विपक्ष के पास 2019 के चुनाव के लिए न नेता, न नीति और न रणनीति: BJP

बीजेपी नेता प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि 2014 के बाद से बीजेपी ने 15 राज्यों में चुनाव जीते हैं और कांग्रेस सिर्फ 3 राज्यों में सिमट कर रह गई है, इसलिए सत्ता पाने के लिए वह परेशान है.

भाषा
Updated: September 9, 2018, 3:20 PM IST
विपक्ष के पास 2019 के चुनाव के लिए न नेता, न नीति और न रणनीति: BJP
प्रकाश जावड़ेकर की फाइल फोटो
भाषा
Updated: September 9, 2018, 3:20 PM IST
'आओ मिलकर कमल खिलाएं' का संकल्प लेते हुए बीजेपी ने रविवार को जोर दिया कि साल 2019 के लोकसभा चुनाव में जीत के लिये पार्टी के पास नेता, नीति और रणनीति है, जबकि हताश विपक्ष नकारात्मक राजनीति में लगा हुआ है.

बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारणी के दूसरे दिन वरिष्ठ नेता और केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बताया कि बैठक में वरिष्ठ नेता और केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह ने एक राजनीतिक प्रस्ताव रखा, जिसको कार्यसमिति ने पास किया. इस प्रस्ताव में विश्वास जताया गया है कि न्यू-इंडिया का सपना पूरा होकर ही रहेगा.

वर्ष 2019 में जीत का दावा करते हुए उन्होंने कहा, 'हमारे पास कार्यक्रम है, नीति है, नेता है और रणनीति है, जबकि विपक्ष के पास ना कोई नेता है, ना कोई नीति है और ना ही कोई रणनीति है.' बीजेपी ने जोर दिया कि हताश विपक्ष नकारात्मकता की राजनीति कर रहा है. बैठक में आज ‘आओ मिलकर कमल खिलायें’ का संकल्प लिया गया.

बीजेपी नेता ने कहा कि 2014 के बाद से बीजेपी ने 15 राज्यों में चुनाव जीते हैं और कांग्रेस सिर्फ 3 राज्यों में सिमट कर रह गई है, इसलिए सत्ता पाने के लिए विपक्ष परेशान है. उन्होंने कहा कि ऐसे में विपक्ष महागठबंधन जैसा विकल्प ढूंढ़ रहा है.

विपक्ष के पास मोदी जैसा कोई नेता नहीं है और उसका एक मात्र लक्ष्य 'मोदी रोको' है. इसीलिए विपक्ष अनैतिक गठबंधन की बात कर रहा है.


यह भी पढ़ें: ग्राउंड रिपोर्ट: बीजेपी-कांग्रेस के लिए जी का जंजाल बना SC/ST एक्ट!

राजनीतिक प्रस्ताव में बताया है कि किस प्रकार आज देश में इनोवेशन की संस्कृति शुरू हुई है जहां खुद की तरक्की करते हुए लोग देश की तरक्की में सहभागी हो रहे हैं. प्रस्ताव में कहा गया है कि वर्ष 2022 तक देश से जातिवाद, संप्रदायवाद, आतंकवाद और नक्सलवाद खत्म होगा. प्रस्ताव के मुताबिक, केंद्र सरकार भ्रष्टाचारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई कर रही है जिसकी वजह से उन्हें देश छोड़कर भागना पड़ रहा है.

जावड़ेकर ने बताया कि पिछले चार वर्षों में अर्थव्यवस्था से लेकर शिक्षा, आंतरिक सुरक्षा, गरीब कल्याण, आर्थिक समावेशीकरण समेत विभिन्न क्षेत्रों में सरकार ने काफी काम किया है और ' इसके आधार पर 2022 तक न्यू इंडिया का संकल्प पूरा होगा. '

बीजेपी के प्रस्ताव के मुताबिक, कार्यकारिणी में राष्ट्रीय नागरिक पंजी. :एनआरसी: के मुद्दे पर भी चर्चा हुई जिसमें कहा गया कि घुसपैठियों के लिए देश में कोई जगह नहीं है. अफगानिस्तान, बांग्लादेश और पाकिस्तान के सिख, बौद्ध, हिंदू शरणार्थी अगर देश में आते हैं तो उनकी मदद की जाएगी.

यह भी पढ़ें: राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक: 'BJP के 'विजन 2022' में नहीं है राम मंदिर का जिक्र'

बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारणी की बैठक में देश के आर्थिक पहलुओं पर भी चर्चा हुई.


प्रस्ताव में कहा गया है कि चार वर्ष पहले एक कमजोर अपारदर्शी और पूर्णतः पूंजीवादी अर्थव्यवस्था विरासत में मिली थी और बीजेपी नीत सरकार ने इसमें मूलभूत सुधार किए और कड़े कदम उठाए. नोटबंदी और जीएसटी ने अर्थव्यवस्था में अभूतपूर्व सुधार किए है.

पार्टी का कहना है कि थोड़ी सी परेशानियों के बाद अर्थव्यवस्था अब तेजी से बढ़ रही है और आज भारत दुनिया की सबसे तेज गति से बढ़ती अर्थव्यवस्था के साथ दुनिया की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया है.

जावड़ेकर ने बताया कि बैठक में जनधन योजना का भी जिक्र आया जिसमें अब हर प्रौढ़ व्यक्ति का खाता खोलने की बात कही गई है. इसे वित्तीय समावेशीकरण की मजबूत पहल बताया गया. इसके साथ ही जीएसटी से जुड़ी समस्याओं को एक साल की अवधि में दूर किया गया है.

बीजेपी नेता ने जोर दिया कि बैंकों के राष्ट्रीयकरण के 47 साल बाद जो काम नहीं हुआ, वह काम पिछले 47 महीने में हुआ है.

यह भी पढ़ें:  चिदंबरम एंड कंपनी से किसी भी मुद्दे पर डिबेट के लिए तैयारः अमित शाह

आंतरिक सुरक्षा के संदर्भ में राजनीतिक प्रस्ताव में कहा गया है कि जब आंतरिक सुरक्षा की स्थिति मजबूत होती है तभी देश तरक्की करता है. भारत जब दुनिया में सबसे तेज गति से विकास दर्ज कर रहा है, अंतरराष्ट्रीय रैंकिंग के स्तर पर अच्छी रैकिंग हासिल कर रहा है तब ऐसा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सोच, सरकार की नीति और उस पर अमल से हुआ है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर