• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • BLACK FUNGUS CAN ALSO BE CAUSED BY WEARING A MASK WITHOUT WASHING KNOW WHAT EXPERT SAYS

बिना धोए मास्क पहनने से भी हो सकता है ब्लैक फंगस? विशेषज्ञों में मतभेद

ब्लैक फंगस के कारणों में बिना धोए मास्क पहनने की धारणा पर विशेषज्ञों में मतभेद पाया गया है (Photo- news18 English via Reuters)

Black Fungus Infection: जिन मरीजों में शुगर अनियंत्रित है और कोरोना के इलाज के दौरान उन्‍होंने स्टेरॉयड लिया है तो ऐसे लोगों में ब्‍लैक फंगस का खतरा बढ़ जाता है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. दिल्ली में विशेष रूप से कोविड-19 के रोगियों (Covid-19 Patients) में ब्लैक फंगस (Black Fungus) के बढ़ते मामलों के बीच कुछ चिकित्सा विशेषज्ञों का मानना है कि यदि साफ-सुथरे मास्क का इस्तेमाल नहीं किया जाता और कम हवादार कमरों में रहा जाता है तो यह समस्या हो सकती है, वहीं कुछ विशेषज्ञों के अनुसार इन बातों को प्रमाणित करने के लिए कोई क्लिनिकल साक्ष्य नहीं हैं.

    दिल्ली के अनेक प्रमुख अस्पतालों के डॉक्टरों ने कहा कि वहां ऐसे कई रोगी, कोविड और गैर-कोविड दोनों, आये हैं जो म्यूकरमाइकोसिस या ब्लैक फंगस से संक्रमित थे और जिनका लंबे समय तक बिना धोए मास्क पहनने जैसे कम स्वच्छता वाले तरीकों को अपनाने का इतिहास रहा है.

    ये भी पढ़ें- कोरोना टेस्टिंग के लिए केंद्र की बड़ी तैयारी, अगले महीने से 45 लाख हो सकेंगे टेस्ट

    ये हो सकती हैं ब्लैक फंगस पैदा होने की बड़ी वजह
    इंद्रप्रस्थ अपोलो अस्पताल में ईएनटी विशेषज्ञ डॉ सुरेश सिंह नारुका ने कहा कि ब्लैक फंगस की मुख्य वजह ‘स्टेरॉइड का अनुचित तरीके से इस्तेमाल’ है. उन्होंने कहा, ‘‘दूसरी बात यह है कि मैं लंबे समय तक बिना धोए मास्क पहनने या कम हवादार कमरों मसलन तलघर में रहने जैसे तरीकों को जिम्मेदार मानता हूं. इसलिए मैं कहूंगा कि दूसरी बात भी म्यूकरमाइकोसिस को पैदा करने का एक कारण हो सकती है.’’

    सर गंगाराम अस्पताल के ईएनटी विभाग के अध्यक्ष डॉ अजय स्वरूप ने कहा कि हमारे शरीर में नासिका मार्ग में और नेसोफिरिंजियल क्षेत्र में प्रतीक रूप में म्यूकर होते हैं.

    ये भी पढ़ें- महाराष्ट्र में घट रहे कोरोना के आंकड़े, लेकिन मौतों की बढ़ती संख्या से टेंशन

    उन्होंने कहा, ‘‘जब व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है, जैसा कि कोविड के मामले में होता है तो ये म्यूकर बढ़ना शुरू हो जाते हैं और संक्रमण पैदा करते हैं. इसमें नाक से खून रिसना और आंखों में सूजन जैसे लक्षण होते हैं.’’

    हालांकि उन्होंने सलाह दी कि लोगों को हड़बड़ी में अस्पतालों में नहीं आना चाहिए और डॉक्टर से राय लेनी चाहिए.
    (Disclaimer: यह खबर सीधे सिंडीकेट फीड से पब्लिश हुई है. इसे News18Hindi टीम ने संपादित नहीं किया है.)
    Published by:Mahima Bharti
    First published: