शाह का तीन दिन का कर्नाटक दौरा, विधानसभा चुनावों की तैयारी तेज

भाषा
Updated: August 13, 2017, 12:00 AM IST
शाह का तीन दिन का कर्नाटक दौरा, विधानसभा चुनावों की तैयारी तेज
भाजपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अमित शाह
भाषा
Updated: August 13, 2017, 12:00 AM IST
भाजपा के कार्यकर्ताओं में जोश भरने के लिए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह तीन दिन की यात्रा पर कर्नाटक पहुंचे. कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए अमित शाह ने कहा है कि पार्टी एकजुट होकर खड़ी है और प्रदेश इकाई के प्रमुख बी एस येदियुरप्पा के नेतृत्व में अगले साल के विधानसभा चुनावों से सत्ता में वापसी करेगी.

शाह ने केंपे गौडा अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे के पास पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा, 'हमारी पार्टी एकजुट खड़ी है और आगामी दिनों में येदियुरप्पा जी के नेतृत्व में चुनावी मैदान में उतरने के लिए और राज्य में भाजपा की सरकार बनाने के लिए तैयार है.' यात्रा में भाजपा के कार्यकर्ताओं ने शाह का भव्य स्वागत किया.

उन्होंने दावा किया कि लोगों ने भाजपा को सत्ता में लाने का फैसला कर लिया है क्योंकि पार्टी पिछले पांच साल में कांग्रेस के 'भ्रष्ट, ध्रुवीकरण वाले और दमनकारी' शासन का पर्दाफाश करती आई है.

उन्होंने कहा, 'जिस तरह पिछले पांच साल से पार्टी कांग्रेस के भ्रष्ट, दमनकारी और ध्रुवीकरण वाले शासन के खिलाफ लड़ रही है, ऐसे में मैं उम्मीद करता हूं कि कर्नाटक के लोगों ने भाजपा को वोट देकर सत्ता में लाने का फैसला कर लिया है.' शाह ने कहा कि वह कर्नाटक में भाजपा की अगली सरकार बनाने के संकल्प को साकार करने आए हैं.

उन्होंने कहा, 'मैं यहां भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच 'अब की बार, भाजपा सरकार' के संकल्प को साकार करने आए हैं.' उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का 'विजय रथ' जब अगले साल फरवरी-मार्च में कर्नाटक पहुंचगे, तब पार्टी के कार्यकर्ताओं को कर्नाटक विधानसभा चुनाव जीतकर दक्षिण भारत में अपनी मौजूदगी बनाने के लिए तैयार रहना चाहिए.

शाह वह पार्टी के बीच विभिन्न खेमों में चल रही लड़ाई को खत्म करने की कोशिश करेंगे.

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री येदियुरप्पा अपने 'स्वेच्छाचारी' संचालन के चलते आलोचना झेल रहे हैं. पार्टी के कुछ नेताओं ने उनके प्रति नाखुशी जाहिर की है.

इन तीन दिन के दौरान शाह बुद्धिजीवियों, धार्मिक नेताओं, राज्य के पदाधिकारियों, विधायकों, सांसदों, अनुसूचित जातियों-जनजातियों, पिछड़ी जातियों के नेताओं से संवाद करेंगे.

कल वह पार्टी की राजनीतिक मामलों की समिति की बैठक में हिस्सा लेंगे और मंड्या जिले के नागमंगला में आदि चंचनागिरी मठ जाएंगे. वहां वह कर्नाटक के दूसरे सबसे शक्तिशाली समुदाय वोक्कलीगास के धार्मिक नेता एवं संत से मुलाकात करेंगे.

यात्रा के दौरान वह आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्री श्री रविशंकर से भी मुलाकात करेंगे.

तीसरे दिन, शाह पार्टी के उन 'विस्तारकों' (स्वयंसेवियों) को संबोधित करेंगे, जिन्होंने राज्यभर से लोगों की प्रतिक्रियाएं जुटाईं है.
First published: August 13, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर