पिछले साल BJP को कांग्रेस के मुकाबले मिला 5 गुना ज्यादा दान, पार्टी की झोली में आए 750 करोड़ रुपये

पिछले साल BJP को कांग्रेस के मुकाबले मिला 5 गुना ज्यादा दान. (सांकेतिक तस्वीर)

पिछले साल BJP को कांग्रेस के मुकाबले मिला 5 गुना ज्यादा दान. (सांकेतिक तस्वीर)

चुनाव आयोग (Election Commission) को सौंपी गई रिपोर्ट में बताया गया है कि साल 2019-20 में पार्टी को कॉर्पोरेट और व्यक्तिगत तौर पर 750 करोड़ रुपये का चंदा (Donation) मिला है. यह कांग्रेस पार्टी को मिले (139 करोड़ रुपये) से कम से कम पांच गुना ज्यादा है.

  • Share this:

नई दिल्‍ली. बीजेपी (BJP) और कांग्रेस (Congress) भारत की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टियां हैं. दोनों ही पार्टियों का दबदबा हमेशा से ही भारत की राजनीति (Politics) में रहा है. हालांकि पार्टी फंड (Party Fund) के मामले में बीजेपी लगातार सात साल से कांग्रेस से काफी आगे चल रही है. चुनाव आयोग को सौंपी गई रिपोर्ट में बताया गया है कि साल 2019-20 में पार्टी को कॉर्पोरेट और व्यक्तिगत तौर पर 750 करोड़ रुपये का चंदा (Donation) मिला है. यह कांग्रेस पार्टी को मिले (139 करोड़ रुपये) से कम से कम पांच गुना ज्यादा है. इसी अवधि में एनसीपी को 59 करोड़ रुपये, टीएमसी को 8 करोड़ रुपये, सीपीएम को 19.6 करोड़ रुपये और सीपीआई को 1.9 करोड़ रुपये मिले हैं.

बीजेपी सांसद राजीव चंद्रशेखर की जुपिटर कैपिटल, आईटीसी ग्रुप, रियल एस्टेट कंपनियां मैक्रोटेक डेवलपर्स (जिसे पहले लोढ़ा डेवलपर्स के नाम से जाना जाता था) और बीजी शिर्के कंस्ट्रक्शन टेक्नोलॉजी, प्रूडेंट इलेक्टोरल ट्रस्ट और जनकल्याण इलेक्टोरल ट्रस्ट, बीजेपी के सबसे बड़े दानदाताओं में शामिल रहे हैं;

बता दें कि वित्‍त वर्ष 2019-20 में प्रुडेंट इलेक्टोरल फंड के जरिये बीजेपी ने 217.75 करोड़ रुपये जुटाए हैं, जबकि जनकल्‍याण इलेक्‍टोरल ट्रस्‍ट से 45.95 करोड़ जुटए हैं. जूपिटर कैपिटल से 15 करोड़, आईटीसी ग्रुप से 76 करोड़, मेक्रोटेक डेवलपर्स से 21 करोड़ जबकि गुलमर्ग रीयलटर्स से 20 करोड़ मिले हैं. बीजी शिर्के कंस्ट्रक्शन टेक्नोलॉजी से बीजेपी को 35 करोड़ का फंड दिया गया है.


इसे भी पढ़ें :- Surya Grahan 2021: आज साल का पहला सूर्य ग्रहण, जानिए किन शहरों में दिखेगा ये नज़ारा

बता दें कि बीजेपी को अक्टूबर 2019 में बिल्डर सुधाकर शेट्टी से जुड़ी रियल एस्टेट कंपनी गुलमर्ग रियल्टर्स से भी 20 करोड़ रुपये का बड़ा चंदा मिला था. इस बात की जानकारी जैसे ही प्रवर्तन निदेशालय को लगी उसके बाद जनवरी 2020 में शेट्टी के आवास और कार्यालय पर छापा मारा गया.

इसे भी पढ़ें :- भारत बायोटेक और सीरम से वैक्सीन की कीमतों पर फिर बातचीत कर सकती है केंद्र सरकार



बीजेपी के दानदाताओं में कम से कम 14 शिक्षण संस्थान भी शामिल थे. इनमें मेवाड़ विश्वविद्यालय, दिल्ली (2 करोड़ रुपये), कृष्णा इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग (10 लाख रुपये), जीडी गोयनका इंटरनेशनल स्कूल, सूरत (2.5 लाख रुपये), पठानिया पब्लिक स्कूल, रोहतक (2.5 लाख रुपये), लिटिल हार्ट्स कॉन्वेंट स्कूल, भिवानी (21,000 रुपये), और एलन करियर, कोटा (25 लाख रुपये) शामिल हैं. पार्टी के चंदा देने वालों में बीजेपी के कई सदस्य, सांसद और विधायक हैं.

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने 5 लाख रुपये, राज्यसभा सांसद राजीव चंद्रशेखर ने 2 करोड़ रुपये, अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने 1.1 करोड़ रुपये, किरण खेर ने 6.8 लाख रुपये का योगदान दिया. मणिपाल ग्लोबल एजुकेशन के अध्यक्ष टी वी मोहनदास पई ने 15 लाख रुपये का दान दिया है.

इसे भी पढ़ें :- वैक्सीन मिक्सिंग: दशकों पुराना तरीका, जिससे है बड़े फायदे की उम्मीद; जानें इसके बारे में सबकुछ

2019-20 में भाजपा को मिला दान 750 करोड़ से भी ज्‍यादा की उम्‍मीद है. इसका कारण ये है कि रिपोर्ट में केवल व्यक्तियों, कंपनियों, चुनावी ट्रस्टों और संघों द्वारा किए गए 20,000 रुपये से अधिक के दान को ही सूचीबद्ध किया जाता है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज