. इसके बाद यह पूरे देश में तेजी से फैला.
    जापान में सरकार ने पूरे देश के पोल्‍ट्री फार्मों को डिसइंफेक्‍ट करने के आदेश दिए हैं. यह वहां पिछले चार साल में सबसे भयानक बर्ड फ्लू है.
    बर्ड फ्लू इंसानों से इंसानों में फैलना आसान नहीं है. लेकिन H5N1 वायरस काफी गंभीर और जानलेवा है. इंसानों में 10 से में 6 कंफर्म केसों में मौत स्‍वाभाविक है.