कृषि कानून के विरोध पर बोले प्रकाश जावड़ेकर- दलालों के दलाल बन गए हैं विपक्षी दल

प्रकाश जावड़ेकर ने बोजा हमला.
प्रकाश जावड़ेकर ने बोजा हमला.

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) ने कहा कि नए कृषि कानूनों को कृषक समुदाय से जबर्दस्त प्रतिक्रिया मिली है और पंजाब को छोड़कर देश के किसी भी हिस्से में इन्हें लेकर किसी तरह के विरोध प्रदर्शन की खबर नहीं है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 4, 2020, 11:28 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. केंद्र सरकार की ओर से लागू किए गए 3 कृषि कानूनों (Farm Laws) का विरोध पूरे देश में हो रहा है. किसान जगह-जगह धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं. कांग्रेस (Congress) समेत अन्‍य दल बीजेपी पर इस मामले में हमला बोल रहे हैं. इस बीच बीजेपी नेता प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) ने विपक्षी दलों पर कृषि कानूनों के मुद्दे पर निशाना साधा है. प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि विपक्षी दल दलालों के दलाल बन गए हैं. उन्होंने कहा कि उत्‍पादन की कीमत तय करने का अधिकार किसान का ही होगा. एक देश एक बाजार होगा. इसका अगर नुकसान किसी का हो रहा है तो सिर्फ नुकसान दलाल का हो रहा है. इसलिये ये चिल्ला रहे हैं.

गोवा पहुंचे प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि संसद में कृषि सुधार के जो तीन कानून पास हुए हैं, उनसे खेती का भाग्य बदलने वाला है. खेती की मूलभूत समस्याओं का उपाय होने वाला है. कृषि उत्पादकता को बढ़ाना बहुत जरूरी है. कृषि क्षेत्र में नई तकनीक, नया निवेश आने से उत्पादकता बढ़ेगी. खेती की मूलभूत समस्याओं का उपाय होने वाला है. उन्‍होंने कहा कि उत्पादकता बढ़ाने के लिय नई तकनीक और नया निवेश चाहिए. भारत लोकतंत्र है. यहां हर संगठन को अधिकार है, विरोध करने का. हम दुनिया में बेचने जाएंगे तो माल बढ़ेगा, उत्पादन भी बढ़ेगा. तो दिक्कत नहीं होगी. किसान को अपनी उपज फेंकने की नौबत न आए इसलिए ये कानून बना है.

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने शनिवार को कहा कि नवनिर्मित कृषि कानूनों को कृषक समुदाय से जबर्दस्त प्रतिक्रिया मिली है और पंजाब को छोड़कर देश के किसी भी हिस्से में इन्हें लेकर किसी तरह के विरोध प्रदर्शन की खबर नहीं है. उन्होंने आरोप लगाया कि पंजाब में प्रदर्शन के पीछे शिरोमणि अकाली दल (शिअद), कांग्रेस और आम आदमी पार्टी (आप) जैसे दलों के अपने राजनीतिक हित हैं.



कृषि कानूनों के बारे में जागरूगता फैलाने की भाजपा की पहल के तहत जावड़ेकर उत्तरी गोवा के चोराओ गांव में किसानों के एक समूह को संबोधित कर रहे थे. पर्यावरण मंत्री ने किसानों के लिए अपने संक्षिप्त संबोधन में कहा, 'पंजाब को छोड़कर कृषि कानूनों के खिलाफ देश में कहीं भी प्रदर्शन नहीं हो रहे हैं. आपको राजनीतिक एजेंडे के तहत प्रदर्शन नहीं करना चाहिए.'

उन्होंने कहा, 'नरेंद्र मोदी सरकार का लक्ष्य सभी किसानों को न्याय देना है जिन्हें पूर्व में उनके हक से वंचित रखा गया.' जावड़ेकर ने कहा कि पार्टी नेता देश भर में इस मुद्दे पर छोटी सभाएं कर रहे हैं क्योंकि महामारी के कारण बड़ी जनसभाओं की इजाजत नहीं है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज