बुराड़ी केस में बड़ा खुलासा- फांसी से हुई थी 10 सदस्यों की मौत, 11वें पर सस्पेंस

पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलने के बाद पुलिस अब साइकोलॉजिकल अटॉप्सी कराएगी. इससे यह पता लगाया जाएगा कि उन्होंने 'वट तपस्या' जैसा कदम क्यों उठाया.

News18Hindi
Updated: July 11, 2018, 3:13 PM IST
बुराड़ी केस में बड़ा खुलासा- फांसी से हुई थी 10 सदस्यों की मौत, 11वें पर सस्पेंस
भाटिया परिवार के सभी 10 सदस्यों की मौत फांसी पर लटकने से हुई थी.
News18Hindi
Updated: July 11, 2018, 3:13 PM IST
दिल्ली के बुराड़ी में एक ही परिवार के 11 सदस्यों की मौत के मामले में 10 सदस्यों की पोस्टमार्टम की रिपोर्ट आ गई है. रिपोर्ट के मुताबिक, संत नगर में रहने वाले भाटिया परिवार के सभी 10 सदस्यों की मौत फांसी पर लटकने से हुई थी. उनके शरीर पर जख्म या चोट के कोई निशान नहीं मिले हैं. वहीं, परिवार के सबसे बुजुर्ग सदस्य नारायणी देवी की मौत संदिग्ध मानी जा रही है. उनकी पोस्टमार्टम रिपोर्ट में सभी डॉक्टर्स की राय मेल नहीं खा रही. इसलिए फिलहाल नारायणी देवी की पोस्टमार्टम रिपोर्ट रोकी गई है.

बुराड़ी के 11 लोगों की मौत के पीछे क्या है घर में लगे 11 पाइप का कनेक्शन!

इस मामले में मंगलवार को डॉक्टर्स की टीम ने भाटिया परिवार के घर भी पहुंची थी. जिस कमरे में नारायणी देवी की लाश पड़ी थी, उस जगह का मुआयना किया गया. अब डॉक्टर्स की टीम आपस में बातचीत के बाद फाइनल पोस्टमार्टम रिपोर्ट देगी.

अब होगी साइकोलॉजिकल अटॉप्सी

पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलने के बाद पुलिस अब साइकोलॉजिकल अटॉप्सी कराएगी. इससे यह पता लगाया जाएगा कि उन्होंने 'वट तपस्या' जैसा कदम क्यों उठाया. 11 लोगों की मौत के सिलसिले में पुलिस ने 200 से ज्यादा लोगों से पूछताछ की है. सूत्रों ने बताया कि मृतकों में से एक प्रियंका भाटिया के मंगेतर से पुलिस ने दोबारा बंद कमरे में करीब तीन घंटे की पूछताछ की. उन्होंने बताया कि उसने परिवार के किसी भी रीति-रिवाज में शामिल होने की जानकारी होने से इनकार किया

बुराड़ी केस: अब तक घर से मिले 20 रजिस्टर, 7 दिन की पूजा-रिहर्सल के बाद परिवार ने लगाई फांसी

तंत्र-मंत्र के चक्कर में था पूरा परिवार
दिल्ली के बुराड़ी इलाके के संतनगर में एक घर से एक साथ 11 लाशें मिलने के मामले में हर दिन नई-नई बातें सामने आ रही हैं. पूरा परिवार 'मोक्ष प्राप्ति' और मृत पिता से मिलने के लिए तंत्र-मंत्र और कथित धार्मिक अनुष्ठान कर रहा था. मोक्ष प्राप्ति की एक प्रक्रिया के तौर पर परिवार ने मास सुसाइड किया. इसके लिए परिवार के दो सदस्यों घर के बगल वाली फर्नीचर की शॉप से प्लास्टिक के स्टूल और तार खरीदे थे.



ललित के कहने पर बाकी लोगों ने लगाई फांसी
पुलिस का कहना है कि घर का छोटा बेटा होने की वजह से ललित भाटिया अपने पिता भोपाल सिंह का लाड़ला था और उनके बेहद करीबी था. पिता की मौत का असर उसपर सबसे ज्यादा पड़ा. ललित सदमे में था. पास-पड़ोस के लोगों ने पुलिस को बताया कि एक हादसे में ललित की आवाज चली गई थी. काफी इलाज के बाद आवाज नहीं लौटी. तब से वह अपनी बातें लिखकर बताने लगा. परिवार के करीबियों के मुताबिक, इसी दौरान ललित ने परिवार को बताया कि पिता भोपाल सिंह उसे दिखाई देते हैं और बातें करते हैं.

बुराड़ी केस: सामने आया एक और चौंकाने वाला वीडियो, परिवार के लोग जुटाते दिखे मौत का सामान

पुलिस को मिले हैंड नोट्स
पुलिस को कुछ और हाथ से लिखे नोट्स भी मिले हैं, जिनसे पता चलता है कि किस तरह सामूहिक खुदकुशी की पूरी योजना बनाई गई. 30 जून 2018 की आखिरी एंट्री इस घटना का राज़ खोलती है. डायरी में अंतिम एंट्री में एक पन्ने पर लिखा है 'घर का रास्ता. 9 लोग जाल में, बेबी (विधवा बहन) मंदिर के पास स्टूल पर, 10 बजे खाने का ऑर्डर, मां रोटी खिलाएगी, एक बजे क्रिया, शनिवार-रविवार रात के बीच होगी, मुंह में ठूंसा होगा गीला कपड़ा, हाथ बंधे होंगे.' इसमें आखिरी पंक्ति है- 'कप में पानी तैयार रखना, इसका रंग बदलेगा, मैं प्रकट होऊंगा और सबको बचाऊंगा.'

बुराड़ी केस: लाशों पर नहीं मिले संघर्ष के निशान, PM रिपोर्ट में ये है मौत की वजह

भाटिया परिवार को था 'शेयर्ड साइकोटिक डिसऑर्डर'
एक पुलिस अधिकारी का कहना है कि ललित के निर्देशों के मुताबिक काम करने पर परिवार की काफी तरक्की भी हुई थी. इसलिए इस कथित 'मोक्ष प्रक्रिया' पर किसी ने सवाल नहीं उठाया. मनोवैज्ञानिकों का कहना है कि पूरा परिवार 'शेयर्ड साइकोटिक डिसऑर्डर' का शिकार था. इस बीमारी से पीड़ित शख्स को किसी मरे हुए या तीसरे शख्स की आवाज सुनाई देने और उसे देखने का वहम हो जाता है. फिर ऐसा शख्स उसी के कहे मुताबिक काम करने लगता है. हालांकि, परिवार के रिश्तेदार और राजस्थान में रहने वाला भाई दिनेश ऐसी बातों को खारिज कर रहे हैं. दिनेश के मुताबिक, ये सब कुछ मीडिया ने प्रचार किया है.

और भी देखें

Updated: September 19, 2018 10:54 AM ISTVIDEO- संघ प्रमुख मोहन भागवत की दो टूक, मुसलमानों से परहेज हिंदुत्व नहीं
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर