ममता बनर्जी के व्यवहार को रविशंकर प्रसाद ने बताया शर्मनाक, कहा- 'राजनीति से ऊपर उठकर काम करने का समय है'

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद

PM Modi Meeting on Corona Situation: रविशंकर प्रसाद ने ममता बनर्जी पर पलटवार करते हुए कहा कि कोरोना की लड़ाई में जो अच्छे काम किये जा रहे हैं, उसके लिए प्रधानमंत्री मोदी ने डीएम की मीटिंग बुलाई थी, जिससे बाक़ी जगह भी उन अच्छे कामों को शेयर किया जा सके.

  • Share this:

नई दिल्ली. देश में कोरोना (Corona Virus) की स्थिति पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने गुरुवार को एक हाईलेवल मीटिंग की जिसमें पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) भी शामिल हुईं. हालांकि मीटिंग के बाद उन्होंने पीएम मोदी पर गंभीर आरोप लगाए और कहा कि किसी भी सीएम को बोलने नहीं दिया गया. ममता बनर्जी के इस बयान के बाद केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने पलटवार किया है. रविशंकर प्रसाद ने ममता बनर्जी के आचरण को बहुत ही शर्मनाक और पीड़ादायक बताया.

रविशंकर प्रसाद ने ममता बनर्जी पर पलटवार करते हुए कहा कि कोरोना की लड़ाई में जो अच्छे काम किये जा रहे हैं, उसके लिए प्रधानमंत्री मोदी ने डीएम की मीटिंग बुलाई थी, जिससे बाक़ी जगह भी उन अच्छे कामों को शेयर किया जा सके. लेकिन ममता बनर्जी ने पीएम की मीटिंग में बहुत ही अशोभनीय व्यवहार किया. पूरी मीटिंग को डिरेल करना चाहती थीं. आज ममता जी ने 24 परगना के डीएम को बोलने नहीं दिया.

क्या डीएम से बात नहीं कर सकते हैं पीएम मोदी

उन्होंने आगे कहा, '17 मार्च को जब मुख्यमंत्रियों की बैठक बुलाई उसमें भी वो नहीं आयीं. पीएम के साथ 2014, 2015, 2019 में दो बैठक में नहीं आयीं. मैं ममता जी से एक प्रश्न पूछता हूं कि पीएम देश के डीएम जो अच्छा काम कर रहे उनसे क्यों बात नहीं कर सकते.' उन्होंने कहा, 'आज जब देश कोरोना से लड़ रहा और पीएम लगातार हर वर्ग से संवाद कर रहे हैं वो डीएम से क्यों नहीं कर सकते. राजनीति से ऊपर उठकर काम करने का समय है. आज ममता जी ने जो आचरण किया है वो किसी तरह से लोकतांत्रिक व्यवस्था में शोभा देता है क्या?'







ममता बनर्जी ने पीएम मोदी पर लगाए गंभीर आरोप

इससे पहले ममता बनर्जी ने पीएम मोदी पर आरोप लगाते हुए कहा था कि हम राज्य चला रहे हैं, लेकिन शहंशाह कुछ बोल ही नहीं रहे हैं. यह one Nation and All humiliation हुआ है. ऐसा लग रहा है कि डिक्टेटरशिप है. मार्शल लॉ चल रहा है. उनकी कोई राजनीतिक सौजन्यता नहीं है. उन्होंने कहा कि सभी को बीजेपी के विरुद्ध एक टीम बनाने की जरूरत है. डिक्टेटरशिप के खिलाफ डेमोक्रेसी की लड़ाई होगी, जो उनके साथ बात करना चाहते हैं. बात करने के लिए तैयार हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज