अपना शहर चुनें

States

लाल किले की घटना से दुखी सनी देओल ने कहा-हमारे बीच कोई न आए, दीप सिद्धू पर भी दी सफाई

सनी देओल ने लाल किले की घटना पर दुख जताया है. (फाइल फोटो)
सनी देओल ने लाल किले की घटना पर दुख जताया है. (फाइल फोटो)

Tractor Rally: भाजपा सांसद सनी देओल ने ट्वीट कर कहा कि मैं लाल किले की घटना से दुखी हूं. देओल ने यह भी कहा कि उनका दीप सिद्धू से कोई वास्ता नहीं है. बता दें सिद्धू का नाम लाल किले में हुए उपद्रव को भड़काने के मामले में सामने आ रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 27, 2021, 6:26 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली में ट्रैक्टर रैली (Tractor Rally) के दौरान लाल किले (Red Fort) में प्रदर्शनकारियों के घुसने और वहां निशान साहिब फहराने को लेकर भाजपा सांसद और बॉलीवुड अभिनेता सनी देओल (BJP MP Sunny Deol) ने दुख जताया है. सनी देओल ने एक ट्वीट में कहा कि वह इस घटना से दुखी हैं. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि उनका दीप सिद्धू से कोई संबंध नहीं है. बता दें लाल किले में हुई हिंसा को भड़काने के लिए दीप सिद्धू का नाम सामने आ रहा है.

भाजपा सांसद ने फेसबुक पर पोस्ट किया कि -
मेरी पूरी दुनिया से विनती है कि यह किसान और हमारी सरकार का मामला है ।इसके बीच में कोई भी ना आए क्योंकि दोनों आपस में बातचीत करके इसका हल निकालेंगे ,मैं जानता हूँ कई लोग इसका फ़ायदा उठाना चाहते हैं और वो लोग अड़चन डाल रहे हैं ।वह किसानों के बारे में बिलकुल नहीं सोच रहे उनका अपना ही ख़ुद का कोई स्वार्थ हो सकता है। दीप सिद्धू, जो चुनाव के वक़्त मेरे साथ था ,लंबे समय से मेरे साथ नहीं है वो जो कुछ कह रहा है और कर रहा है वो ख़ुद अपनी इच्छा अनुसार कर रहा है, मेरा उसकी किसी भी गतिविधि से कोई संबंध नहीं है। मैं अपनी पार्टी और  किसानों के साथ हूँ और हमेशा किसानों के साथ रहूंगा हमारी सरकार ने हमेशा किसानों के भले के बारे में ही सोचा है और मुझे यक़ीन है कि सरकार उनके साथ बातचीत करके सही नतीजे पर पहुँचेगी।





आज लाल क़िले पर जो हुआ उसे देख कर मन बहुत दुखी हुआ है, मैं पहले भी, 6 December को, Twitter के माध्यम से यह साफ कर चुका हूँ कि मेरा या मेरे परिवार का दीप सिद्धू के साथ कोई संबंध नही है.
जय हिन्द.


Sunny deol
सनी देओल ने फेसबुक पर लिखा ये पोस्ट


देर शाम लाल किले से निकाले गए प्रदर्शनकारी
बता दें केन्द्र के तीन नए कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ ट्रैक्टर परेड के दौरान किसानों के निर्धारित मार्गों पर ना जाने के बाद राष्ट्रीय राजधानी में कई स्थानों पर उनके और पुलिस के बीच मंगलवार को झड़प हो गई. वहीं कई किसान लाल किला परिसर में भी दाखिल हो गए.लाल किले में प्रदर्शनकारियों ने समुदाय से संबंधित झंडे फहराए. पुलिस ने उन्हें नियंत्रित करने के लिए आंसू गैस के गोले दागे और लाठीचार्ज भी किया. देर शाम तक लाल किले से प्रदर्शनकारियों को बाहर निकलाकर, हालात को काबू में किया गया.

किसानों की मांगों को रेखांकित करने के लिए राष्ट्रीय राजधानी की सड़कों पर मंगलवार को निकाली गयी ट्रैक्टर परेड के दौरान हिंसा के कारण अराजक दृश्य पैदा हो गए. बड़ी संख्या में उग्र प्रदर्शनकारी बैरियर तोड़ते हुए लालकिला पहुंच गए और उसकी प्राचीर पर उस स्तंभ पर एक धार्मिक झंडा लगा दिया जहां भारत का तिरंगा फहराया जाता है.

राजपथ से लालकिला तक पुलिस से भिड़े प्रदर्शनकारी
राजपथ से लालकिला तक हजारों प्रदर्शनकारी कई स्थानों पर पुलिस से भिड़े जिससे दिल्ली और आसपास के क्षेत्रों में अराजकता की स्थिति उत्पन्न हुई. किसानों का दो महीने से जारी प्रदर्शन अब तक शांतिपूर्ण रहा था. गणतंत्र दिवस के दिन राजपथ पर देश की सैन्य क्षमता का प्रदर्शन किया जाता है. हालांकि, इस बार ट्रैक्टरों, मोटरसाइकिलों और कुछ घोड़ों पर सवार किसान तय समय से दो घंटे पहले बेरिकेड तोड़ते हुए दिल्ली में प्रवेश कर गए.

शहर में कई स्थानों पर पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प हुई जिस दौरान लोहे और कंक्रीट के बैरियर तोड़ दिये गए और ट्रेलर ट्रकों को पलट दिया गया.

इस दौरान सड़कों पर अप्रत्याशित दृश्य देखने को मिले. इनमें से सबसे अभूतपूर्व दृश्य लालकिले पर दिखा जहां प्रदर्शनकारी एक ध्वज-स्तंभ पर चढ़ गए और वहां सिख धर्म का झंडा ‘निशान साहिब’ फहरा दिया जहां पर भारत के स्वतंत्रता दिवस समारोह के दौरान तिरंगा फहराया जाता है.

दिल्ली पुलिस के अधिकारियों ने बताया कि दिन में हिंसा के दौरान उसके 83 कर्मी घायल हो गए.

वहीं, ट्रैक्टर पलटने से आईटीओ के पास एक प्रदर्शनकारी की मौत हो गयी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज