ब्राजील, जर्मनी, फ्रांस... अबतक इन देशों AstraZeneca Vaccine पर लगाई रोक, जानें क्या है कारण

कई देशों ने एस्‍ट्राजेनेका की वैक्‍सीन लगाए जाने के बाद लोगों में ब्‍लड क्‍लॉट्स डिवेलप करने की शिकायत की.

कई देशों ने एस्‍ट्राजेनेका की वैक्‍सीन लगाए जाने के बाद लोगों में ब्‍लड क्‍लॉट्स डिवेलप करने की शिकायत की.

पहले वैक्सीन लगने के बाद खून के थक्का जमने जैसे गंभीर लक्षण सामने आए थे और अब एक प्रेग्नेंट महिला की मौत का मामला सामने आया है. इस डर के कारण ब्राजील, जर्मनी, फ्रांस, इटली समेत कई देशों ने एस्‍ट्राजेनेका की कोविड वैक्‍सीन पर प्रतिबंध लगा दिया है.

  • Share this:

नई दिल्ली. कोरोना से जूझ रही दुनिया में इस वक्त वैक्सीनेशन (Corona Vaccination) का काम तेज रफ्तार से चल रहा है. वैज्ञानिकों का कहना है कि कोरोना से बचाव का एक उपाय वैक्सीनेशन ही है. वर्तमान में कई वैक्सीन हैं जो कोरोना वायरस से बचाव का दावा कर रही है. हालांकि इनमें से एक वैक्सीन एस्ट्राजेनेका (AstraZeneca Vaccine) के कई दुष्प्रभाव सामने आए हैं, जिसके बाद दुनियाभर में चिंताएं भी बढ़ रही हैं.

पहले वैक्सीन लगने के बाद खून के थक्का जमने जैसे गंभीर लक्षण सामने आए थे और अब एक प्रेग्नेंट महिला की मौत का मामला सामने आया है. इस डर के कारण ब्राजील, जर्मनी, फ्रांस, इटली समेत कई देशों ने एस्‍ट्राजेनेका की कोविड वैक्‍सीन पर प्रतिबंध लगा दिया है. आइए जानते हैं अब तक किन देशों ने एस्ट्राजेनेका पर रोक लगाई है और क्या है कारण

ब्राजील में प्रेग्नेंट महिला की मौत

इस वैक्सीन को लगाने के बाद ब्राजील में एक प्रेग्नेंट महिला की मौत का मामला सामने आया है. ब्राजील के स्वास्थ्य मंत्रालय के टीकाकरण कार्यक्रम समन्वयक ने कहा कि स्वास्थ्य नियांक एनविसा ने प्रेग्नेंट महिलाओं पर वैक्सीन के इस्तेमाल के बारे में पहले चेतावनी जारी की थी. उसके बाद एहतियाती के तौर पर वैक्सीन को प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए निलंबित कर दिया गया है.
ये भी पढ़ेंः- कोरोना: महाराष्ट्र में बढ़ेगा लॉकडाउन? राज्य कैबिनेट ने पास कर दिया प्रस्ताव

डेनमार्क भी कर चुका है बैन

डेनमार्क ने यह रोक वैक्सीन दिए जाने के बाद कुछ लोगों के शरीर में खून के थक्के जमने के बाद लगाई है. हालांकि, विशेषज्ञों का दावा है कि ऐसी घटनाएं काफी दुर्लभ हैं.




कंपनी ने दी थी ये सफाई

वैक्सीन में शिकायत आने के बाद एस्‍ट्राजेनेका की ओर से जारी किए गए आधिकारिक बयान में कहा गया है कि 1.7 करोड़ लोगों को यह टीका लगाया जा चुका है. कंपनी ने कहा कि रिव्‍यू से यही सामने आया कि वैक्‍सीन इस्‍तेमाल के लिए सुरक्षित है. कंपनी ने कहा कि ब्‍लड क्‍लॉटिंग की घटनाएं उसकी वैक्‍सीन AZD1222 से संबंधित नहीं है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज