कोरोना के खिलाफ जंग में भारत के साथ ब्रिटेन, भेजे 600 से अधिक ऑक्सीजन कॉन्संट्रेट और वेंटिलेटर

भारत में ब्रिटेन के उच्चायुक्त एलेक्स एलिस ने हिंदी में दिए वीडियो संदेश में कहा कि मुश्किल के इस वक्त में भारत-यूके के साथ है.

भारत में ब्रिटेन के उच्चायुक्त एलेक्स एलिस ने हिंदी में दिए वीडियो संदेश में कहा कि मुश्किल के इस वक्त में भारत-यूके के साथ है.

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा कि ब्रिटेन भारत के साथ दोस्त और साझेदार के तौर पर कोरोना से लड़ाई में एक साथ खड़ा है और इस मुश्किल वक्त में ब्रिटेन भारत के साथ मिलकर काम करेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 25, 2021, 11:09 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत में कोरोना वायरस की दूसरी लहर के कारण चारों (Coronavirus Second Wave) तरफ हाहाकार मचा हुआ है. ऑक्सीजन, दवाइयों की कमी से कई राज्य जूझ रहे हैं. ऐसे में ब्रिटेन भारत की मदद के लिए आगे आया है. ब्रिटेन ने कोरोना महामारी से लड़ने के लिए जीवन रक्षक मेडिकल उपकरण भेजा है. आधिकारिक जानकारी के अनुसार ब्रिटेन द्वारा 600 से अधिक मेडिकल उपकरण भारत भेजे गए हैं. ये सभी उपकरण 27 अप्रैल तक भारत पहुंच जाएंगे.

कोरोना के खिलाफ लड़ाई में भारत की मदद के लिए ब्रिटेन ने 495 ऑक्सिजन कंसन्ट्रेटर, 120 वेंटिलेटर और दूसरे मेडिकल उपकरण भेजे हैं. ब्रिटेन की तरफ से मदद की दूसरी खेप भी इसी हफ्ते  भेजी जाएगी.

मुश्किल वक्त में भारत के साथ है ब्रिटेन

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा कि ब्रिटेन भारत के साथ दोस्त और साझेदार के तौर पर कोरोना से लड़ाई में एक साथ खड़ा है और इस मुश्किल वक्त में ब्रिटेन भारत के साथ मिलकर काम करेगा. भारत में ब्रिटेन के उच्चायुक्त एलेक्स एलिस ने हिंदी में दिए वीडियो संदेश में कहा कि मुश्किल के इस वक्त में भारत-यूके साथ है. प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने भारत को ऑक्सीजन कॉन्संट्रेटर्स और वेंटिलेटर्स भेजने का फैसला किया है. कोरोना को हराने की जंग में यूके भारत के साथ है और कंधे से कंधा मिलाकर आगे बढ़ रहा है.
इस सप्ताह भारत दौरे पर आने वाले थे ब्रिटेन के पीएम

गौर करने वाली बात है कि ब्रिटेन के प्रधानमंत्री का भारत दौरा इसी हफ्ते होने वाला था, लेकिन कोरोना के बढ़ते संक्रमण की वजह से बोरिस जॉनसन ने अपना भारतीय दौरा दूसरी बार रद्द कर दिया था. पहली बार गणतंत्र दिवस के मौके पर बतौर मुख्य अतिथि आनेवाले थे जॉनसन लेकिन तब ब्रिटेन में कोरोना के बढ़ते मामलो कि वजह से उन्होंने अपना दौरा रद्द किया था.

ये भी पढ़ेंः- 11 से 15 मई के बीच चरम पर होगी कोरोना की दूसरी लहर, देश में होंगे 35 लाख एक्टिव केस, IIT वैज्ञानिकों का अनुमान





कोरोना महामारी की दूसरी लहर और कोरोना के बढ़ते मामलों और ऑक्सीजन की कमी ने पूरी दुनिया का ध्यान भारत की तरफ खींचा है, ऐसे में ब्रिटेन की तरफ से मदद की खेप भारत और ब्रिटेन की दोस्ती को इस मुश्किल वक्त में और मजबूत करेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज