होम /न्यूज /राष्ट्र /

कांग्रेस शासित राज्यों में दलितों पर अत्याचार को लेकर भाजपा ने राहुल, प्रियंका पर साधा निशाना

कांग्रेस शासित राज्यों में दलितों पर अत्याचार को लेकर भाजपा ने राहुल, प्रियंका पर साधा निशाना

BJP मुख्यालय पर प्रेस वार्ता के दौरान संबित पात्रा (फाइल फोटो)

BJP मुख्यालय पर प्रेस वार्ता के दौरान संबित पात्रा (फाइल फोटो)

भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा, “राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा दोनों खुद को दलित अधिकारों के समर्थक के रूप में पेश करते हैं, लेकिन वे राजस्थान और अन्य राज्यों में अनुसूचित जातियों के खिलाफ अत्याचार पर चुप क्यों हैं?'

    नई दिल्ली. कांग्रेस शासित राज्यों में दलितों पर हो रहे अत्याचार को लेकर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने मंगलवार को राहुल गांधी (Rahul Gandhi) और प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) की चुप्पी को लेकर उन पर तीखा हमला बोला. राजस्थान, महाराष्ट्र और झारखंड में अनुसूचित जाति (एससी) समुदायों के सदस्यों के खिलाफ अत्याचार की कथित घटनाओं का हवाला देते हुए, भाजपा ने कहा कि जो लोग खुद को दलित अधिकारों के पैरोकार के रूप में पेश करते हैं, वे ऐसी घटनाओं की अनदेखी कर रहे हैं.

    यहां पार्टी मुख्यालय में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा, “राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा दोनों खुद को दलित अधिकारों के समर्थक के रूप में पेश करते हैं, लेकिन वे राजस्थान और अन्य राज्यों में अनुसूचित जातियों के खिलाफ अत्याचार पर चुप क्यों हैं?’

    भाजपा ने लगाया आरोप
    उन्होंने आश्चर्य जताया कि लखीमपुर खीरी में हुई घटना के मद्देनजर उत्तर प्रदेश में “राजनीतिक पर्यटन” पर जाने वाले विभिन्न राजनीतिक दलों के नेता कांग्रेस शासित राज्यों का दौरा क्यों नहीं करते हैं जब उन राज्यों से दलितों के खिलाफ अत्याचार की घटनाएं सामने आती हैं.

    ये भी पढ़ें- कांग्रेस में शामिल होने की बात पर वरुण गांधी ने सिर्फ 3 शब्दों में खत्म किया मामला

    इसी तरह की भावनाएं व्यक्त करते हुए भाजपा महासचिव दुष्यंत गौतम ने आरोप लगाया कि यह कांग्रेस पार्टी ही थी जिसने दलितों के सबसे बड़े नायक बीआर आंबेडकर का अनादर किया और अपने शासन के दौरान उन्हें कभी उचित सम्मान नहीं दिया.

    Tags: Congress, Dalit Harassment, Priyanka gandhi vadra, Rahul gandhi, Sambit Patra

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर