अपना शहर चुनें

States

मशहूर कवयित्री सुगाथाकुमारी का निधन

सुगाथाकुमारी
सुगाथाकुमारी

तिरुवनंतपुरम मेडिकल कॉलेज में सुबह 10.50 बजे सुगाथा कुमारी ने अंतिम सांस ली.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 23, 2020, 12:14 PM IST
  • Share this:
तिरुवनंतपुरम. मशहूर कवयित्री और एक्टिविस्ट सुगाथाकुमारी का 86 वर्ष की उम्र में निधन हो गया. मिली जानकारी के अनुसार तिरवनंतपुरम स्थित मेडिकल कॉलेज अस्पताल में कोविड -19 संक्रमित पाए जाने के बाद बुधवार को पर्यावरण कार्यकर्ता सुगाथाकुमारी का निधन हो गया.

पद्म श्री से सम्मानित सुगाथाकुमारी कोविद -19 पॉजिटिव पाई गईं थीं. उन्हें गंभीर निमोनिया की हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया था. इस दौरान वह वेंटिलेटर सपोर्ट पर थीं .डॉक्टरों ने कहा कि वह ब्रोन्कोपमोनिया से पीड़ित थी. इस बीमारी में फेफड़ों में हवा के थक्के में सूजन पैदा हो जाती है.

सुगाथाकुमारी, मलयालम साहित्य के क्षेत्र में एक प्रभावशाली आवाज थीं. उन्हें केरल साहित्य अकादमी पुरस्कार, केंद्र साहित्य अकादमी पुरस्कार, ओडक्कुज़ल पुरस्कार, एज़ुथचन पुरस्कार से सम्मानित थीं.



तिरुवनंतपुरम विश्वविद्यालय कॉलेज से अपनी शिक्षा पूरी की
कवि का जन्म स्वतंत्रता सेनानी बोधेश्वरन और संस्कृत की विद्वान वीके कार्त्यायिनी अम्मा के घर 22 जनवरी, 1934 को हुआ था. साहित्य समीक्षक और लेखक डॉ.के. वेलयुधन नायर की पत्नी रहीं सुगाथाकुमारी ने केरल विश्वविद्यालय और तिरुवनंतपुरम विश्वविद्यालय कॉलेज से अपनी शिक्षा पूरी की.

तिरुवनंतपुरम के जवाहर बाल भवन के प्रिंसिपल रहीं सुगाथाकुमारी केरल स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ चिल्ड्रेन लिटरेचर द्वारा प्रकाशित एक पत्रिका, थलीर के प्रधान संपादक भी थीं. प्रकृति संरक्षण समिति और अभय के संस्थापक सचिव रही सुगाथाकुमारी को समाज सेवा के लिए लक्ष्मी पुरस्कार मिला है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज