Home /News /nation /

कर्नाटक में बीजेपी-कांग्रेस में छिड़ा ट्विटर युद्ध, इंदिरा कैंटीन का नाम बना वजह; निशाने पर खेल रत्न अवॉर्ड

कर्नाटक में बीजेपी-कांग्रेस में छिड़ा ट्विटर युद्ध, इंदिरा कैंटीन का नाम बना वजह; निशाने पर खेल रत्न अवॉर्ड

कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सिद्धरमैया. (पीटीआई फाइल फोटो)

कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सिद्धरमैया. (पीटीआई फाइल फोटो)

Karnataka Politics Update: कांग्रेस नेता दिनेश गुंडू राव ने कहा, 'यह इंदिरा कैंटीन नहीं, आपका दुष्ट मानसिकता है जिसमें बदलाव की जरूरत है.' उन्होंने कहा, 'सीटी रवि जो नफरत के दूत की तरह है, उन्होंने सीएम पर इंदिरा कैंटीन का नाम बदलने का दबाव डाला है... '

अधिक पढ़ें ...

    बेंगलुरु. कर्नाटक में इंदिरा कैंटीन (Indira Canteens) के नाम को लेकर भारतीय जनता पार्टी (BJP) और कांग्रेस (Congress) में तकरार तेज हो गई है. बीते शनिवार को दोनों पार्टियों के नेताओं के बीच ट्विटर पर जमकर बयानबाजी हुई. राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया (Siddaramaiah) ने बीजेपी सरकार पर ‘ओछी राजनीति’ में शामिल नहीं होने के लिए कहा है. इस दौरान उन्होंने राजीव गांधी खेल रत्न अवॉर्ड का नाम मेजर ध्यानचंद के नाम पर रखे जाने पर भी बीजेपी सरकार पर सवाल उठाया है.

    बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव सीटी रवि ने ट्विटर पर राज्य के मुख्यमंत्री बासवराज बोम्मई को इंदिरा कैंटीन का नाम जल्द से जल्द बदलने के लिए कहा था. उन्होंने लिखा, ‘मुख्यमंत्री बासवराज बोम्मई से निवेदन है कि पूरे कर्नाटक में इंदिरा कैंटीन का नाम बदलकर अन्नपूर्णेश्वरी कैंटीन जल्दी से जल्दी किया जाए. इसका कोई कारण नजर नहीं आता है कि क्यों कन्नडिगों को भोजन करते समय इमरजेंसी के काले दिनों की याद दिलाई जाए.’

    यह भी पढ़ें: मध्य प्रदेश विधानसभा ने नकली शराब से मौत होने पर फांसी की सजा का विधेयक किया पास, 25 लाख तक होगा जुर्माना

    कांग्रेस बोली- यह परंपरा रही है
    इस पर सिद्धारमैया ने कहा, ‘राष्ट्रीय नेताओं के नाम पर सड़कों और सरकारी भवनों का नाम रखना परंपरा है. क्या बीजेपी उस स्टेडियम का नाम बदलेगी, जिसका नाम नरेंद्र मोदी के नाम पर रखा गया है? फ्लाईओवर, जिसका नाम दीनदयाल उपाध्याय और सिटी बस कॉर्पोरेशन का नाम वाजपेयी के नाम पर रखा गया है? क्या बीजेपी इनके नाम बदलेगी?’

    उन्होंने समझाया, ‘श्रीमति इंदिरा गांधी ने गरीबी हटाने के लिए सुधारों की शुरुआत की और जमीन सुधार अधिनियम लागू किया. उनके योगदान का सम्मान करने के लिए कैंटीन का नाम उनके नाम पर रखा गया था. उनके योगदान को याद रखने में गलत क्या है?’ उन्होंने कहा कि कर्नाटक बीजेपी को ओछी राजनीति और इंदिरा कैंटीन का नाम बदलने की कोशिश नहीं करनी चाहिए.

    कांग्रेस नेता दिनेश गुंडू राव ने कहा, ‘यह इंदिरा कैंटीन नहीं, आपका दुष्ट मानसिकता है जिसमें बदलाव की जरूरत है.’ उन्होंने कहा, ‘सीटी रवि जो नफरत के दूत की तरह है, उन्होंने सीएम पर इंदिरा कैंटीन का नाम बदलने का दबाव डाला है. अगर गरीब लोगों की भूख नाम बदलने से पूरी हो जाती है, तो मुझे इससे कोई आपत्ति नहीं है. बीजेपी सरकार ने इंदिरा कैंटीन के अनुदान को रोक दिया है. जो चीज बदले जाने की जरूरत है, वह सीटी रवि की बुरी मानसिकता है इंदिरा कैंटीन का नाम नहीं.’

    Tags: BJP, Congress, Indira Canteens, Karnataka, Siddaramaiah

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर