लाइव टीवी

रोशन बेग: 'न खुदा मिला न विसाल ए सनम', बीजेपी भी ठुकराने के मूड में?

News18Hindi
Updated: November 14, 2019, 6:55 AM IST
रोशन बेग: 'न खुदा मिला न विसाल ए सनम', बीजेपी भी ठुकराने के मूड में?
रोशन बेग कांग्रेस के बागी नेताओं में से एक हैं.

कर्नाटक (Karnataka) में बीजेपी (BJP) के एक सूत्र नेबताया कि अगर रोशन बेग वाकई अपनी सदस्यता की पेशकश करने के लिए पार्टी कार्यालय जाते है तो उन्हें नुकसान होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 14, 2019, 6:55 AM IST
  • Share this:
दीपा बालकृष्णन
बेंगलुरु.
कर्नाटक (karnataka) में कांग्रेस (Congress) के पूर्व नेता रोशन बेग (Roshan Baig) के दफ्तर से एक संदेश जारी हुआ जिसमें कहा गया कि 'रोशन बेग और रूमन बेग के बीजेपी (BJP) में शामिल होते समय बड़ी से बड़ी संख्या में पहुंचे.' हालांकि गुरुवार सुबह रोशन बेग को बड़ा झटका लग सकता है. रोशन बेग का नाम उस सूची में शामिल नहीं है जिसमें कर्नाटक के बाकी 16 बागी विधायकों का नाम है जिस भारतीय जनता पार्टी ने जारी किया है.

सूची से गायब हुए उनके नाम के बारे में पूछे जाने पर बेग के करीबी सूत्रों ने इसे महत्त्वहीन बताया. कहा कि 'उन्होंने मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा (BS Yedyiurappa) से बात की है. वह और उनके बेटे (रुमन बेग) दोनों बीजेपी में शामिल हो रहे हैं.' सूची में नाम ना होने को 'टाइपिंग एरर' बताया गया.

कांग्रेस और जनता दल (सेक्युलर- JDS) से के बागी विधायक सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) द्वारा दिसंबर में आगामी उपचुनाव लड़ने की अनुमति देने के बाद भाजपा में शामिल होंगे.उपमुख्यमंत्री अश्वथ नारायण ने पहले बताया कि अयोग्य ठहराए गए विधायकों को मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा और पार्टी के राज्य प्रमुख नलिन कुमार कंदेल की उपस्थिति में राज्य की राजधानी में भाजपा मुख्यालय में सुबह 10:30 बजे शामिल किया जाएगा.

9 जुलाई को बतौर विधायक इस्तीफा देने वाले बेग, राज्य में कांग्रेस-जद (एस) गठबंधन सरकार में इस्तीफा देने वाले आखिरी विधायक थे. ऐसे में यह मानना मासूमियत होगी कि एक पार्टी, जिसने पूर्ववर्ती सरकार को गिराने वाले तख्तापलट के हर विवरण की सावधानीपूर्वक योजना बनाई थी, वह इतनी सुस्त होगी कि नए सदस्यों को सूचीबद्ध करने में टाइपिंग की गलतियाँ करेगा.

पीएम को बताया था -  "परिवर्तन का मशालची"
बेग ने इससे पहले समावेशी विकास पर ध्यान केंद्रित करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशंसा की, उन्हें "परिवर्तन का मशालची" बताया था. बेग ने अपनी पार्टी द्वारा 'अल्पसंख्यकों को वोटबैंक' मानने के लिए और मई में लोकसभा चुनाव में "फ्लॉप शो" होने के लिए नेताओं के खिलाफ टिप्पणी की थी.हालांकि, ऐसी अटकलें लगाई जाती रही हैं कि बेग करोड़ों के आईएमए पोंजी योजना घोटाले की जांच से सुरक्षा पाने की कोशिश कर रहे थे जिसमें उनकी संलिप्तता का संदेह है.

बीजेपी के एक वरिष्ठ सूत्र ने News18 को बताया कि अगर वह वास्तव में अपनी सदस्यता की पेशकश करने के लिए पार्टी कार्यालय जाते है तो उन्हें नुकसान होगा. सूत्र ने कहा, ' इससे वह सिर्फ शर्मिंदा होंगे. आईएमए घोटाले में संदिग्ध संलिप्तता के बाद, पार्टी स्पष्ट रहना चाहती है कि उनका स्वागत नहीं है.'

भाजपा ने शिवाजीनगर विधानसभा क्षेत्र के लिए भी अपनी उम्मीदवारी स्पष्ट कर दी है. संभावना है कि वह एक पूर्व नेता सरवन को अपना उम्मीदवार बनाएगी.

यह भी पढ़ें: कर्नाटक उपचुनाव: कुछ सीटों पर बागियों से होगा बीजेपी का सामना!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 14, 2019, 6:37 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर