• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • BJP REPLIED TO RAHUL GANDHI ACCUSES CENTRAL GOVERNMENT OF VACCINATION KNOWAT

देश में दिसंबर तक सभी को लग जाएगा कोरोना का टीका, केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर का ऐलान

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने ये बात कही है.

प्रकाश जावडेकर (Prakash Javadekar) ने कहा, 'वैक्सीन के बारे में पिछले सप्ताह स्वास्थ्य विभाग ने विस्तृत जानकारी दी थी.' विभाग की तरफ से बताया गया था कि दिसंबर तक 216 करोड़ वैक्सीन डोज मौजूद होंगे. यानी 108 करोड़ लोगों के वैक्सीनेशन का पूरा खाका पेश किया गया था.

  • Share this:
    नई दिल्ली. केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर (Prakash Javadekar) ने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) को जवाब दिया है. उन्होंने कहा है कि दिसंबर महीने तक देश में कोरोना वैक्सीनेशन का काम पूरा कर लिया जाएगा. उन्होंने कहा, 'वैक्सीन के बारे में पिछले सप्ताह स्वास्थ्य विभाग ने विस्तृत जानकारी दी थी.' विभाग की तरफ से बताया गया था कि दिसंबर तक 216 करोड़ वैक्सीन डोज मौजूद होंगे. यानी 108 करोड़ लोगों के वैक्सीनेशन का पूरा खाका पेश किया गया था. विभाग ने वैक्सीन के नाम भी बताए थे. कोविशील्ड, कोवैक्सीन, नोवावैक्सीन, जेनोवा और स्पूतनिक-V का जिक्र किया गया था.

    केंद्रीय मंत्री ने साफ कहा कि देश में वैक्सीनेशन का कार्यक्रम दिसंबर के पहले तक पूरा कर लिया जाएगा. दरअसल इससे पहले राहुल गांधी ने केंद्र की मोदी सरकार पर गंभीर आरोप लगाए. राहुल गांधी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा- 'मैंने और बहुत सारे लोगों ने सरकार को कोरोना की दूसरी लहर को लेकर वॉर्निंग दी. कई बार हमने सरकार को सलाह भी दी, लेकिन सरकार ने हमारा मज़ाक उड़ाया.'

    'सरकार समझ नहीं रही कि वह किससे मुकाबला कर रही है'
    राहुल गांधी ने कहा, 'सरकार समझ नहीं रही कि वह किससे मुकाबला कर रही है. इस कोरोना वायरस के म्यूटेशन के खतरे को समझना चाहिए. आप पूरे ग्रह को खतरे में डाल रहे हैं, क्योंकि आप 97% आबादी पर वायरस का हमला होने दे रहे हैं और सिर्फ 3% लोगों को टीके लगाए गए हैं.'

    वैक्सीन को बताया सबसे बड़ा हथियार
    केरल के वायनाड से सांसद राहुल गांधी ने कहा कि जिन लोगों के पास भोजन नही है,जो कमजोर हैं उनको कोरोना हो सकता है. जिनको कई रोग हैं कोरोना उस पर हमला करता है. कोरोना को रोकने का एक सबसे बड़ा हथियार वैक्सीन है. मास्क, सोशल डिस्टेसिंग, लॉकडाउन... ये सब अस्थायी उपाय हैं.
    First published: