अपना शहर चुनें

States

गुजरात विधानसभा चुनाव को लेकर दो साल पहले ही बीजेपी में दिखने लगी चुनावी सरगर्मी

गृह मंत्री अमित शाह को बूथ नंबर 38 के पन्ना प्रमुख बनाया गया है. (फाइल फोटो)
गृह मंत्री अमित शाह को बूथ नंबर 38 के पन्ना प्रमुख बनाया गया है. (फाइल फोटो)

सीआर पाटिल (CR Patil) को जब गुजरात बीजेपी (Gujarat BJP) के प्रदेश अध्यक्ष की कमान सौंपी गई, तब उन्होंने 182 की 182 विधानसभा सीट जीतने की हुंकार भरी. उन्होंने अपने मिशन के के तहत ही पन्ना प्रमुख पर जोर देना शुरू किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 13, 2020, 2:11 PM IST
  • Share this:
अहमदाबाद. गुजरात विधानसभा चुनाव (Gujarat Assembly Election) होने में अभी दो साल का समय बाकी है, लेकिन चुनाव (Election) में जीत हासिल करने के लिए बीजेपी (BJP) ने अभी से कमर कस ली है. बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सीआर पाटिल (CR Patil) ने अभी से पन्ना प्रमुख की रणनीति बनानी शुरू कर दी है. इसी के तहत देश के गृह मंत्री अमित शाह को बूथ नंबर 38 का पन्ना प्रमुख बनाया गया है. बता दें कि हर बूथ पर बने पन्ना प्रमुख कम से कम पांच लोगों को सदस्य बनाते हैं.

बीजेपी की रणनीति के मुताबिक गुजरात विधानसभा में 50 हजार बूथ हैं और 15 लाख पन्ना प्रमुख बनाए जाते हैं. हर पन्ना पर 30 मतदाता सीधे संपर्क में आते हैं. 15 लाख पन्ना प्रमुख 5-5 लोग की ही छोटी कमिटी बनाएं तो 75 लाख सदस्य होते हैं और उन सदस्यों के घर में 3 लोग ही मान लें तो ढाई करोड़ कार्यकर्ता मतदाता के तौर पर बीजेपी से सीधे जुड़े होते हैं.

पाटिल के इसी पन्ना प्रमुख वाली रणनीति से हर कार्यकर्ता जुड़ता दिख रहा है. केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से पहले गुजरात के मुख्यमंत्री, केंद्रीय मंत्री और विधायक पन्ना प्रमुख बन चुके हैं. बीजेपी की लगातार जीत का रहस्य भी शायद यही है कि चाहे प्रधानमंत्री ही क्यों ना हों लेकिन वो सबसे पहले कार्यकर्ता हैं.
इसे भी पढ़ें :- नड्डा करेंगे लखनऊ का दौरा, राजस्थान पंचायत चुनाव जीतने के बाद BJP की ये है UP फतह की तैयारी



पाटिल देश में सबसे ज्यादा वोटों से जीतने वाले सांसद है
सीआर पाटिल को जब बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष की कमान सौंपी गई, तब उन्होंने 182 की 182 विधानसभा सीट जीतने की हुंकार भरी और मिशन 182 को मुमकिन बनाने के लिए उन्होंने रणनीति के तहत ही पन्ना प्रमुख पर जोर देना शुरू किया. गौरतलब है कि पन्ना प्रमुख का सफल मॉडल वो अपने चुनाव क्षेत्र में पहले ही लागू कर चुके हैं.उसी का नतीजा रहा है कि पाटिल देश में सबसे ज्यादा वोटों से जीतने वाले सांसद है.

इसे भी पढ़ें :- पश्चिम बंगाल में BJP नेता की पीट-पीटकर हत्या, 6 लोग भी हुए घायल

पाटिल ने 182 की 182 विधानसभा सीट जीतने की हुंकार भरी है
फिलहाल सीआर पाटिल ने हर कार्यकर्ता को पन्ना प्रमुख की मुहिम में हिस्सा लेना आवश्यक कर दिया है. पन्ना प्रमुख बनने के बाद इसकी जानकारी सोशल मीडिया पर तो अपलोड करना ही है साथ ही जिला और शहर अध्यक्ष से मिलना जरूरी है. इससे अंदाजा लगेगा कि पाटिल अपने मिशन 182 को लेकर कितने गंभीर है. हालांकि मिशन 182 को लेकर पार्टी के अंदर और बाहर लोग सवाल उठा रहे हैं लेकिन यही तर्क 2014 और 2019 के लोकसभा चुनावों के वक्त दिया गया था लेकिन दोनों बार 26 की 26 लोकसभा सीटें बीजेपी ने जीती थीं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज