होम /न्यूज /राष्ट्र /बीजेपी सांसद ने लोकसभा में की मांग, JNU को कुछ दिन के लिए बंद कर दिया जाए

बीजेपी सांसद ने लोकसभा में की मांग, JNU को कुछ दिन के लिए बंद कर दिया जाए

भाजपा के वीरेंद्र सिंह ने  शून्यकाल में जेएनयू के विषय को उठाया.

भाजपा के वीरेंद्र सिंह ने शून्यकाल में जेएनयू के विषय को उठाया.

भाजपा के वीरेंद्र सिंह (Virendra Singh) ने जेएनयू (JNU) के विषय को उठाते हुए दावा किया, ‘जनता के पैसे से चलने वाले जेए ...अधिक पढ़ें

    नई दिल्ली. लोकसभा (Lok Sabha) में  बुधवार को भाजपा के एक सदस्य ने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में राष्ट्रविरोधी बातें होने का आरोप लगाते हुए सरकार से इस विश्वविद्यालय को कुछ दिन के लिए बंद करने की मांग की, वहीं बसपा (BSP) के एक सदस्य ने जामिया और एएमयू में पुलिस कार्रवाई के संबंध में जांच की मांग की. भाजपा के वीरेंद्र सिंह (Virendra Singh) ने सदन में शून्यकाल में जेएनयू (JNU)  के विषय को उठाते हुए दावा किया, ‘जनता के पैसे से चलने वाले जेएनयू में राष्ट्रविरोधी बातें हो रही हैं.’ उन्होंने कहा कि देश की आजादी से पहले जो बातें मोहम्मद अली जिन्ना (Mohmmed Ali Jinnah) ने की थीं, वो ही बातें जेएनयू (JNU) में हो रही हैं, वो ही बातें विपक्ष कर रहा है.

    उन्होंने जम्मू कश्मीर (Jammu and Kashmir) के पूर्व मुख्यमंत्री और लोकसभा सदस्य फारूक अब्दुल्ला (Farooq Abdullah) की हिरासत के मुद्दे पर आसन के समीप प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस समेत विपक्षी दलों के सदस्यों की ओर इशारा करते हुए कहा, ‘जो बात आजादी से पहले जिन्ना ने की थीं, वही बातें यहां ये लोग (विपक्ष के सदस्य) कर रहे हैं.’ सिंह ने सरकार से मांग की कि जेएनयू को कुछ दिन के लिए बंद कर देना चाहिए. वहां के घटनाक्रमों की जांच होनी चाहिए.

    इससे पहले बसपा के दानिश अली ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) लागू होने के बाद जामिया मिलिया इस्लामिया, अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय और जेएनयू में हुए प्रदर्शनों का जिक्र करते हुए कहा कि जामिया और एएमयू में शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे छात्रों पर पुलिस कार्रवाई की जांच होनी चाहिए.

    यह भी पढ़ें...

    बुरी खबर! भूटान जाने के लिए अब भारतीयों को देनी होगी 1200 रुपये/दिन की फीस

    जानिए राममंदिर ट्रस्‍ट में कौन-कौन होंगे सदस्‍य और कैसा होगा मंदिर का नक्‍शा

    Tags: Jnu, Virendra singh

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें