लाइव टीवी

भाजपा का बच्चों के दिमाग में जहर घोलने का आरोप, कांग्रेस ने कहा- शाहीन बाग सरकार की देन

भाषा
Updated: February 4, 2020, 8:25 PM IST
भाजपा का बच्चों के दिमाग में जहर घोलने का आरोप, कांग्रेस ने कहा- शाहीन बाग सरकार की देन
उच्च सदन में आज राष्ट्रपति अभिभाषण के धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा शुरू हुई. (File Photo)

सदन में राष्ट्रपति अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पेश करते हुए भाजपा (BJP) के भूपेन्द्र यादव (Bhupendra Yadav) ने विपक्षी दलों की ओर इशारा करते हुए कहा कि अभिव्यक्ति की आजादी के नाम पर आप चाहे जो कुछ करें, किंतु बच्चों के दिमाग में जहर नहीं घोला जाना चाहिए.

  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली (Delhi) के शाहीनबाग (Shaheen Bagh) में चल रहे संशोधित नागरिकता कानून (Citizenship Act) विरोधी प्रदर्शन को लेकर कांग्रेस एवं अन्य विपक्षी दलों पर हमला बोलते हुए भाजपा ने जहां मंगलवार को दावा किया कि अभिव्यक्ति की आजादी के नाम पर बच्चों के "दिमाग में जहर घोला जा रहा है" वहीं कांग्रेस ने आरोप लगाया कि "शाहीन बाग आपकी (सरकार की) देन है."

उच्च सदन में आज राष्ट्रपति अभिभाषण के धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा शुरू हुई.

'देश को मजबूती की दिशा में ले जा रही भाजपा'
सदन में राष्ट्रपति अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पेश करते हुए भाजपा के भूपेन्द्र यादव (Bhupendra Yadav) ने कहा कि केन्द्र की भाजपा सरकार पिछले पांच साल में एक मजबूत नींव रखकर देश को मजबूती की दिशा में आगे ले जाने का प्रयास कर रही है. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी नीत सरकार (Narendra Modi Government) एक मजबूत संकल्पना के साथ खड़ी हुई है तथा राष्ट्रपति अभिभाषण में इसी संकल्पना को ध्यान में रखकर नीतियों एवं कार्यक्रमों की रूपरेखा पेश की गयी है. उन्होंने पिछले कुछ वर्षों के दौरान समाज कल्याण के लिए विभिन्न क्षेत्रों में गुमनामी में रह कर काम करने वाले लोगों को पद्म पुरस्कार दिये जाने का जिक्र करते हुए कहा कि सरकार ने दलित, महिलाओं, वंचितों, अल्पसंख्यकों आदि सभी वर्गों को सम्मान देने के लिए विभिन्न कदम उठाये हैं.

यादव ने राम जन्मभूमि विवाद (Ram Janmabhoomi Dispute) का उल्लेख करते हुए कहा कि यह मामला देश में पिछले 70 साल से चल रहा था किंतु कांग्रेस (Congress) की पूर्ववर्ती सरकारों ने उसके समाधान के लिए कोई प्रयास नहीं किया. उन्होंने कहा कि इस सरकार के कार्यकाल में सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने इस पुराने विवाद का समाधान कर दिया और मोदी सरकार शीर्ष न्यायालय के इस निर्णय का पालन करेगी. राजधानी दिल्ली में सीएए के विरोध में चल रहे प्रदर्शन का उल्लेख करते हुए उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस (Congress) एवं आप (AAP) जैसे विपक्षी दलों का इसे परोक्ष एवं नैतिक समर्थन है.

'बच्चों के दिमाग में नहीं घोला जाना चाहिए जहर'
भाजपा नेता ने कहा कि इस प्रदर्शन में कांग्रेस नेता शशि थरूर, दिग्विजय सिंह और आम आदमी पार्टी के अमानतुल्ला खान ने भाषण दिये हैं. उन्होंने कहा कि इस प्रदर्शन में एक मासूम बच्ची ने प्रधानमंत्री एवं गृह मंत्री के बारे में एक बहुत गंभीर बयान दिया. प्रदर्शन कर रही हिंसक भीड़ ने उसका समर्थन किया और उसके बयान के वीडियो को वायरल किया गया.यादव ने विपक्षी दलों की ओर इशारा करते हुए कहा कि अभिव्यक्ति की आजादी के नाम पर आप चाहे जो कुछ करें, किंतु बच्चों के दिमाग में जहर नहीं घोला जाना चाहिए. भाजपा नेता ने कहा कि सबसे पहले केरल की वामपंथी सरकार ने सीएए के खिलाफ राज्य विधानसभा में प्रस्ताव पारित करवाया. उन्होंने कहा कि गैर भाजपा शासित राज्यों की विधानसभा में सीएए के खिलाफ प्रस्ताव पारित कर संविधान पर चोट पहुंचायी जा रही है.

'खतरनाक प्रयोग हो सकता है शाहीन बाग'
राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव का अनुमोदन करते हुए भाजपा के सुधांशु त्रिवेदी (Sudhanshu Trivedi) ने कहा कि मोदी सरकार ने अभी तक जो भी काम किया है, उससे राजनीतिक क्षेत्र के नेताओं से लेकर कार्यकर्ताओं तक में जो विश्वसनीयता का संकट था, वह समाप्त हुआ है. त्रिवेदी ने कहा कि सरकार ने जहां स्वच्छ ऊर्जा के लिए सौर ऊर्जा पर ध्यान दिया वहीं अब गैस ग्रिड बनाने के प्रयास शुरू किये गये हैं. उन्होंने शाहीन बाग का जिक्र करते हुए कहा कि यह कोई "खतरनाक प्रयोग" भी हो सकता है. उन्होंने आगाह किया कि कहीं ऐसा न हो कि यह खतरनाक खेल सभी के लिए नुकसानदेह साबित हो.

'मुद्दों से ध्यान भटका रही सरकार'
धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा में भाग लेते हुए सदन में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद (Ghulam Nabi Azad) ने कहा कि भाजपा ने सत्ता में आने से पहले सभी के खाते में 15-15 लाख रुपये देने, दो करोड़ लोगों को हर साल रोजगार देने, किसानों की आय दोगुनी करने, महंगाई कम करने, बेकारी को दूर करने जैसे कई वायदे किये थे. लेकिन सरकार इन वादों की ओर से लोगों का ध्यान भटकाने के लिए एनआरसी, सीएए जैसे विवादास्पद एवं विध्वंसकारी मुद्दों को उभार रही है. उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति का अभिभाषण इन मुद्दों पर खामोश है.

आजाद ने कहा, "आप (सरकार) तीन तलाक, सीएए और एनआरसी जैसे मुद्दे इसलिए उठा रहे हैं ताकि लोगों का ध्यान बेरोजगारी, काला धन और सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की धीमी विकास दर से हटाया जा सके. आपके विचार एवं प्रस्ताव सृजनकारी नहीं बल्कि विध्वंसकारी हैं."

'कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर कोई चर्चा नहीं'
आजाद ने कहा कि सरकार जम्मू कश्मीर को दो केन्द्र शासित प्रदेशों में विभाजित करने की गलती को शीघ्र समझ लेगी और उन्होंने उम्मीद जाहिर की कि सरकार इन्हें वापस राज्य का दर्जा देने के लिए बजट सत्र में ही कोई विधेयक लायेगी. उन्होंने कहा, "शाहीन बाग आपकी देन है. आप एक ही समय में सरकार भी चलाना चाहते हैं और उसी वक्त विपक्ष की भी भूमिका निभाना चाहते हैं. आप इन सभी मुद्दों पर विरोध प्रदर्शन के लिए सड़कों पर भी उतर पड़ते हैं."

आजाद ने सरकार पर आरोप लगाया कि वह धीमी जीडीपी विकास दर, बढ़ती महंगाई, रेफ्रीजरेटर, टीवी, एसी, चिकित्सकीय उपकरणों, आटोमोबाइल, टायर इत्यादि जैसे उत्पादों पर शुल्कों में की गई हालिया वृद्धि जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों पर विचार करने से बच रही है. उन्होंने कहा कि अभिभाषण में बेरोजगारी, औद्योगिक विकास, कृषि वृद्धि दर, महंगाई जैसे कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर कोई चर्चा नहीं की गई है.

'सेना के पास उपकरणों कमी'
कांग्रेस नेता ने सीएजी की रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि सेना के पास आधुनिक उपकरणों की कमी, उनके आधुनिकीकरण और तमाम महत्वपूर्ण अवयवों की कमी होने का उल्लेख किया गया है और अभिभाषण में इन बातों का उल्लेख नहीं किया गया है.

आजाद ने कहा कि नोटबंदी, जीएसटी जैसे कदम के कारण देश के लाखों उद्योग बंद हो गये और लाखों लोग बेरोजगार हो गये और सरकार अपनी गलती मानने को तैयार नहीं है. उन्होंने कहा कि सरकार तमाम संस्थानों को खत्म कर रही है.

ये भी पढ़ें-
लोकसभा में सरकार ने बताया- JNU हिंसा में घायल हुए थे 51 लोग

'टुकड़े-टुकड़े गैंग' के बाद अब MHA ने बताया- केरल में लव जिहाद का कोई केस नहीं

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 4, 2020, 8:25 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर