अगर BJP ने गहलोत सरकार गिराने की कोशिश की तो वो बुरी तरह असफल होगी: माकन

अजय माकन ने कहा है कि राजस्थान में सभी कांग्रेसी नेता एकजुट हैं. (फाइल फोटो)

अजय माकन ने कहा है कि राजस्थान में सभी कांग्रेसी नेता एकजुट हैं. (फाइल फोटो)

अजय माकन (Ajay Maken) ने कहा, ‘गुजरात और मध्य प्रदेश समेत कई प्रदेशों में अनैतिक और अलोकतांत्रिक तरकीबों का इस्तेमाल करके भाजपा सफल हो गई. लेकिन राजस्थान में बुरी तरह विफल रही. इसका कारण यह है कि सरकार के साथ खड़े हमारे 123 विधायकों में कोई भी इनके जाल में नहीं फंसा.’

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 7, 2020, 10:36 PM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. राजस्थान के कांग्रेस प्रभारी अजय माकन (Ajay Maken) ने कहा है कि राजस्थान में अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) के नेतृत्व वाली सरकार को कोई खतरा नहीं है. उन्होंने कहा, ‘गुजरात और मध्य प्रदेश समेत कई प्रदेशों में अनैतिक और अलोकतांत्रिक तरकीबों का इस्तेमाल करके भाजपा सफल हो गई. लेकिन राजस्थान में बुरी तरह विफल रही. इसका कारण यह है कि सरकार के साथ खड़े हमारे 123 विधायकों में कोई भी इनके जाल में नहीं फंसा.’ कांग्रेस नेता कहा, ‘मुझे सरकार को कोई खतरा नहीं दिखाई देता। अगर वो फिर कोशिश करेंगे तो फिर बुरी तरह विफल होंगे.

'हालिया निकाय चुनावों में यह एकजुटता दिखी'

समाचार एजेंसी पीटीआई को दिए इंटरव्यू में माकन ने कहा, ‘हम अपने विधायकों और कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को एकजुट रखने में सफल रहे तथा हालिया निकाय चुनावों में यह एकजुटता दिखी जिनमें हमने अब तक सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया.’माकन ने कहा कि राजस्थान में पार्टी पूरी तरह एकजुट है और इस साल के आखिर तक नयी प्रदेश कांग्रेस कमेटी (पीसीसी) का गठन हो जाएगा तथा 31 जनवरी तक विभिन्न बोर्डों एवं निगमों के अध्यक्षों की नियुक्तियों का काम भी संपन्न हो जाएगा.


अशोक गहलोत ने लगाए थे आरोप

उनकी यह टिप्पणी इस संदर्भ में महत्वपूर्ण है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने हाल ही में कहा था कि भाजपा द्वारा एक बार फिर से उनकी सरकार को अस्थिर करने का प्रयास शुरू किया जा रहा है. माकन ने कहा कि गहलोत कांग्रेस के ईमानदार नेता और अनुभवी सिपाही हैं तो सचिन पायलट भी पार्टी के लिए उपयोगी हैं.

कुछ महीने पहले पायलट के नेतृत्व में 19 विधायकों के बागी रुख अपनाने के बाद राजस्थान की कांग्रेस सरकार संकट में आ गई थी, हालांकि पार्टी नेतृत्व और बागियों के बीच लंबी वार्ता के बाद पायलट एवं उनके समर्थक विधायक वापस लौटे. उसी राजनीतिक संकट के दौरान कांग्रेस आलाकमान ने पायलट को उप मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पद से हटा दिया था. गोविंद सिंह डोटासरा को नया पीसीसी अध्यक्ष नियुक्त किया गया था.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज