सामान्य व्यापारिक संबंधों के लिए सीमा पर शांति जरूरी: विदेश सचिव

सामान्य व्यापारिक संबंधों के लिए सीमा पर शांति जरूरी: विदेश सचिव
विदेश सचिव हर्षवर्द्धन श्रृंगला

विदेश सचिव हर्षवर्द्धन ऋृंगला (Foreign Secretary Harsh V Shringla) इंडियन काउंसिल ऑफ वर्ल्ड अफेयर्स (Indian Council of World Affairs- ICWA) की एक वेबिनार में अपनी बात रख रहे थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 4, 2020, 9:44 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. विदेश सचिव हर्षवर्द्धन ऋृंगला (Foreign Secretary Harsh V Shringla) ने कहा है कि जब तक सीमा पर शांति नहीं हो जाती तब तक भारत और चीन के बीच व्यापार सामान्य (Business Can't Go on As Usual) नहीं हो सकता. उन्होंने कहा कि सीमाई इलाकों में अशांति और व्यापार साथ-साथ नहीं चल सकते.

श्रृंगला ने कहा है कि भारत-चीन के बीच विवाद की स्थिति इस बार अभूतपूर्व है. 1962 के युद्ध के बाद पहली बार इतनी गंभीर स्थितियां पैदा हुई हैं. उन्होंने कहा-हमने अपने जवानों की जिंदगी पहली बार खोई. ये पिछले चालीस सालों में नहीं हुआ था. श्रृंगला इंडियन काउंसिल ऑफ वर्ल्ड अफेयर्स (Indian Council of World Affairs- ICWA) की एक वेबिनार में अपनी बात रख रहे थे.

सीमा पर शांति और व्यापार प्रक्रिया के बीच सीधा संबंध 
उन्होंने कहा-हमारा बिजनेस तब तक सामान्य नहीं हो पाएगा जब तक सीमा पर शांति नहीं होती. अशांति से सामान्य द्विपक्षीय समझौते बाधित होते हैं. सीमा पर शांति और व्यापार प्रक्रिया के बीच सीधा संबंध है. हम अपनी सीमाओं की संप्रभुता के साथ कोई समझौता नहीं कर सकते.
भारत ने सीमा विवाद को लेकर अपनाया बेहद सख्त रुख


गौरतलब है कि भारत और चीन के बीच बीते चार महीने से सीमा पर विवाद बना हुआ है. 15 जून को गलवान घाटी की घटना के बाद ये विवाद और भी ज्यादा बढ़ गया. भारत ने अपनी सीमाओं की सुरक्षा को लेकर बेहद सख्त रुख अख्तियार किया है. इसी क्रम में कई चीनी कंपनियों के टेंडर भी समाप्त किए गए हैं. भारत ने 224 चीनी ऐप्स प्रतिबंध लगाया है. भारत ने चीन के सामने बिल्कुल साफ कर दिया है जब तक सीमाओं पर पहले जैसी स्थिति बहाल नहीं होगी, संबंध सामान्य नहीं होंगे. भारत ने अपनी तरफ से सीमा विवाद के हल के लिए पूरी प्रतिबद्धता बार-बार जाहिर की है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज