Home /News /nation /

विवादित आदर्श बिल्डिंग को सेना ने कब्जे में लिया, SC ने दिया था केंद्र को ये आदेश

विवादित आदर्श बिल्डिंग को सेना ने कब्जे में लिया, SC ने दिया था केंद्र को ये आदेश

 भारतीय सेना ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार, विवादास्पद 31 मंजिली आदर्श सोसायटी इमारत को शुक्रवार को अपने कब्जे में ले लिया।

भारतीय सेना ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार, विवादास्पद 31 मंजिली आदर्श सोसायटी इमारत को शुक्रवार को अपने कब्जे में ले लिया।

भारतीय सेना ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार, विवादास्पद 31 मंजिली आदर्श सोसायटी इमारत को शुक्रवार को अपने कब्जे में ले लिया।

    मुंबई। भारतीय सेना ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार, विवादास्पद 31 मंजिली आदर्श सोसायटी इमारत को शुक्रवार को अपने कब्जे में ले लिया। एक अधिकारी ने यहां कहा कि सैन्य अधिकारियों का एक दल बंबई हाई कोर्ट के रजिस्ट्रार के साथ कोलाबा स्थित इस गगनचुंबी इमारत को आदर्श सोसायटी से अपने कब्जे में लेने और सुप्रीम कोर्ट में लंबित सोसायटी के मामले के दौरान किसी भी अतिक्रमण या तोड़फोड़ से सुरक्षित करने के लिए इमारत स्थल पहुंचा।

    रक्षा मंत्रालय की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को आदेश दिया था कि सुप्रीम कोर्ट में आदर्श सोसायटी की ओर से दायर एक विशेष अनुमति याचिका के निपटारे तक आदर्श सोसायटी इमारत को कब्जे में ले लिया जाए।

    बयान में कहा गया है कि भारत सरकार की ओर से भारतीय सेना इस इमारत को आदर्श सोसायटी से अपने कब्जे में ले रही है, ताकि इसकी सुरक्षा सुनिश्चित हो सके और इस पर कोई अतिक्रमण न कर पाए।

    पिछले सप्ताह सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को आदेश दिया था कि पांच अगस्त से पहले इमारत को कब्जे में ले लिया जाए, और पूरी प्रक्रिया या तो बंबई हाई कोर्ट के रजिस्ट्रार की निगरानी में हो या उसके द्वारा नामित किसी व्यक्ति की निगरानी में।

    सोसायटी को यह भी आदेश दिया गया था कि वह इस इमारत से अब अपने को अलग कर ले और सरकार को इमारत की पूरी जिम्मेदारी सौंप दे।

    Tags: Bombay high court, Supreme Court

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर