लाल कपड़े में बजट लाने पर चिदंबरम बोले- कांग्रेस के वित्त मंत्री आईपैड में लाएंगे Budget

चिदंबरम ने कहा कि 'यह न केवल अनुचित बल्कि अनैतिक भी है कि सरकार द्वारा सालाना कुल व्यय, कुल राजस्व तथा अतिरिक्त राजस्व प्रबंधन के आंकड़े जनता से छिपाने का प्रयास किया जा रहा है.'

News18Hindi
Updated: July 5, 2019, 5:41 PM IST
लाल कपड़े में बजट लाने पर चिदंबरम बोले- कांग्रेस के वित्त मंत्री आईपैड में लाएंगे Budget
रक्षा बजट के मुद्दे पर चिदंबरम ने कहा कि, रक्षा क्षेत्र में बजट के आवंटन को छिपाया गया है.
News18Hindi
Updated: July 5, 2019, 5:41 PM IST
मोदी सरकार 2.0 के पहले बजट पर मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने शुक्रवार को प्रेस वार्ता की. प्रेस वार्ता में मौजूद पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने कहा कि '2019-20 का ये बजट एक नीरस बजट है. यह एक ऐसा बजट है, जिसमें न तो कुल राजस्व, कुल खर्च, वित्तीय घाटा अथवा राजस्व घाटा का कोई जिक्र नहीं है; न ही मनरेगा, मिड डे मील तथा स्वास्थ्य देखभाल जैसी योजना के लिए धनराशि तय की गई है.'

प्रेस वार्ता के दौरान चिदंबरम ने ब्रिफकेस की जगह कपड़े में बजट लाने पर भी टिप्पणी की. चिदंबरम ने कहा - 'मैं यह कह रहा हूं कि भविष्य में कांग्रेस के वित्त मंत्री आईपैड में बजट लाएंगे.'

उन्होंने कहा कि 'वित्त मंत्री ने समाज के किसी भी तबके को राहत प्रदान नहीं की है. इसके उलट उन्होंने कई वस्तुओं पर कस्टम ड्यूटी बढा दी है. पेट्रोल-डीजल पर टैक्स में वृद्धि की गई है तथा करदाताओं पर भी टैक्स का बोझ बढ़ा दिया गया है.'

ढांचागत सुधार का कोई जिक्र नहीं

पूर्व वित्त मंत्री ने कहा कि 'बजट भाषण में किसी तरह के ढांचागत सुधार का कोई जिक्र नहीं है. मुख्य आर्थिक सलाहकार ने भारत के 5 खरब की अर्थव्यस्था बनने की बात कही, लेकिन इस बजट से सबसे अधिक निराशा उन्हें ही हुई होगी.' उन्होंने दावा किया कि 'मोदी सरकार पूरे भारत पर एक बड़ी राज्य सरकार के रूप में राज करना चाहती है और उसने राज्य सरकारों की जिम्मेदारियां भी छीन ली है. यह सहकारी संघवाद की भावना के खिलाफ है.'



यह भी पढ़ें:  3000 रुपए महीने पाने के लिए छोटे दुकानदार करें ये काम!
Loading...

चिदंबरम ने कहा कि 'प्रत्यक्ष कर कोड का इस बजट में कोई जिक्र नहीं है. इसके उलट सरकार द्वारा इनकम टैक्स एक्ट में व्यापक बदलाव लाए जा रहे हैं और ऐसा प्रतीत होता है कि प्रत्यक्ष कर कोड हाल फिलहाल में लागू नही किया जाएगा. '

राजस्व घाटे का कहीं कोई जिक्र नहीं

उन्होंने कहा कि 'पिछले साल 1,60,000 करोड़ का राजस्व घाटा हुआ था. इसका बजट में कहीं भी जिक्र नहीं है. लेकिन हम कैग रिपोर्ट के जरिए यह जानते हैं कि ऐसा हुआ है. पेट्रोल-डीजल पर टैक्स में वृद्धि तथा कस्टम टैक्स में बढ़ोतरी इसी राजस्व को बढ़ाने की नीयत से किया गया है.'

यह भी पढ़ें: लगातार गिर रहा Budget में Defence बजट का हिस्सा!

चिदंबरम ने कहा कि 'यह न केवल अनुचित बल्कि अनैतिक भी है कि सरकार द्वारा सालाना कुल व्यय, कुल राजस्व तथा अतिरिक्त राजस्व प्रबंधन के आंकड़े जनता से छिपाने का प्रयास किया जा रहा है.'

रक्षा क्षेत्र में बजट के आवंटन को छिपाया गया

रक्षा बजट के मुद्दे पर चिदंबरम ने कहा कि, रक्षा क्षेत्र में बजट के आवंटन को छिपाया गया है. रक्षा मंत्री ने देश की जनता को यह बताना भी उचित नहीं समझा कि इस वर्ष रक्षा के क्षेत्र में पिछले साल के मुकाबले बजट का आवंटन अधिक हुआ है या कम?'

यह भी पढ़ें:   5 ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था के लक्ष्य को छूने की उम्मीद

उन्होंने कहा कि 'आर्थिक सर्वेक्षण की रिपोर्ट बताती है कि कृषि विकास दर में लगातार गिरावट दर्ज की गई है। पिछले साल कृषि विकास दर 2.9% थी, लेकिन वित्त मंत्री जी ने इस मुद्दे पर कोई रोडमैप साझा नहीं किया है.'
First published: July 5, 2019, 5:36 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...