होम /न्यूज /राष्ट्र /भारत-चीन सीमा विवाद के बीच BJP ने उठाया चीन में रह रहे मुसलमानों के अधिकार का मुद्दा

भारत-चीन सीमा विवाद के बीच BJP ने उठाया चीन में रह रहे मुसलमानों के अधिकार का मुद्दा

BJP ने उठाया चीन में रह रहे मुसलमानों के अधिकार का मुद्दा (प्रतिकात्मक तस्वीर)

BJP ने उठाया चीन में रह रहे मुसलमानों के अधिकार का मुद्दा (प्रतिकात्मक तस्वीर)

साल 2018 में न्यूयॉर्क (New York) स्थित मानवाधिकार निगरानी संस्था ने चीन (China) के शिंजियांग प्रांत में उइगर मुसलमानों ...अधिक पढ़ें

नई दिल्ली. बीजेपी (BJP) के मुस्लिम नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन (Syed Shahnawaz Hussain) ने बयान जारी कर कहा है कि चीन के शिंजियांग में रह रहे उइगर मुसलमानों के खिलाफ बढ़ते अत्याचार ना काबिल बर्दाश्त है और दुनिया के देशों को इस मानवाधिकार हनन पर ध्यान देना चाहिए. ह्यूमन राइट के तथ्यों का हवाला देकर बीजेपी के तरफ़ से कहा गया है कि कम्युनिस्ट सरकार ने तीस लाख मुसलमानों को बंधक बनाकर शिविर में रखा है, जो दिल दहला देने वाली है.

शिंजियांग (Xinjiang) वह इलाका है जो 1949 में इसे एक अलग राष्ट्र के रूप में मान्यता प्रदान की गई थी, लेकिन यह स्थिति ज्यादा दिनों तक नहीं रही और उसी साल चीन ने इस इलाके पर कब्जा कर लिया है. आपको बता दें कि चीन के शिंजियांग प्रांत में उइगर मुसलमानों की आबादी प्रमुखता से है. लेकिन, यह क्षेत्र उनके लिए किसी बंदीगृह की तरह होकर रह गया है. यहां उइगर मुसलमानों पर अत्याचार के कई मामले सामने आ चुके हैं. हजारों उइगरों को हिरासत में रखा गया है.

साल 2018 में न्यूयॉर्क स्थित मानवाधिकार निगरानी संस्था ने चीन के शिंजियांग प्रांत में उइगर मुसलमानों के खिलाफ मानवाधिकारों के उल्लंघन के व्यवस्थित अभियान का आरोप लगाते हुए एक रिपोर्ट जारी की थी. इस रिपोर्ट को लेकर बीजिंग ने शिंजियांग में लगाए जा रहे शिविरों को व्यावसायिक प्रशिक्षण केंद्र बताया था.

शिंजियांग में उइगर मुसलमानों पर अत्याचार

अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने भी एक बयान में कहा है कि चीन उइगरों, जातीय कजाख लोगों और शिंजियांग के अन्य अल्पसंख्यकों के अधिकारों का हनन कर रहा है. वह मनमानी सामूहिक हिरासत, जबरन आबादी नियंत्रण तथा उनकी संस्कृति और मुस्लिम आस्था को मिटाने की कोशिश कर रहा है. इसी मुद्दे को बीजेपी ने प्रमुखता से उठाया है. बीजेपी नेता सैयद शाहनवाज़ हुसैन ने कहा है कि चीन के शिंजियांग में उइगर मुसलमानों का नरसंहार 21वीं सदी का सबसे बड़ा अत्याचार है जिसने हिटलर और स्टालिन को मात दे दी है, इसलिए भारत समेत पूरी दुनिया को इसके खिलाफ आवाज़ उठानी चाहिए.

कुछ रिपोर्टों के अनुसार, चीन सरकार ने डी रेडिकलाइज़ेशन कैंपों को शिक्षा शिविर बता कर दुनिया को गुमराह कर रही है जहां 3 मिलियन उइगर मुसलमानों को हिरासत में रखा गया है और प्रताड़ित किया जा रहा है. यह भ्रामक है कि चीन शैक्षिक उद्देश्यों के लिए इन शिविरों का उपयोग कर रहा है. चीन के शिंजियांग क्षेत्र में उइगर मुसलमानों के खिलाफ अत्याचार की खबरें आती रही हैं, लेकिन एक हालिया रिपोर्ट में 50 उपग्रह चित्रों का विश्लेषण किया गया है, जिसमें भारत के लद्दाख के करीब सभी इलाकों में शिविरों के विस्तार की जांच की गई है, जहां उइगर मुसलमान रहते हैं.

यह भी कहा जा रहा है कि शिंजियांग में मुस्लिम आबादी को कम करने के लिए, चीनी कम्युनिस्ट सरकार मुस्लिम महिलाओं को चीनी पुरुषों से शादी करने के लिए मजबूर कर रही है. उन्होंने वहां एक अभियान चलाया है जिसके कारण हजारों मुस्लिम महिलाएं अपनी इज्जत को बचाने में विफल रही हैं. साथ साथ इन शिविरों में मुस्लिमों को खाने-पीने और साथ ही नमाज में बाधाओं का सामना करना पड़ता है.

शाहनवाज ने पाकिस्तान को घेरा

शाहनवाज़ हुसैन ने इस मुद्दे पर पाकिस्तान को कटघरे में खड़ा करते हुए कहा है कि चीन में मुसलमानों पर अत्याचार के बावजूद पाकिस्तान चीन के तलवे चाट रहा है. दुर्भाग्य से, ओआईसी भी चुप है और उसने भारत में मुस्लिम संगठनों और विद्वानों से प्रतिक्रिया की कमी पर दुख व्यक्त किया है. ह्यूमन राइट्स वॉच ने 22 पश्चिमी देशों की तरफ से चीन से अनुरोध किया कि वह उइगर मुस्लिमों की नजरबंदी खत्म करे और मानवाधिकार नियम लागू करे लेकिन चीन के तरफ से अब तक कोई सुधार नही किया गया है.

हालांकि चीन में उइगर मुसलमानों के खिलाफ नरसंहार, मानवाधिकार उल्लंघन और शोषण का मामला अब इंटरनेशनल क्रिमिनल कोर्ट पहुंच गया है. उइगर समुदाय से जुड़ी पूर्वी तुर्किस्तान की निर्वासित सरकार और जागरूकता आंदोलन चलाने वाली संस्था ने संयुक्त रूप से यह मामला दर्ज कराया है. लंदन के वकीलों के एक समूह ने चीन में उइगर समुदाय पर जारी अत्याचार और हजारों उइगरों को कानून का उल्लंघन कर कंबोडिया और ताजिकिस्तान डिपोर्ट किए जाने के संबंध में शिकायत दर्ज कराई है. इस केस में चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग समेत कम्युनिस्ट पार्टी की सरकार से जुड़े 80 लोगों पर उइगरों के नरसंहार का आरोप लगाया गया है.

Tags: BJP, China, Shehanwaz hussain

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें