होम /न्यूज /राष्ट्र /अब ब्रिटिश साइंस राइटर ने उठाए कोरोना की उत्पत्ति पर सवाल, क्या फिर घिरेगा चीन

अब ब्रिटिश साइंस राइटर ने उठाए कोरोना की उत्पत्ति पर सवाल, क्या फिर घिरेगा चीन

वुहान वायरोलॉजी इंस्टिट्यूट पर फिर सवाल खड़े किए गए हैं. (तस्वीर-Reuters-moneycontrol)

वुहान वायरोलॉजी इंस्टिट्यूट पर फिर सवाल खड़े किए गए हैं. (तस्वीर-Reuters-moneycontrol)

Origin of Coronavirus: ब्रिटेन के विज्ञान संबंधी मामलों पर लिखने वाले जाने-माने लेखक और एडिटर निकोलस वेड (Nicholas Wade ...अधिक पढ़ें

    वॉशिंगटन. बीते साल की शुरुआत में चीन के वुहान (Wuhan) में तबाही मचाने के बाद दुनियाभर में फैले कोरोना वायरस (Corona Virus) की उत्पत्ति पर वैश्विक चर्चा जारी है. हर कुछ दिन बाद इस वायरस की उत्पत्ति को लेकर कोई न कोई नई बात लोगों के बीच आ जाती है. अब ब्रिटेन के विज्ञान संबंधी मामलों पर लिखने वाले जाने-माने लेखक और एडिटर निकोलस वेड (Nicholas Wade) ने एक बार फिर चीन पर सवाल खड़े कर दिए हैं. उन्होंने कहा है कि वुहान के वायरोलॉजी इंस्टिट्यूट में रिसर्च स्कॉलर्स कोरोना वायरस से मानव कोशिकाओं और चूहों को संक्रमित करने के लिए प्रयोग कर रहे थे. संभव है इंसानों में कोरोना यहीं से फैला हो.

    निकोलस वेड ने 'बुलेटिन ऑफ द एटॉमिक साइंटिस्ट्स' में लिखे एक लेख में सार्स-कोविड-2 की उत्पत्ति को लेकर सवाल खड़े किए हैं. वेड का कहना है कि सबूत इस आशंका को पुख्ता करते हैं कि यह वायरस एक प्रयोगशाला में पैदा किया गया, जहां से वह फैला. हालांकि उन्होंने यह भी कहा है कि इस बात की पुष्टि के लिए अभी पर्याप्त सबूत नहीं हैं. उन्होंने कहा है- वुहान का वायरोलॉजी इंस्टिट्यूट कोरोना वायरस अनुसंधान का मुख्य केंद्र है. यहां पर रिसर्च स्कॉलर मानव कोशिकाओं पर हमला करने के लिए चमगादड़ संबंधी कोरोना वायरस बना रहे थे.’

    " isDesktop="true" id="3594836" >

    टॉप वैज्ञानिकों ने भी लैब लीक की थ्योरी को खारिज नहीं किया
    कुछ ही दिनों पहले दुनिया के शीर्ष वैज्ञानिकों के एक समूह ने भी कहा है कि वायरस के चीन के लैब से लीक होने की थ्योरी को खारिज नहीं किया जा सकता, जब तक डाटा आधारित गहन जांच के आधार पर इसे खारिज नहीं किया जाता है. वैज्ञानिकों ने यह भी कहा है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा कोरोना वायरस संक्रमण की उत्पत्ति और फैलने के बारे में वुहान में की गई जांच में सभी पहलुओं का ध्यान नहीं रखा गया है, साथ ही लैब से वायरस के लीक होने की थ्योरी को जांच के लायक भी नहीं समझा गया.

    ट्रंप ने कहा था चीनी वायरस
    बता दें कोरोना वायरस की उत्पत्ति को लेकर बीते साल से ही लगातार बहस जारी है. निवर्तमान अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप लगातार सार्वजनिक मंचों से कोरोना को 'चीनी वायरस' कह कर पुकारते थे. इस बात को लेकर दोनों देशों के बीच तल्ख बयानबाजी भी हुई थी.

    Tags: COVID 19, Wuhan Virus

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें