बुराड़ी डेथ मिस्ट्री: श्मशानों का चक्कर लगाते थे ललित, मोबाइल पर देखते थे भूतों के वीडियो

क्राइम ब्रांच के अधिकारी ने बताया कि प्रियंका ने फेसबुक पर घोस्ट (भूत) पेज के साथ आध्यात्मिक, ज्योतिष और मोटिवेशनल विचारों वाले पेज को लाइक किया था.

पीटीआई
Updated: July 7, 2018, 9:05 AM IST
बुराड़ी डेथ मिस्ट्री: श्मशानों का चक्कर लगाते थे ललित, मोबाइल पर देखते थे भूतों के वीडियो
भाटिया परिवार
पीटीआई
Updated: July 7, 2018, 9:05 AM IST
दिल्ली के बुराड़ी में 11 लोगों की मौत के रहस्य को सुलझाने में जुटी क्राइम ब्रांच को शक है कि भूतों और आत्माओं में दिलचस्पी रखने वाले ललित भाटिया ने श्मशान घाट का दौरा किया था.

क्राइम ब्रांच की यह थ्योरी संत कबीर नगर के घर से मिले रजिस्टर की एक एंट्री पर आधारित है. पुलिस ने शुक्रवार को बताया कि रजिस्टर की हैंडराइटिंग ललित की भांजी प्रियंका की है.



क्राइम ब्रांच के अधिकारी ने बताया कि प्रियंका ने फेसबुक पर घोस्ट (भूत) पेज के साथ आध्यात्मिक, ज्योतिष और मोटिवेशनल विचारों वाले पेज को लाइक किया था.

अधिकारी ने बताया कि ललित अपने मोबाइल पर यूट्यूब और अन्य इंटरनेट प्लेटफॉर्म पर भूतों और मौत के रहस्यों से जुड़े वीडियो देखता था.

मामले की जांच के लिए क्राइम ब्रांच की एक टीम राजस्थान के उदयपुर भी पहुंची थी जहां 11 मृतकों में शामिल ललित की पत्नी टीना का मायका है.

ये भी पढ़ें: बुराड़ी डेथ मिस्ट्रीः रिश्तेदार को साजिश का शक, कहा- 'वो पढ़े-लिखे लोग थे, अंधविश्वासी नहीं'

एक सीनियर अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर कहा कि क्राइम ब्रांच यह जानना चाहती थी कि टीना ने अपने परिवारवालों से ललित की गतिविधियों के बारे में कोई बात की या नहीं. अधिकारी ने बताया कि यह ललित और अन्य परिवार के सदस्यों की प्रकृति का विश्लेषण करने में मदद करेगा.
Loading...

इसके अलावा क्राइम ब्रांच ने उन 13 मेहमानों के बयान दर्ज किए हैं, जो 16 जून को हुई प्रियंका की सगाई की वजह से घर में 10 दिन तक रहे थे. मेहमानों के लौटने के बाद ही ललित ने 24 जून से अनुष्ठान शुरू किए थे, जो 11 सदस्यों की मौत के साथ खत्म हुआ.

ये भी पढें: बुराड़ी केस: एक रिश्तेदार ने कहा- दुनिया हमें तंत्र-मंत्र करने वाले परिवार के रूप में देख रही है

अधिकारी ने कहा, "ये रिश्तेदार बता सकते हैं कि परिवार के साथ रहने के दौरान उन्हें क्या लगा, खास तौर से इन 10 दिनों में ललित का व्यवहार कैसा था.”

वहीं क्राइम ब्रांच ने तांत्रिक गीता मां को क्लीन चिट्ट दे दी है, जो कि परिवार के संपर्क में थी. मामले मे गीता मां का नाम सामने आने के बाद मीडिया का एक वर्ग उनकी भागीदारी का दावा कर रहा था.

वहीं जांचकर्ता इस बात से सहमत नजर आ रहे हैं कि यह अनुष्ठान के दौरान साझा मनोविकार से पीड़ित लोगों की सामूहिक आत्महत्या का मामला है.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...