अपना शहर चुनें

States

बंगाल जीतने के लिए बीजेपी ने बनाई ये रणनीति, हर सीट पर नज़र रखेगी खास टीम

मिशन बंगाल के लिए बीजेपी ने बनाई खास रणनीति
मिशन बंगाल के लिए बीजेपी ने बनाई खास रणनीति

बंगाल (West Bengal) में 2021 में होने वाले विधानसभा चुनावों (Assembly elections) के लिए बीजेपी खास रणनीति बनाने जा रही है. हर सीट पर पार्टी की नज़र होगी. बीजेपी (Bjp) स्थानीय मुद्दों पर टीएमसी (TMC) को घेरने की तैयारी कर रही है.

  • News18India
  • Last Updated: September 13, 2019, 1:31 PM IST
  • Share this:
दिल्ली. यूं तो बंगाल (West Bengal) में 2021 में विधानसभा चुनाव (Assembly election) होने हैं, लेकिन बीजेपी पूरे जोर-शोर से अभी से चुनाव (Election) जीतने की तैयारियों में जुटी है. बीजेपी ने इस बार सूबे में केसरिया झंडा (Saffron Flag) लहराने के लिए मिशन बंगाल (Mission Bengal) तैयार किया है. पार्टी का मानना है कि ममता बनर्जी के 10 साल के शासन को वो इस बार बदल देंगे. पार्टी ने सूबे में 200+ सीटें जीतने की योजना तैयार की है. लोकसभा चुनाव के नतीजों ने साफ कर दिया है कि राज्य में कभी बड़ी ताकत रहे लेफ्ट और कांग्रेस का वजूद अब समाप्त हो गया है और बीजेपी ही मुख्य विपक्षी ताकत बन गई है.

हर सीट के लिए बनेगी विशेष टीम
बीजेपी ने राज्य की सभी 294 सीटों पर विशेष तैयारियां शुरू कर दी हैं. पिछले दिनों बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने राज्य के पार्टी नेताओं के साथ बैठक की, जिसके बाद फैसला लिया गया कि राज्य की हर सीट पर 4 लोगों की एक टीम बनाई जाएगी. जिसमें सांसद, विधायक और स्थानीय संगठन के नेता शामिल होंगे. खास बात ये है कि जिस नेता को जिस सीट की टीम में शामिल किया जाएगा, उसका वहां से कोई लेना-देना नहीं होगा. जैसे अगर कोई नेता हावड़ा सीट पर प्रभाव रखता है, तो उसे दार्जिलिंग की सीट के लिए बनी टीम में रखा जाएगा. ऐसा इसलिए किया जा रहा है ताकि टीम में शामिल नेता पूरे निष्पक्ष तरीके से अपनी रिपोर्ट तैयार कर सकें. अपनी सीटों की सभी छोटी से छोटी जानकारी इकट्ठा कर एक रिपोर्ट तैयार करना इस टीम की जिम्मेदारी होगी.

News - राज्य की प्रत्येक सीट को लेकर विशेष तैयारी कर रही है बीजेपी
राज्य की प्रत्येक सीट को लेकर विशेष तैयारी कर रही है बीजेपी

रणनीति पर ऐसे काम करेगी बीजेपी


ममता बनर्जी के अभेद किले को ढहाने के लिए बीजेपी की ये टीमें विजयादशमी से अपना काम शुरू कर देंगी. 15 दिनों तक ये अपने अपने क्षेत्रों में रहकर सीट का प्रोफाइल तैयार करेंगे. जिसमें उस सीट के जातिगत समीकरणों, प्रभावशाली नेताओं की पहचान, वहां बीजेपी की वर्तमान स्थिति, अगर स्थिति कमजोर है तो उसके कारण. इस रिपोर्ट के तैयार होने के बाद नवंबर के पहले हफ्ते में फिर से बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के साथ इनकी बैठक होगी.

लोकसभा चुनावों में किया था शानदार प्रदर्शन
2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने राज्य की 40 लोकसभा सीटों में से 18 पर जीत हासिल की थी, जबकि 5 साल पहले हुए विधानसभा चुनाव में उसे सिर्फ 6 सीटों पर ही जीत मिल पाई थी. लोकसभा के शानदार प्रदर्शन के बाद कई इलाकों के स्थानीय टीएमसी नेता भी बीजेपी में शामिल हुए हैं. पार्टी को विश्वास है कि जैसे जैसे विधानसभा चुनाव करीब आएंगे, कई और प्रभावशाली नेता बीजेपी में शामिल होंगे.

News - लोकसभा चुनावों में बीजेपी ने राज्य की 40 में से 18 सीटों पर जीत हासिल की थी
लोकसभा चुनावों में बीजेपी ने राज्य की 40 में से 18 सीटों पर जीत हासिल की थी (फाइल फोटो)


अल्पसंख्यक सीटों के लिए विशेष योजना
राज्य में करीब 90 सीटें ऐसी हैं, जो अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों के प्रभाव वाली हैं. इन सीटों के लिए अलग से कार्य योजना तैयार की जा रही है. ममता बनर्जी के बांग्ला गौरव की धार को कुंद करने के लिए बीजेपी बंगालियों से जुड़े मुद्दों को खड़ा करेगी. रोजगार सृजन के लिए औद्योगिकीकरण और राज्य के लिए एनआरसी को बड़ा मुद्दा बनाया जाएगा, ताकि अवैध रूप से रह रहे बांग्लादेशियों को राज्य से खदेड़ा जा सके.

ये भी पढ़ें -
दिल्ली में प्रदूषण कम करने के लिए ऑड-ईवन की वापसी, दिवाली के बाद 4 से 15 नवंबर तक होगा लागू
दिल्‍ली को प्रदूषण से बचाने के लिए ये है केजरीवाल सरकार का 7 प्‍वाइंट एक्‍शन प्‍लान
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज