Home /News /nation /

एक साल में BJP को मिले 1027.34 करोड़ रुपये, कांग्रेस ने नहीं बताई आय: रिपोर्ट

एक साल में BJP को मिले 1027.34 करोड़ रुपये, कांग्रेस ने नहीं बताई आय: रिपोर्ट

न्यूज 18 क्रिएटिव

न्यूज 18 क्रिएटिव

वित्त वर्ष 2017-18 के दौरान बीजेपी ने 1027.34 करोड़ रुपये की कुल आय घोषित की, जिसमें से उसने 74 फीसदी (758.47 करोड़ रुपये) खर्च कर दिए.

    वित्त वर्ष 2017-18 के दौरान बीजेपी ने 1027.34 करोड़ रुपये की कुल आय घोषित की, जिसमें से पार्टी ने 74 फीसदी (758.47 करोड़ रुपये) खर्च कर दिए. एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) की एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है. एडीआर ने कहा है कि कांग्रेस ने इस साल के लिए अपनी ऑडिट रिपोर्ट अभी जमा नहीं की है.

    रिपोर्ट के मुताबिक, 2017-18 में बसपा की कुल आय 51.7 करोड़ रुपये थी जिसमें से पार्टी ने केवल 29 फीसदी यानी 14.78 करोड़ रुपये ही खर्च किए. रिपोर्ट के अनुसार एनसीपी एकमात्र पार्टी है जिसने 8.15 करोड़ रुपये की कुल आय से अधिक पैसा खर्च कर दिया. उसका खर्च 8.84 करोड़ रुपये रहा.

    ये भी पढ़ेंः  'प्रधानमंत्री अपने पद से नहीं, बल्कि सोच से बड़ा होता है'

    बता दें कि 2016-17 की तुलना में पिछले साल बीजेपी की आय घटी है. छह राष्ट्रीय पार्टियों ने अपनी कुल आय (1041.80 करोड़ रुपये) का 86 फीसदी स्वैच्छिक रूप से दिया गया दान है. 2017-18 के दौरान सिर्फ बीजेपी ने ही बताया कि 210 करोड़ रुपये पार्टी ने चुनावी बॉन्ड के माध्यम से प्राप्त किए हैं.

    एनसीपी ने आरोप लगाया है कि चुनावी बॉन्ड अब टैक्स चोरी का नया ज़रिया बन गया है क्योंकि राजनीतिक पार्टियों को दिए जाने वाले कमीशन इसी माध्यम से दिए जाते हैं जैसा कि राफेल डील में हुआ.

    ये भी पढ़ेंःhttps://hindi.news18.com/news/nation/assembly-elections-2017-bjp-wins-gujarat-himachal-pradesh-congress-lost-1202146.htmlविधानसभा चुनाव 2017: गुजरात में छठी बार खिला कमल, पंजे से फिसला हिमाचल

    Tags: BJP, Congress, Pm narendra modi, Rahul gandhi

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर