Home /News /nation /

बोगीबील: कम से कम 120 साल तक टिका रहेगा भारत का सबसे लंबा रेल-सड़क पुल

बोगीबील: कम से कम 120 साल तक टिका रहेगा भारत का सबसे लंबा रेल-सड़क पुल

(Image: PTI)

(Image: PTI)

इस पुल के निर्माण में 5,900 करोड़ रुपए का खर्च आया है और इसकी मियाद 120 साल है. इससे असम से अरुणाचल प्रदेश के बीच की यात्रा दूरी घट कर चार घंटे रह जाएगी.

    एशिया के दूसरे सबसे लंबे रेल-सड़क पुल बोगीबील की मियाद कम से कम 120 साल है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को इस पुल का उद्घाटन करेंगे.

    मुख्य अभियंता मोहिंदर सिंह ने बताया कि ब्रह्मपुत्र नदी पर बना 4.9 किलोमीटर लंबा पुल देश का पहला पूर्णरूप से जुड़ा पुल है. उन्होंने बताया कि पूरी तरह से जुड़े पुल का रखरखाव काफी सस्ता होता है.

    इस पुल के निर्माण में 5,900 करोड़ रुपए का खर्च आया है और इसकी मियाद 120 साल है. इससे असम से अरुणाचल प्रदेश के बीच की यात्रा दूरी घट कर चार घंटे रह जाएगी.

    इसके अलावा दिल्ली से डिब्रूगढ़ रेल यात्रा समय तीन घंटे घट कर 34 घंटे रह जाएगा. इससे पहले यह दूरी 37 घंटे में तय होती थी.

    बोगीबील रेल और रोड ब्रिज़ है. इस पर दो समानांतर रेल लाइनें हैं और इन पर ट्रेनें 100 किलोमीटर की रफ़्तार से दौड़ सकेंगी. ट्रेन के पुल के ऊपर सड़क पुल होगा. इस पर 5800 करोड़ रुपये की लागत आई है. इसे बनाने में 77000 मेट्रिक टन लोहे का इस्तेमाल हुआ है. इस क्षेत्र में मार्च से अक्टूबर तक बारिश होती है. इसके चलते पुल निर्माण कार्य के लिए हर साल केवल 5 महीने का समय मिलता था.

    बता दें कि पीएम मोदी, दिवंगत प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की वर्षगांठ के अवसर पर इस बोगीबील पुल पर रेल आवागमन की शुरुआत करेंगे. यह दिन केंद्र सरकार द्वारा ‘सुशासन दिवस’ के रूप में भी बनाया जाता है.

    Tags: Assam, Indian railway, Pm narendra modi, Railway

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर