ब्लैक फंगस-व्हाइट फंगस: जानें कारण, लक्षण और उपचार के तरीके

देश में ब्लैक और व्हाइट दोनों फंगस के मामले सामने आए हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

देश में ब्लैक और व्हाइट दोनों फंगस के मामले सामने आए हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

Black Fungus Vs White Fungus: विशेषज्ञों के अनुसार, व्हाइट फंगस का संक्रमण ब्लैक फंगस से ज्यादा खतरनाक होता है क्योंकि इसका फेफड़ों और शरीर के अन्य अंगों पर तीव्र प्रभाव पड़ता है.

  • Share this:

नई दिल्ली. विशेषज्ञों का मानना है कि व्हाइट फंगस, ब्लैक फंगस की तुलना में ज्यादा खतरनाक साबित हो सकता है. हालांकि भारत में म्यूकरमाइकोसिस के मामलों में बढ़ोतरी देखी जा रही है जिसे आम तौर पर ब्लैक फंगस के नाम से जाना जाता है, और देश कोरोना वायरस की जानलेवा दूसरी लहर से जूझ रहा है. केंद्र सरकार ने राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों से ब्लैक फंगस संक्रमण (म्यूकरमाइकोसिस) को महामारी रोग अधिनियम 1897 के तहत अधिसूच्य बीमारी बनाकर सभी मामलों की सूचना देने आग्रह किया था. इसने यह भी कहा है कि इस संक्रमण से कोविड-19 रोगियों में दीर्घकालिक रुग्णता और मौतों की संख्या में वृद्धि हो रही है. हालांकि अब मिल रही रिपोर्ट्स के मुताबिक व्हाइट फंगस के मामले भी परेशानी बढ़ा रहे हैं और ये ब्लैक फंगस से भी ज्यादा जानलेवा साबित हो सकते हैं.

माइक्रोबायोलॉजी विभाग के प्रमुख डॉ एसएन सिंह ने कहा कि नए पाए गए फंगल संक्रमण से मरीजों को ऑक्सीजन सपोर्ट मिलने का खतरा है और इससे त्वचा को नुकसान हो सकता है. उन्होंने कहा कि अगर इसकी जानकारी देर से मिलती है तो संक्रमण से मौत हो सकती है. डॉक्टर ने कोविड-19 और कोरोना से उबर रहे लोगों को व्हाइट फंगस को गंभीरता से लेने की अपील की है.

टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार, दोनों प्रकार के मुताबिक व्हाइट और ब्लैक दोनों ही फंगस संक्रमण 'म्यूकरमाइसेट्स' नामक फंगस के सांचे के कारण होते हैं जो पर्यावरण में मौजूद होते हैं.

व्हाइट फंगस
विशेषज्ञों के अनुसार, व्हाइट फंगस का संक्रमण ब्लैक फंगस से ज्यादा खतरनाक होता है क्योंकि इसका फेफड़ों और शरीर के अन्य अंगों पर तीव्र प्रभाव पड़ता है. व्हाइट फंगस अधिक घातक हो जाता है क्योंकि जैसे यह फैलता है ये महत्वपूर्ण अंगों को बहुत नुकसान पहुंचाता है. यह मस्तिष्क, श्वसन अंगों, पाचन तंत्र, गुर्दे, नाखून या यहां तक ​​कि निजी अंगों को भी प्रभावित कर सकता है.

ब्लैक फंगस

जैसा कि ब्लैक फंगस या म्यूकरमाइकोसिस के मामले पूरे देश में चिंता का विषय हैं, एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया ने स्पष्ट किया कि फंगल संक्रमण नया नहीं है, लेकिन कोविड​​​​-19 के साथ मामले बढ़ गए हैं. गुलेरिया ने कहा कि ब्लैक फंगस के मामलों के पीछे स्टेरॉयड का 'दुरुपयोग' प्रमुख कारणों में से एक है.



"गुलेरिया ने कहा, ब्लैक फंगस चेहरे, संक्रमित नाक, आंख के ऑरबिट या मस्तिष्क को प्रभावित कर सकता है, जिससे आंखों की रोशनी भी जा सकती है. यह फेफड़ों में भी फैल सकता है." उन्होंने कहा लोगों को अस्पतालों में संक्रमण रोकने के प्रोटोकॉल का पालन करना चाहिए. गुलेरिया ने कहा, "यह देखा गया है कि माध्यमिक संक्रमण, फंगल और बैक्टीरिया, अधिक मृत्यु दर का कारण बन सकता है."

व्हाइट फंगस से कौन हो सकता है प्रभावित

इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक जिन लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होती है व्हाइट फंगस उन्हें सबसे ज्यादा प्रभावित करता है. यह तब भी हो सकता है जब लोग पानी के संपर्क में आते हैं या मोल्ड युक्त गंदे वातावरण में आते हैं. यह रोग संक्रामक नहीं है, लेकिन ये महत्वपूर्ण अंगों में फैल सकता है और जटिलताओं का कारण बन सकता है.

कम रोग प्रतिरोधक क्षमता वाले लोग, मधुमेह, कैंसर या नियमित रूप से स्टेरॉयड का उपयोग करने वालों को व्हाइट फंगस से संक्रमित होने का अधिक खतरा होता है.

किसे हो सकता है ब्लैक फंगस

मधुमेह के रोगी, कोविड रोगी और स्टेरॉयड पर रहने वाले लोगों को ब्लैक फंगस संक्रमण होने का अधिक खतरा होता है.

आईसीएमआर-स्वास्थ्य मंत्रालय की एक एडवाइजरी में कहा गया है कि इस बीमारी के प्रमुख जोखिम कारकों में अनियंत्रित डायबिटीज, स्टेरॉयड द्वारा इम्यूनोसप्रेशन, लंबे समय तक आईसीयू में रहना, घातकता और वोरिकोनाज़ोल थेरेपी शामिल हैं.

किसे हो सकता है व्हाइट फंगस

व्हाइट फंगस संक्रमण के मरीजों में कोविड-19 जैसे समान लक्षण दिखाई देते हैं. पटना के अस्पताल में रिपोर्ट किए गए चार व्हाइट फंगस मामलों में कोरोना से संबंधित लक्षण दिखाई दिए, लेकिन वह कोरोना से संक्रमित नहीं पाए गए. सभी मामलों में मरीजों के फेफड़े संक्रमित पाए गए. इसके लक्षण भी ब्लैक फंगस के समान हो सकते हैं.

चूंकि व्हाइट फंगस फेफड़ों और छाती को प्रभावित करता है, इससे खांसी, सीने में दर्द, सांस फूलना हो सकता है. इससें सूजन, संक्रमण, लगातार सिरदर्द और दर्द हो सकता है.

जबकि एक्स-रे और सीटी स्कैन के माध्यम से संक्रमण का पता लगाया जा सकता है, रोगियों को इसके इलाज के लिए एंटी-फंगल दवा दी जाती है. पटना में सामने आए मामलों में मरीजों को ऐंटिफंगल दवाएं दी गईं और वे ठीक हो गए.

ब्लैक फंगस के लक्षण और उपचार

ब्लैक फंगस या म्यूकरमाइकोसिस मुख्य रूप से कोविड-19 से उबरने वाले लोगों को प्रभावित कर रहा है. संक्रमण के कारण नाक का काला पड़ना या उसका रंग फीका पड़ना, धुंधली या दोहरी दृष्टि, सीने में दर्द, सांस लेने में तकलीफ और खांसी से खून आना हो रहा है. म्यूकरमाइकोसिस में मुख्य रूप से साइनस, आंख शामिल होती है और कभी-कभी यह मस्तिष्क तक जा सकती है और इसमें नाक शामिल हो सकती है.

पश्चिम बंगाल के स्वास्थ्य विभाग ने 'म्यूकरमाइकोसिस - इफ अनकेयर्ड फॉर - मे टर्न फेटल' शीर्षक से एक एडवाइजरी जारी की है, जिसमें बीमारी के चेतावनी संकेत जैसे आंखों या नाक के आसपास दर्द और लाली, बुखार, सिरदर्द, खांसी और उल्टी के साथ सांस की तकलीफ के बारे में बताया गया है.

एडवाइजरी में कहा गया है कि नाक बंद होना, चेहरे का एकतरफा दर्द, सुन्न होना, नाक या तालु के ऊपर कालापन आना, दांत दर्द, दांतों का ढीला होना, धुंधली दृष्टि के साथ सीने में दर्द और सांस संबंधी लक्षणों का बिगड़ना म्यूकरमाइकोसिस से संक्रमित होने के संदिग्ध लक्षण हैं.

ब्लैक फंगस के मामलों के इलाज के लिए एंटी-फंगल दवा एम्फोटेरिसिन-बी का उपयोग किया जा रहा है.

ब्लैक फंगस को रोकने के लिए आवश्यक सावधानियां:

पश्चिम बंगाल के स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी एडवाइजरी के अनुसार, चूंकि लोग पर्यावरण में फंगल बीजाणुओं के संपर्क में आने से संक्रमण की चपेट में आ जाते हैं, इसलिए लोगों को मिट्टी, खाद और मलमूत्र के अलावा सड़ी हुई रोटी, फल और सब्जियों के संपर्क में आने के प्रति आगाह किया गया है. “मिट्टी की बागवानी को संभालते समय जूते, लंबी पतलून, लंबी बाजू की शर्ट और दस्ताने पहनें. लोगों को व्यक्तिगत स्वच्छता बनाए रखनी चाहिए और नहाते समय पूरी तरह से स्क्रब करने की सलाह दी जाती है."

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज