सामाजिक कार्यकर्ता तृप्‍ति देसाई 17 नवंबर को जाएंगी सबरीमाला मंदिर, सीएम से मांगी सुरक्षा

सामाजिक कार्यकर्ता तृप्‍ति देसाई 17 नवंबर को जाएंगी सबरीमाला मंदिर, सीएम से मांगी सुरक्षा
सबरीमाला मंदिर के खुलने पर पूजा करते पंडित (फाइल फोटो-PTI)

भूमाता ब्रिगेड की संस्‍थापक और सामाजिक कार्यकर्ता तृप्ति देसाई ने मुख्‍यमंत्री पिनाराई विजयन को एक पत्र लिखकर सुरक्षा की मांग की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 14, 2018, 2:04 PM IST
  • Share this:
सुप्रीम कोर्ट ने सबरीमाला मंदिर में स्त्रियों के प्रवेश को लेकर भले ही फैसला दे दिया हो लेकिन अभी भी मंदिर के अंदर स्‍त्रियों को प्रवेश करने नहीं दिया जा रहा है. इस विवाद के बीच अब भूमाता ब्रिगेड की संस्‍थापक और सामाजिक कार्यकर्ता तृप्ति देसाई ने 17 नवंबर को मंदिर जाने की बात कही है. इसके लिए तृप्‍ति देसाई ने केरल के मुख्‍यमंत्री पिनाराई विजयन को एक पत्र लिखकर सुरक्षा की मांग की है.

गौरतलब है कि तृप्ति काफी समय से स्त्रियों के मंदिरों में भेदभाव को लेकर एक मुहिम चला रखी हैं. कुछ समय पहले उनके द्वारा 400 साल पुरानी शनि शिंगणापुर मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को लेकर आवाज उठाई गयी थी. कोर्ट के इस फैसले के बाद तृप्ति ने सबरीमाला मंदिर आने की बात कही है. लेकिन धमकी को देखते हुए उन्होंने सरकार से अपनी सुरक्षा की मांग की है.

यह भी पढ़ें: सबरीमाला के पुजारी बोले: मैं बेहद निराश, फिर भी SC का फैसला स्वीकार



कट्टरपंथियों की धमकी के बाद भी तृप्ति ने मंदिर जाने की बात कही है. उन्होंने कहा है कि वे डरने वाली महिला नहीं हैं, वह अवश्य ही मंदिर जाएगीं. गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले को मीडिया में महिलाओं के लिए एक बड़ी जीत के रूप में दिखाया जा रहा है. वहीं दूसरी तरफ सोशल मीडिया में कई भद्दे कमेंट भी लोगों के आ रहे हैं.
तृप्ति को मंदिर न आने की सलाह दी जा रही है. साथ ही मंदिर आने पर जान से मारने की धमकी दी जा रही है. कट्टर पंथियों की तरफ से कहा जा रहा है कि तृप्ति को किसी भी कीमत पर मंदिर में प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा. यदि वह मंदिर आती हैं तो उन्हें इसका परिणाम भुगतना पड़ेगा. तृप्ति ने इस मामले की शिकायत पुलिम में दर्ज कराई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज