कोरोना वैक्सीन बेचकर 'मुनाफा' कमाने को लेकर भाजपा ने पंजाब सरकार को घेरा, कहा- मामले की जांच हो

केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि दोषियों को दंडित किया जाना चाहिए. (पीटीआई फाइल फोटो)

केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि दोषियों को दंडित किया जाना चाहिए. (पीटीआई फाइल फोटो)

Punjab Coronavirus Vaccine: केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह पर निशाना साधा और कहा कि इस संबंध में राज्य सरकार की ओर से जारी एक विवादास्पद आदेश से साफ है कि ‘दाल में कुछ काला’ है.

  • Share this:

नई दिल्ली. भाजपा ने शनिवार को पंजाब की कांग्रेस सरकार के कोरोना वायरस संक्रमण रोधी टीकों को निजी अस्पतालों को ‘बेचने’ और इससे कथित तौर पर मुनाफा कमाने के मामले की जांच की मांग की और कहा कि दोषियों को दंडित किया जाना चाहिए. केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने संवाददाताओं को संबोधित करते हुए पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह पर निशाना साधा और कहा कि इस संबंध में राज्य सरकार की ओर से जारी एक विवादास्पद आदेश से साफ है कि ‘दाल में कुछ काला’ है.


कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए भाजपा नेता ने कि वे टीकों की आपूर्ति को लेकर मोदी सरकार पर हमले करते हैं और सवाल उठाते हैं, लेकिन उनकी ही पार्टी शासित पंजाब में निजी अस्पतालों को टीकों की खुराक बेचकर 38 करोड़ रुपये तक मुनाफा कमाने में जुटी हुई है, जबकि राजस्थान में कूड़ों की ढेर में टीके मिले हैं.


कोरोना वैक्सीन का पहला टीका लगाने के मामले में भारत ने अमेरिका को पीछे छोड़ा


पुरी ने वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘सरकार को मुनाफा कमाना बंद करना चाहिए. सच्चाई सामने लाने के लिए मामले की जांच की जानी चाहिए.’ उन्होंने राज्य सरकार से यह भी पूछा कि मुनाफे की राशि किस कोष में गई है और उस कोष का स्वामित्व किसके पास है.


पंजाब सरकार के एक आदेश का हवाला देते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने 309 रुपये की दर से कोविशील्ड एक खुराक की खरीदी की और उसे निजी अस्पतालों को 1,000 रुपये में बेचे और अस्पतालों ने लाभार्थियों से 1,560 रुपये वसूले. उन्होंने बताया कि उन्हें इस बात की जानकारी मिली है कि मोहाली के दो निजी अस्पतालों ने कोविड टीके 3,000 से लेकर 3, 200 रुपये तक में भी बेचा है. उन्होंने कहा, ‘ये हैरानगी की बात है.’


कोरोना वायरस की दूसरी लहर के दौरान देश में 646 डॉक्टरों की मौत: आईएमए


कांग्रेस की पंजाब इकाई में जारी अंदरूनी मतभेदों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू के बीच ‘क्रिकेट मैच’ खेल रही है और शीर्ष नेतृत्व ‘रैफरी’ की भूमिका में हैं. कांग्रेस नेताओं पर झूठ फैलाने का आरोप लगाते हुए पुरी ने कहा कि उसके नेताओं ने पहले टीकों की प्रभावोत्पादकता को लेकर सवाल उठाए और उससे पहले लैब परीक्षण की प्रक्रिया पर सवाल उठाए. उन्होंने कहा, ‘चाहे अगुस्ता वेस्टलैंड हो चाहे बोफोर्स, यह (कांग्रेस नेता) पहले अपनी कमीशन तय करते हैं. बहुत शर्म की बात है...आपको इसमें भी फायदा कमाना है... दाल में काला था तभी तो आपने ऑर्डर को वापस लिया.’





कोविड टीकों को निजी अस्पतालों को देने को लेकर विपक्षी दलों की आलोचना के बाद राज्य सरकार ने संबंधित आदेश को शुक्रवार को वापस ले लिया था. भाजपा नेता ने इस अवसर पर केंद्र के तीन कृषि कानूनों को लेकर कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों पर भ्रम फैलाने का आरोप लगाया और दावा किया कि केंद्र सरकार ने इस साल धान व गेहूं की रिकॉर्ड खरीद की है और पंजाब को इसका सबसे अधिक फायदा मिला है. कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों द्वारा सेंट्रल विस्टा परियोजना की आलोचना करने पर उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र सरकार द्वारा विधायकों के आवास के लिए सिर्फ एक परियोजना पर करोड़ों खर्च किया जा रहा है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज