लाइव टीवी
Elec-widget

राफेल पर कांग्रेस ने झूठ फैलाया, देश से माफी मांगें राहुल गांधी : रविशंकर प्रसाद

News18Hindi
Updated: November 14, 2019, 2:43 PM IST
राफेल पर कांग्रेस ने झूठ फैलाया, देश से माफी मांगें राहुल गांधी : रविशंकर प्रसाद
रविशंकर प्रसाद ने साधा कांग्रेस पर निशाना.

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने राफेल डील Rafale Deal) मामले में दायर की गई सभी पुनर्विचार याचिकाओं को गुरुवार को खारिज कर दिया है. साथ आपराधिक मानहानि केस में राहुल गांधी (Rahul Gandhi) को राहत दी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 14, 2019, 2:43 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. राफेल विमान सौदे (Rafale deal) से जुड़े आपराधिक अवमानना केस में सुप्रीम कोर्ट ने कांग्रेस के पूर्व अध्‍यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) को राहत दी है. सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने राहुल गांधी की माफी स्‍वीकार कर ली. साथ ही इस डील से जुड़ी सभी पुनर्विचार याचिकाएं खारिज कर दी हैं. इस फैसले के बाद बीजेपी नेता रविशंकर प्रसाद (Ravi shankar prasad) ने कांग्रेस और राहुल गांधी पर निशाना साधा है. उन्‍होंने कहा कि राफेल डील पर कांग्रेस ने झूठ फैलाया. राहुल गांधी को देश से माफी मांगनी चाहिए. उन्‍होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला सत्‍य की जीत है.



बीजेपी नेता रविशंकर प्रसाद ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि जिनके हाथ पूरी तरह से भ्रष्टाचार में रंगे हैं. देश की सुरक्षा से जिन्होंने खिलवाड़ किया है. वो अपने प्रायोजित राजनीतिक कार्यक्रम को कोर्ट में न्याय की गुहार से रूप में प्रस्तुत कर रहे थे. उन्‍होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने राफेल मामले पर पूरी प्रक्रिया को जांचा और उसे सही बताया. दाम की प्रक्रिया को भी जांचा और सही बताया. सुप्रीम कोर्ट ने ऑफसेट की प्रक्रिया को भी सही ठहराया है. रविशंकर प्रसाद ने कहा कि राहुल गांधी ने अपने झूठ में फ्रांस के पूर्व और मौजूदा प्रधानमंत्री का नाम भी शामिल किया.

'पीएम के खिलाफ अभियान चलाया'

रविशंकर प्रसाद ने कहा कि जब ये (कांग्रेस) सुप्रीम कोर्ट से हार गए तो इन्होंने इसे लोकसभा चुनाव में अपना मुख्य मुद्दा बनाया. राहुल गांधी ने तो यहां तक कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने हमारे लोकप्रिय और ईमानदार नेता को चोर कहा है. उन्‍होंने कहा कि कांग्रेस ने झूठ बोला है. हमारे ईमानदार प्रधानमंत्री के खिलाफ अभियान चलाया. भारत की विदेश में साख को घटाने की कोशिश की.

'वो कौन सी ताकतें थीं, जो राहुल के पीछे खड़ी थीं'
रविशंकर प्रसाद ने कहा कि इसलिए आज राहुल गांधी को देश से माफी मांगने की जरूरत है क्योंकि सुप्रीम कोर्ट ने आज मानहानि मामले पर माफी मांगने पर उनको छोड़ा है. उन्‍होंने कहा कि कोर्ट से बचने के लिए राहुल गांधी ने माफी मांगी. कोर्ट ने तो माफ़ी मांगने पर आपको छोड़ दिया, लेकिन क्या देश की जनता से आंख मिलाने के लिए माफी मांगेंगे आप? उन्‍होंने कहा कि आज देश यह जानना चाहता है कि वो कौन सी ताकतें थीं, जो राहुल गांधी के पीछे खड़ी थीं.
Loading...

राजनाथ सिंह ने भी बोला हमला
वहीं रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले का स्‍वागत किया है. उन्‍होंने कहा कि यह हमारी सरकार के कदम का समर्थन है. फैसले लेने की हमारी सरकार की पारदर्शिता को सुप्रीम कोर्ट से स्‍वीकृति मिली है. राजनाथ सिंह ने कहा कि मेरा मानना है कि रक्षा से जुड़े मामलों पर कोई भी राजनीति नहीं होनी चाहिए. लेकिन दुर्भाग्‍यवश कुछ लोगों ने निजी फायदे के लिए ऐसा किया. उन्‍होंने प्रधानमंत्री को बदनाम करना चाहा. मैं कहना चाहूंगा कि ऐसा खासतौर पर वरिष्‍ठ कांग्रेस नेताओं के द्वारा किया गया.

मीनाक्षी लेखी ने दायर की थी याचिका
बता दें कि राहुल गांधी पर आरोप था कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधने के लिए राफेल डील (Rafale Deal) मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को तोड़-मरोड़कर पेश किया. इससे कोर्ट की अवमानना हुई. बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी की ओर से दायर याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को अपना फैसला सुनाया है.

इस याचिका में राहुल गांधी पर आरोप लगाया गया है कि उन्होंने नरेंद्र मोदी पर निशाना साधने के लिए राफेल डील मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को गलत तरीके से लोगों के सामने रखने की कोशिश की. राहुल गांधी ने राफेल के मामले को जिस तरह से लोकसभा चुनाव के समय गलत तरीके से पेश किया उससे कोर्ट की अवमानना हुई है.

यह भी पढ़ें: 

राफेल केस: आपराधिक अवमानना मामले में राहुल गांधी को राहत, सुप्रीम कोर्ट ने स्वीकार की माफी
राफेल डील पर मोदी सरकार को बड़ी राहत, SC ने खारिज की सभी पुनर्विचार याचिकाएं

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 14, 2019, 1:53 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...