पाकिस्‍तान पहुंचे नवजोत सिंह सिद्धू, करतारपुर कॉरिडोर को बताया उम्‍मीदों का गलियारा

पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि इस कॉरिडोर से ही पाकिस्‍तान और भारत के बीच शांति लाई जा सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 27, 2018, 5:13 PM IST
  • Share this:

पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू करतारपुर कॉरिडोर के शिलान्‍यास के लिए पाकिस्‍तान पहुंच गए हैं. पाकिस्‍तानी मीडिया को संबोधित करते हुए नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि करतारपुर कॉरिडोर संभावनाओं का गलियारा है. इस कॉरिडोर से ही पाकिस्‍तान और भारत के बीच शांति लाई जा सकती है.

News18 से बात करते हुए सिद्धू ने कहा, 'दोनों देशों के बीच करतारपुर साहिब गुरुद्वारा कॉरिडोर को खोलने और विकसित करने के फैसले का पूरा श्रेय मेरे दोस्त और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को जाता है.' पाकिस्तान पहुंचने के बाद उन्होंने संवाददाताओं से बात करते हुए इस बात से इंकार किया है कि इस यात्रा के केंद्र में कांग्रेस नहीं है. पिछले पाकिस्तान यात्रा के दौरान पाक आर्मी चीफ कमर जावेद बाजवा से गले मिलने के बाद कांग्रेस को भी सफाई देनी पड़ी थी.

पाकिस्तान की ओर से बुधवार को इमरान खान करतारपुर कॉरिडोर की आधारशिला रखेंगे. यह कॉरिडोर भारतीय सिख तीर्थयात्रियों को पाकिस्तान में गुरुद्वारा दरबार साहिब की पूजा करने में सहायता करेगा. करतारपुर में सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव 18 सालों तक रहे थे.



पाकिस्‍तान जाने से पहले सिद्धू ने कहा था कि 90 प्रतिशत से ज्‍यादा भारतीय चाहते हैं कि भारत और पाकिस्‍तान के बीच मैच हो. 28 नवंबर को पाकिस्तान अपने इलाके में करतारपुर कॉरिडोर की आधारशिला रखने जा रहा है. सूत्रों के मुताबिक केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल एवं एच एस पुरी पाक में करतारपुर गलियारे की आधारशिला कार्यक्रम में हिस्सा लेने पाकिस्तान जाएंगे.
बता दें कि गुरुवार को एक महत्वपूर्ण फैसले में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने गुरदासपुर जिले के डेरा बाबा नानक से अंतरराष्ट्रीय सीमा तक करतारपुर गलियारे की इमारत और विकास को मंजूरी दे दी है. केंद्र की मंजूरी के बाद अब दिल्ली-करतारपुर रास्ते का निर्माण करवाया जाएगा. ये विकास कार्य पाकिस्तान से लगी सीमा तक करवाया जाएगा. केंद्र सरकार ने गुरु नानक देव जी के प्रकाश पर्व के मद्देनजर यह फैसला लिया है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज