अनोखी पहलः यहां बस को बनाया गया चलता फिरता कोरोना वैक्सीनेशन सेंटर

इसका मुख्य उद्देश्य लोगों को जल्द से जल्द वैक्सीन उपलब्ध करवाना है.

इसका मुख्य उद्देश्य लोगों को जल्द से जल्द वैक्सीन उपलब्ध करवाना है.

हाकिम ने पोस्ता बाजार में इस पहल की शुरुआत करने के बाद पत्रकारों से कहा, ‘‘चूंकि ये लोग कई घंटों के लिए अपने काम को छोड़कर टीकाकरण केंद्र नहीं जा सकते इसलिए हमने इस सुविधा को उनके पास तक पहुंचाने का फैसला किया.’’

  • Share this:

कोलकाता. कोलकाता में एक बस को कोविड टीकाकरण केंद्र में तब्दील किया गया है जो सब्जी और मछली विक्रेताओं समेत प्राथमिकता समूह में आने वाले लोगों को टीका लगाने के लिए शहर के विभिन्न बाजारों में जाएगी.

राज्य के मंत्री फिरहाद हाकिम ने बताया कि कोलकाता नगर निगम (केएमसी) ने पश्चिम बंगाल सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवहन विभागों के सहयोग से बृहस्पतिवार को ‘वैक्सीनेशन ऑन व्हील्स’ पहल शुरू की गई. विभिन्न बाजारों में प्राथमिकता वाले समूहों को टीका लगाने के लिए परिवहन विभाग द्वारा वातानुकूलित बस उपलब्ध करायी गई है.

क्यों कोविड सेंटर में तब्दील की गई बस

हाकिम ने पोस्ता बाजार में इस पहल की शुरुआत करने के बाद पत्रकारों से कहा, ‘‘चूंकि ये लोग कई घंटों के लिए अपने काम को छोड़कर टीकाकरण केंद्र नहीं जा सकते इसलिए हमने इस सुविधा को उनके पास तक पहुंचाने का फैसला किया.’’
पोस्ता बाजार शहर में सब्जियों और किराने के सामान का सबसे बड़ा थोक बाजार है. उन्होंने कहा कि इस उद्देश्य के लिए इस्तेमाल की जाने वाली बसों की संख्या जल्द ही बढ़ायी जाएगी. उन्होंने कहा, ‘‘कई बसें उपलब्ध हैं और इनका इस्तेमाल कर हम बाजारों में भी लोगों को टीका लगा सकते हैं.’’

2021 के अंत तक भारत में हो जाएगा फुल वैक्सीनेशन

भारत में टीकाकरण के लिए एक नेशनल एक्सपर्ट ग्रुप बनाया गया. देश को बताया गया कि अगस्त 2021 तक भारत में कुल 30 करोड़ लोगों को वैक्सीन की दोनों डोज लगा दी जाएगी, यानी कुल 60 करोड़ वैक्सीन भारत के पास होगी.




एक्सपर्ट ग्रुप का शायद ऐसा मानना था कि 30 करोड़ लोगों को टीका लगा देने से भारत कोरोना संक्रमण पर विजय पा लेगा. आंकड़ों के अनुसार 28 मई 2021 तक 120,656,061 लोगों को वैक्सीन की पहली डोज़ और 4,41,23,192 लोगों को दोनों डोज़ लग चुकी हैं. भारत में कोवैक्सीन और कोविशील्ड को सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन (CDSCO) द्वारा इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी मिली है और वर्तमान में यही लोगों को लगाई जा रही है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज