होम /न्यूज /राष्ट्र /

Budget 2021: 35 ट्रिलियन के बजट के लिए सरकार ने लिया बड़ा उधार, जानें क्या होगा GDP पर असर

Budget 2021: 35 ट्रिलियन के बजट के लिए सरकार ने लिया बड़ा उधार, जानें क्या होगा GDP पर असर

बुजुर्गों को यह ध्यान रखना होगा कि उनके जितने भी डिपॉजिट्स हैं, वह पेंशन अकाउंट वाली बैंक में ही हों.

बुजुर्गों को यह ध्यान रखना होगा कि उनके जितने भी डिपॉजिट्स हैं, वह पेंशन अकाउंट वाली बैंक में ही हों.

Budget 2021: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि एक अप्रैल से शुरू हो रहे अगले वित्त वर्ष में राजकोषीय घाटा सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का 6.8 प्रतिशत रहने का अनुमान है. ब्लूमबर्ग के एक सर्वेक्षण में यह 5.5% के पूर्वानुमान से अधिक है.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) द्वारा सोमवार को दी गई संघीय खर्च योजना, भारत की सबसे बहुप्रतीक्षित और बारीकी से देखी जाने वाली वार्षिक घटनाओं में से एक  है. इस वर्ष इसलिए भी क्योंकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार देश की सबसे गहरी मंदी से उबरने का प्रयास कर रही है.

    नया बजट आ गया है जब देश का आर्थिक क्षेत्र इस साल खराब ऋणों के कारण बढ़ते दबाव का सामना कर रहा है. देश की सीमा पर चीन के साथ तनाव, राजधानी दिल्‍ली में पिछले सप्‍ताह किसानों के बढ़ते गुस्‍से के कारण हालात गंभीर हैं. इसके बाद शुक्रवार को रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के रेट निर्णय का पालन होगा. इसके बाद योजना बनाने वालों से उम्‍मीद है कि वे दरों में कटौती करेंगे, क्‍योंकि मुद्रास्‍फीति में कमी है.

    वित्‍त मंत्री सीतारमण ने कहा, “सरकार सहायता और सुविधा देकर, भारतीय अर्थव्यवस्था को फिर से ठीक करने के लिए पूरी तरह से तैयार है. यह बजट हमारी अर्थव्यवस्था को स्थायी विकास की ओर आगे बढ़ाने में हर अवसर देता है, ताकि वह बढ़े और गति पकड़ सके.

    राजकोषीय घाटा, जीडीपी का 6.8 प्रतिशत रहने का अनुमान
    वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि एक अप्रैल से शुरू हो रहे अगले वित्त वर्ष में राजकोषीय घाटा सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का 6.8 प्रतिशत रहने का अनुमान है. ब्लूमबर्ग के एक सर्वेक्षण में यह 5.5% के पूर्वानुमान से अधिक है. हालांकि, चालू वित्त वर्ष में राजकोषीय घाटा बढ़कर 9.5 प्रतिशत के ऊंचे स्तर पर पहुंच सकता है, जो कि 3.5% नियोजित किया गया था.

    बजट में बड़ी राशि 35 ट्रिलियन का प्रावधान
    भारत ने अपने बजट में बड़ी राशि 35 ट्रिलियन का प्रावधान किया है. यह करीब आधी ट्रिलियन डॉलर है, क्‍योंकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार एशिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्‍यवस्‍था को महामारी से प्रेरित मंदी से बाहर निकालना चाहती है.

    इसका उद्देश्य देश की वित्तीय स्थिरता को बढ़ाना
    खर्च, घाटा और उधार की आशंका से कहीं अधिक होने के साथ साथ सरकारी संपत्तियों की बिक्री, सरकारी संस्‍थाओं के लाभांश से बना बजट जो करीब 35 ट्रिलियन रूपए का है. इससे बांड्स और स्‍टॉक्स अछूते नहीं हैं. इसका उद्देश्य देश की वित्तीय स्थिरता को बढ़ाना और खराब ऋणों के बढ़ते ढेर का प्रबंधन करने के लिए कंपनी की स्थापना करना भी है.

    Tags: 2021 budget, Budget 2021, Modi Govt, Nirmala Sitaraman, PM Modi

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर