• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • शिशुओं को बुनियादी पोषण देता है ब्रेस्टफीडिंग, तेजी से होता है मानसिक विकास

शिशुओं को बुनियादी पोषण देता है ब्रेस्टफीडिंग, तेजी से होता है मानसिक विकास

फाइल फोटो...

फाइल फोटो...

स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ वीणा आचार्य ने कहा कि यह दूध महिलाओं में प्राकृतिक रूप से बनता है और जीवन के पहले कई महीनों तक शिशु को बुनियादी पोषण प्रदान करता है. उन्होंने कहा कि यह दूध बच्चे के शारीरिक एवं मानसिक विकास के लिए आवश्यकत पोषक तत्व प्रदान करता है.

  • Share this:

    जयपुर. विश्व स्तनपान सप्ताह के तहत यहां आयोजित एक संगोष्ठी में महिला चिकित्सकों ने स्तनपान को शिशुओं के शारीरिक एवं मानसिक विकास के लिए महत्वपूर्ण बताते हुए शनिवार को कहा कि यह शिशुओं को बुनियादी पोषण प्रदान करता है. विश्व स्तनपान सप्ताह के समापन पर इस संगोष्ठी का आयोजन राजस्थान अस्पताल में किया गया.

    इसमें स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ वीणा आचार्य ने कहा कि यह दूध महिलाओं में प्राकृतिक रूप से बनता है और जीवन के पहले कई महीनों तक शिशु को बुनियादी पोषण प्रदान करता है. उन्होंने कहा कि यह दूध बच्चे के शारीरिक एवं मानसिक विकास के लिए आवश्यकत पोषक तत्व प्रदान करता है. डॉ. शीला शर्मा ने कहा कि शोध से पता चला है कि स्तनपान करने वाले शिशुओं में एलर्जी और दांतों से जुड़ी समस्या कम होती है. उन्होंने कहा कि स्तनपान से उन्हें जबड़े, दांत, बोलने व समग्र चेहरे के विकास में लाभ मिलता है और यह अनेक बीमारियों से भी सुरक्षा देता है.

    कार्यक्रम की मुख्य अतिथिज जयपुर की महापौर शील धाबाई थीं जबकि विशिष्ट अतिथि इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष डॉ एस.एस. अग्रवाल थे. इस अवसर पर जन जागरूकता कार्यक्रम के लिए एक पोस्टर का विमोचन भी किया गया.

    महिलाओं को ब्रेस्टफीडिंग करवाने से मिलने वाले शारीरिक लाभ

    – बच्चे को जन्म देने के बाद जल्दी वजन घटता है. मिल्क सप्लाई करने के लिए महिलाओं के शरीर को रोजाना करीब 50 कैलोरी बर्न करनी पड़ती है.

    – यूट्रस को सिकुड़ने और सामान्य आकार में आने में मदद मिलती है.

    – पोस्टपार्टम यानी जन्म देने के बाद महिलाओं में होने वाली ब्लीडिंग में कमी आती है.

    – एनीमिया का खतरा कम होता है. जो कि महिलाओं में सबसे ज्यादा होता है.

    स्तनपान कराने से महिलाओं का मूड बेहतर रहता है और पोस्टपार्टम डिप्रेशन का खतरा कम होता है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज