लाइव टीवी

कैबिनेट विस्तार को अंतिम रूप देने के लिए भाजपा आलाकमान से मिलेंगे येडियुरप्पा

वार्ता
Updated: December 10, 2019, 9:53 PM IST
कैबिनेट विस्तार को अंतिम रूप देने के लिए भाजपा आलाकमान से मिलेंगे येडियुरप्पा
कर्नाटक उपचुनावों में भाजपा को बड़ी सफलता मिली है.

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येडियुरप्पा (Karnataka CM BS Yediyurappa) ने कहा, जैसा कि मैंने आश्वासन दिया था - जो इस्तीफा देकर बाहर आ गए (कांग्रेस और जेडीएस से) और चुनावों में जीत हासिल की है, उन्हें मंत्री बनाना हमारी जिम्मेदारी है.

  • Share this:
बेंगलुरू. उपचुनावों (Bypolls) में भारी जीत हासिल कर विधानसभा में स्पष्ट बहुमत हासिल करने के एक दिन बाद कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येडियुरप्पा (BS Yediyurappa) ने मंगलवार को कहा कि कैबिनेट विस्तार पर वह जल्द ही भाजपा (BJP) के केंद्रीय नेतृत्व के साथ विचार-विमर्श करेंगे. सत्तारूढ़ भाजपा ने सोमवार को उपचुनावों में 15 सीटों में से 12 पर जीत दर्ज की जिससे चार महीने पुरानी येडियुरप्पा सरकार (Yediyurappa Government) का विधानसभा में बहुमत बरकरार रहा.

येडियुरप्पा ने यहां कहा, ‘‘अगले तीन-चार दिनों में मैं भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह (Amit Shah) और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) से मिलने दिल्ली जाऊंगा और जब वे निर्णय करेंगे, हम कैबिनेट विस्तार कर देंगे.’’

इस्तीफा देने वाले बनेंगे मंत्री
उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ‘‘जैसा कि मैंने आश्वासन दिया था - जो इस्तीफा देकर बाहर आ गए (कांग्रेस और जेडीएस से) और चुनावों में जीत हासिल की है, उन्हें मंत्री बनाना हमारी जिम्मेदारी है. मैंने इसे स्वीकार कर लिया है और इसे सौ फीसदी लागू करूंगा.’’

अयोग्य करार दिए गए 13 विधायकों में से 11 ने भाजपा की टिकट पर जीत हासिल की थी और उनके जल्द मंत्री बनने की संभावना है.

बहरहाल, येडियुरप्पा के लिए कैबिनेट विस्तार आसान काम नहीं होगा क्योंकि जीत हासिल करने वाले विधानसभा की सदस्यता से अयोग्य करार दिए गए विधायकों को मंत्रिमंडल में शामिल करना और पुराने नेताओं के लिए स्थान बनाने में संतुलन साधना होगा. पुराने नेता पहले कैबिनेट विस्तार में ‘‘उपेक्षा’’ से नाराज हैं.

ये होंगी चुनौतियांउनके सामने कैबिनेट में विभिन्न जातियों और क्षेत्रों का प्रतिनिधित्व बरकरार रखने की भी चुनौती होगी. कैबिनेट में पहले से ही मुख्यमंत्री सहित आठ लिंगायत, तीन वोक्कालिगा, अनुसूचित जाति के तीन, ओबीसी के दो, अनुसूचित जनजाति का एक और एक ब्राह्मण मंत्री शामिल है. क्षेत्रवार बात करें तो बेंगलुरू शहरी के चार और बेलगावी तथा शिवमोगा के दो-दो मंत्री हैं.

मुख्यमंत्री सहित वर्तमान में कैबिनेट में 18 मंत्री हैं जबकि नियमों के मुताबिक कैबिनेट में 34 मंत्री रह सकते हैं. पार्टी सूत्रों ने बताया कि कैबिनेट विस्तार का संकेत पाकर कई नए एवं पुराने विधायकों ने मुख्यमंत्री से मुलाकात की है.

उमेश कट्टी (आठ बार के विधायक) और थिपारेड्डी (छह बार के विधायक) जैसे वरिष्ठ भाजपा नेता मंत्री पद की दौड़ में आगे हैं. इन्हें पहले दौर के विस्तार में जगह नहीं दी गई थी.

ये भी पढ़ें-
पूर्व CJI आरएम लोढ़ा ने भी कहा- संविधान की मूलभावना के खिलाफ है सिटिजनशिप बिल

CAB को लेकर प्रियंका गांधी ने लिखा खुला खत, बीजेपी-संघ पर साधा निशाना

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 10, 2019, 9:53 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर