Assembly Banner 2021

ब्राजील ने कोवैक्सीन को कहा 'ना', 2 करोड़ डोज का ऑर्डर लेने से इनकार

भारत बायोटेक ने बीते दिनों कोवैक्सीन के क्लीनिकल ट्रायल के तीसरे फेज की अंतरिम रिपोर्ट जारी की थी, जिसमें इस वैक्सीन को कोरोना से लड़ने के लिए 81 फीसदी कारगर बताया गया था. (सांकेतिक तस्वीर)

भारत बायोटेक ने बीते दिनों कोवैक्सीन के क्लीनिकल ट्रायल के तीसरे फेज की अंतरिम रिपोर्ट जारी की थी, जिसमें इस वैक्सीन को कोरोना से लड़ने के लिए 81 फीसदी कारगर बताया गया था. (सांकेतिक तस्वीर)

Covid Vaccine Update: रिपोर्ट्स के अनुसार, ब्राजील सरकार (Brazilian Government) की तरफ से जारी गजट में कहा गया है कि दवाइयों के लिए गुड मेन्युफैक्चरिंग प्रैक्टिसेज का पालन नहीं होने के कारण कोवैक्सीन को रिजेक्ट किया गया है.

  • Share this:
नई दिल्ली. ब्राजील के हेल्थ रेग्युलेटर ने भारत (India) में तैयार हुई कौवेक्सीन (Covaxin) निर्यात करने से मना कर दिया है. ब्राजील (Brazi;) ने इस वैक्सीन के 2 करोड़ डोज का ऑर्डर दिया था. खास बात है कि अमेरिका (America) के बाद कोरोना वायरस महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित देश ब्राजील ही है. देश ने वैक्सीन तैयार होने में सही मानकों का इस्तेमाल नहीं किए जाने पर सवाल उठाए हैं. हालांकि, इस मामले में वैक्सीन निर्माता भारत बायोटेक की तरफ से भी प्रतिक्रिया आई है. कंपनी का कहना है कि ब्राजील से चर्चा जारी है.

रिपोर्ट्स के अनुसार, ब्राजील सरकार की तरफ से जारी गजट में कहा गया है कि दवाइयों के लिए गुड मेन्युफैक्चरिंग प्रैक्टिसेज का पालन नहीं होने के कारण कोवैक्सीन को रिजेक्ट किया गया है. इस पर एनडीटीवी से बातचीत में निर्माता ने कहा 'जांच के दौरान बताई गईं जरूरतों को पूरा किया जाएगा.' उन्होंने कहा 'पूर्ति के लिए समयसीमा को लेकर ब्राजील एनआरए के साथ चर्चा जारी है. और इसे जल्द ही सुलझा लिया जाएगा.'

Youtube Video




यह भी पढ़ें: कोरोना वैक्सीन की बर्बादी को 1% से कम रखने की जरूरत, केंद्र ने राज्यों और UTs से कहा
एक अन्य रिपोर्ट के अनुसार, हैदराबाद स्थित कंपनी ने कहा है कि जांच के दौरान सामने आए मुद्दों पर काम जारी है. साथ ही उन्होंने दावा किया है कि ब्राजील सरकार ने 2 करोड़ डोज का ऑर्डर रद्द नहीं किया है. तीसरे चरण के क्लीनिकल ट्रायल में वैक्सीन के 81 फीसदी आंतरिक प्रभावी होने का दावा किया गया है. फिलहाल भारत में कोवैक्सीन और पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया में तैयार हुई कोविशील्ड का इस्तेमाल किया जा रहा है.

भारत में ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने कोवैक्सीन को पाबंदियों के साथ आपातकालीन इस्तेमाल की अनुमति जनवरी में दे दी थी. इस वैक्सीन को भारत बायोटेक ने इंडियन काउंसिल फॉर मेडिकल रिसर्च के साथ मिलकर तैयार किया है. कंपनी ने ब्राजील में आपातकालीन इस्तेमाल के लिए 8 मार्च को आवेदन किया था. वहीं, बीते महीने ब्राजील सरकार ने कंपनी से 2 करोड़ डोज के लिए करार किया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज