नहीं बढ़ाया गया सेना के लिए रक्षा बजट, आधुनिकीकरण से जुड़ी योजनाएं कैसे होंगे पूरी!

27.86 लाख करोड़ रुपये के साथ रक्षा आवंटन कुल केंद्रीय बजट का 10.95 प्रतिशत है. कुल केंद्रीय बजट में रक्षा बजट का हिस्सा वर्षों से लगातार गिर रहा है.

News18Hindi
Updated: July 5, 2019, 5:16 PM IST
नहीं बढ़ाया गया सेना के लिए रक्षा बजट, आधुनिकीकरण से जुड़ी योजनाएं कैसे होंगे पूरी!
कुल केंद्रीय बजट में रक्षा बजट का हिस्सा वर्षों से लगातार गिर रहा है.
News18Hindi
Updated: July 5, 2019, 5:16 PM IST
फाजिल खान

केंद्रीय वित्त और कॉरपोरेट मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को अपना पहला बजट पेश किया. इस बजट में उन्होंने रक्षा मंत्रालय को 4,31,011 करोड़ रुपए आवंटित किए.  इसी साल 1 फरवरी को आए अंतरिम बजट में प्रभारी वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने कहा था कि, ' देश का रक्षा बजट पहली बार तीन लाख करोड़ से अधिक है.'

इस सालफरवरी में बालाकोट हवाई हमले के बाद सरकार का यह पहला नियमित बजट है. बालाकोट हवाई हमले के बाद राष्ट्रीय सुरक्षा पर एक गंभीर चर्चा शुरू हुई जिसने आम चुनावों में राजनीतिक दावों और वादों को और अधिक हवा दी. अंतरिम बजट की तुलना में इस बजट में आवंटित राशि के संदर्भ में रक्षा बजट में 0.01 प्रतिशत की मामूली वृद्धि हुई है.

दूसरी ओर, संशोधित अनुमानों (आरई) पर 8.2 प्रतिशत और केंद्रीय बजट 2018-19 के बजट अनुमानों (बीई) के मुकाबले 9.3 प्रतिशत की वृद्धि है. रक्षा बजट ने पहली बार अंतरिम बजट में 3 लाख करोड़ रुपये का आंकड़ा पार किया था. ऐसी उम्मीद की जा रही थी कि सीतारमण पूर्व रक्षा मंत्री होने के नाते रक्षा के लिए बजट आवंटन में बढ़ोत्तरी करेंगी.

यह भी पढ़ें:  5 ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था के लक्ष्य को छूने की उम्मीद

यह है सुरक्षाबलों की जरूरत

वायु सेना को सोवियत युग के विमानों को बदलने के लिए सैकड़ों लड़ाकू विमानों और हेलीकॉप्टरों की सख्त आवश्यकता है, जबकि नौसेना ने हिंद महासागर में चीनी नौसेना की बढ़ती उपस्थिति का मुकाबला करने के लिए एक दर्जन से अधिक पनडुब्बियों की योजना बनाई है।
Loading...

सेना, जिसका एक बड़ा हिस्सा पारंपरिक दुश्मन पाकिस्तान के साथ सीमा पर तैनात है, हमला राइफल से लेकर निगरानी ड्रोन समेत बहुत कुछ चाह रहा है लेकिन तंगी से जूझ रहे सरकारी वित्त ने एक लंबे समय से नियोजित सैन्य आधुनिकीकरण कार्यक्रम में और देरी की है.

वित्त मंत्री के  दो घंटे लंबे बजट भाषण में रक्षा और राष्ट्रीय सुरक्षा के बारे में बहुत कम सुनने को मिला. सीतारमण ने संसद में अपने भाषण में घोषणा की कि सरकार ने रक्षा उपकरणों के आयात पर बुनियादी सीमा शुल्क  ने लगाने  का फैसला किया है.

यह भी पढ़ें: बिजनेस शुरू करने वालों को 59 मिनट में मिलेगा 1 करोड़ का लोन

रक्षा मंत्री ने कहा- 

रक्षा मंत्री ने कहा कि  'रक्षा के आधुनिकीकरण और अपग्रेडेशन की तत्काल आवश्यकता है. यह एक राष्ट्रीय प्राथमिकता है. इस उद्देश्य से भारत में निर्मित नहीं होने वाले रक्षा उपकरणों के आयात को मूल सीमा शुल्क से मुक्त किया जा रहा है.
10.95 फीसदी कुल बजट का हिस्सा

27.86 लाख करोड़ रुपये के साथ रक्षा आवंटन कुल केंद्रीय बजट का 10.95 प्रतिशत है,. अंतरिम बजट में आवंटित किए गए कुल राशि में 11 आधार अंकों की मामूली वृद्धि है. कुल केंद्रीय बजट में रक्षा बजट का कुल हिस्सा वर्षों से लगातार गिर रहा है.

उदाहरण के लिए, साल 2014-15 में कुल बजट में रक्षा बजट का प्रतिशत हिस्सा 11.69 प्रति वर्ष था, जो 2015-16 में 11.24 प्रतिशत घटने के बादसाल 2016-17 में बढ़कर 12.59 प्रतिशत हो गया. साल 2017-18 में यह बढ़कर 12.72 फीसदी हो गया. साल 2018-19 के बजट के संशोधित अनुमानों में, रक्षा आवंटन कुल बजट का 11.46 प्रतिशत आंका गया है.

यह भी पढ़ें: बजट: शुरू हुई ISRO की सहयोगी कंपनी, बेचेगी स्पेस प्रॉडक्ट्स

पाकिस्तान के मुकाबले 6 गुना ज्यादा

इस बीच, सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के अनुपात में रक्षा आवंटन, सकल घरेलू उत्पाद के 1.5-1.6 प्रतिशत की सीमा में वर्ष के दौरान 1.48 प्रतिशत और 2018 में 1.46 प्रतिशत के आंकड़े को छोड़कर लगातार स्थिर रहा है.

इसके अलावा, इस साल जून में पेश किए गए पाकिस्तान के रक्षा बजट (यूएस $ 7.27 बिलियन) के मुकाबले भारत का रक्षा बजट 44.6 बिलियन डॉलर से छह गुना अधिक है. हालांकि, यह चीन के रक्षा बजट (यूएस डॉलर में 177.6 बिलियन) और संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस डॉलर $ 716 बिलियन) की तुलना में मामूली है.

यह भी पढ़ें: मोदी सरकार 2.0 के पहले बजट में गांव, गरीब और किसानों पर जोर
First published: July 5, 2019, 5:15 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...